शहरों में बिगड़ते स्वास्थ्य पर ध्यान देने की जरूरत: डब्लूएचओ

By: | Last Updated: Thursday, 12 February 2015 4:25 PM
WHO_city_

कोलकाता: विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने शहरी क्षेत्रों में लोगों के बिगड़ते स्वास्थ्य पर चेतावनी जारी की है. रहन-सहन और जीवन प्रत्याशा के मद्देनजर इस पर तत्काल ध्यान देने की जरूरत पर बल दिया गया.

 

डब्ल्यूएचओ में शहरी स्वास्थ्य के तकनीकी अधिकारी पॉल रोजेनबर्ग ने कहा कि 2050 तक भारत में 50 फीसदी से ज्यादा शहरीकरण हो जाएगा और चीन एवं नाइजीरिया को मिलकर यह विश्व का 37 फीसदी शहरीकरण होगा.

 

उन्होंने कहा, “ग्रामीण पृष्ठभूमि से मजदूरों और कामगारों का शहरों में पलायन शहरी गरीबी को बढ़ता है और शहरीकरण भी बिगड़ते स्वास्थ्य के लिए उत्तरदायी है.”

 

रोजनबर्ग ने डब्ल्यूएचओ के 14वें वर्ल्ड कांग्रेस ऑन पब्लिक हेल्थ के साउथ ईस्ट एशिया रीजनल ऑफिस वर्कशॉप के दौरान कहा, “यह लोक स्वास्थ्य के लिए एक बड़ी चेतावनी है, जहां लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिल रही हैं. इस मुद्दे पर जल्द से जल्द ध्यान दिए जाने की जरूरत है.”

 

कार्यशाला के दौरान लोक स्वास्थ्य कार्यक्रमों में सामाजिक निर्धारकों को शामिल किए जाने पर प्रकाश डाला गया.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: WHO_city_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: city WHO
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017