कल सलमान को जेल या बेल?

By: | Last Updated: Thursday, 7 May 2015 3:35 PM
will salman khan get bail?

नई दिल्ली: बुधवार की दोपहर सेशंस कोर्ट ने सलमान को हिट एंड रन मामले में 5 साल का सजा सुनाई और शाम होते होते सलमान को अंतरिम जमानत मिल गई लेकिन ये राहत सिर्फ 48 घंटों के लिए मिली है शुक्रवार को हाईकोर्ट में सलमान की जमानत पर सुनवाई होनी है. कल इस बात पर फैसला होना है कि सलमान जेल जाएंगे या फिर बेल पाएंगे.

 

बुधवार सुबह 9 बजकर 45 मिनट पर सलमान मुंबई में अपने घऱ से कोर्ट के लिए रवाना हुए थे. लेकिन पांच साल की सजा मिलने के बाद भी वो शाम साढ़े सात बजे अपने घर गैलेक्सी अपार्टमेंट वापस लौट आए.

 

बुधवार को कटघरे में खड़े सलमान ने कई घंटे इस इंतजार में बिताए थे कि वो शाम को घर लौट पाएंगे या नहीं. लेकिन साल 2002 के हिट एंड रन मामले में गैर इरादतन हत्या का दोषी करार दिए जाने के बावजूद सलमान को अंतरिम जमानत को मिल गई हालांकि सलमान को मिली ये राहत सिर्फ 48 घंटों के लिए है.

 

शुक्रवार को दोबारा हाईकोर्ट में सलमान की जमानत पर सुनवाई होनी है. सुनवाई के लिए सलमान का कोर्ट जाना जरूरी नहीं है. मतलब ये कि शुक्रवार को भले ही सलमान के कटघरे में खड़े होने की नौबत ना आए लेकिन घर पर भी फैसला आने तक सलमान के लिए हर पल बेहद मुश्किल साबित होने वाला है.

 

बॉम्बे हाईकोर्ट में शुक्रवार की सुनवाई में ये फैसला हो जाएगा कि सलमान जेल की सलाखों के पीछे जाएंगे या फिर जमानत लेकर छुटकारा पाएंगे. लेकिन इस फैसले के पहले सलमान खान की अतंरिम जमानत पर सवाल खड़े हो गए हैं.

 

हिट एंड रन मामले में याचिकाकर्ता रहीं वकील आभा सिंह ने कानून का हवाला देते हुए सलमान को हाईकोर्ट से मिली अंतरिम जमानत पर सवाल खड़े किए हैं. आभा सिंह बताती हैं कि सलमान खान को कल जिस तेजी से बेल दी गई उसमें कई कानूनी खामियां हैं. क्योंकि सलमान खान सजा आने के पहले तक आरोपी थे. उनको 437 के तहत जमानत मिली हुई थी लेकिन कल जब उन्हें पांच साल की सजा हो गई तो वो एक दोषी हो गए. दोषी को 389 CRPC के तहत suspention of sentence के लिए मूव करना पड़ता है हाईकोर्ट को लीगली सही ढंग से suspention of sentence करना था लेकिन बॉम्बे हाईकोर्ट ने उनको एक्सटेंशन ऑफ बेल दे दिया. सलमान को बेल हो ही नहीं सकती.

 

दरअसल बुधवार दोपहर करीब सवा एक बजे सेशंस कोर्ट ने सलमान को पांच साल की सजा सुनाई. और इधर सलमान के वकीलों ने हाईकोर्ट में जमानत की अर्जी लगा दी. हाईकोर्ट में शाम 4 बजे सुनवाई का वक्त तय हुआ था.. साढ़े चार बजे सुनवाई शुरू हुई. 20 मिनट के अंदर सलमान को हाईकोर्ट से दो दिन की अंतरिम जमानत मिल गई.

 

लेकिन इसी तरह के मामले में मुंबई बम कांड में दोषी संजय दत्त को 6 साल की सजा मिली थी लेकिन 20 दिन बाद संजय दत्त को बेल मिली थी. जबकि तमिलनाडु की पूर्व सीएम जयललिता को भी संपत्ति मामले में अंतरिम जमानत नहीं दी गई थी. सलमान की अंतरिम जमानत पर सवाल हो रहे हैं लेकिन सरकारी वकील उज्जवल निकम इसे सलमान खान का अच्छा होमवर्क बता रहे हैं.

 

सरकारी वकील उज्जवल निकम बताते हैं कि ये कोई अनोखी चीज नहीं थी अगर कोई अपराधी हो और उसे फैसले के बाद तुरंत कॉपी नहीं मिलती है तो प्रिंसिपल ऑफ नैचुरल जस्टिस के आधार पर उसको हिरासत में लेना भी उस दिन गलत था. और इसलिए इस वजह से उसे कोर्ट में अंतरिम जमानत मिली. इसका मतलब साफ है कि सलमान खान का होमवर्क अच्छा था. सलमान खान ने पूरी तैयारी करके रखी थी कि अगर फैसला खिलाफ जाएगा तो क्या किया जाए. उसमें थोड़ी कमियां प्रॉसीक्यूशन में रह गईं.

 

अंतरिम जमानत की पूरी कहानी फैसले की कॉपी के आसपास घूम रही है. सलमान को फैसले की कॉपी नहीं मिली और इसी को आधार बनाते हुए उन्हें हाईकोर्ट से अंतरिम जमानत मिल गई.

 

लेकिन सलमान को मिली अंतरिम जमानत सुप्रीम कोर्ट के उस फैसले के खिलाफ दिख रही है जो 25 साल पहले दिया गया था. टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी रिपोर्ट के मुताबिक 25 साल पहले allauddin milan vs state of bihar मामले में सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया था कि निचली अदालतें एक ही दिन दोष औऱ सजा का एलान नहीं करेंगी. जैसा कि सलमान के केस में हुआ.

 

सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि आरोपी को दोषी करार देने के बाद सजा का एलान दूसरे दिन किया जाए ताकि दोषी और सरकारी वकील दोनों को इतना वक्त मिले कि सजा कितनी हो इस पर दलीलें पेश कर सकें. और अगर ऐसा होता है तो निचली अदालत को अपना फैसला बदलना पड़ेगा.

 

वहीं सरकारी वकील उज्जवल निकम के मुताबिक अगर सलमान खान की सजा एक दिन के टल गई होती तो तस्वीर कुछ और हो सकती थी जैसा कि अभिनेता संजय दत्त के केस में हुआ था.

 

संजय दत्त के फैसले के वक्त भी अपने कोर्ट में दरख्वास्त की थी कि आप जजमेंट ऑफ कनविक्शन और जजमेंट और सेंटेस दोनों तैयार रखिएगा. कोर्ट ने कहा था कि हम दोनों तैयार रखेंगे. जज साहब ने फैसला एक दिन टाल दिया. और आरोपी को कॉपी मिल गई.

 

अब सवाल ये है कि शुक्रवार को अदालत में सलमान की किस्मत का क्या फैसला होगा. फैसले की कॉपी के साथ नए सिरे से सलमान की जमानत अर्जी पर सुनवाई होनी है.

 

बचाव पक्ष और सरकारी वकील दोनों पक्ष अपनी दलीलें पेश करेंगे. सलमान के वकीलों को ये बताना होगा कि ट्रायल कोर्ट का जजमेंट किस तरह से गलत है. जो सुबूत कोर्ट में पेश किए गए वो सुबूत किस तरह से गलत हैं ये सलमान की पहली परीक्षा होगी अगर सलमान इसमें पास कर गए तो दूसरी परीक्षा ये होगी कि सलमान की जमानत क्यों ना बरकरार रखी जाए.

 

इस पर प्रॉसीक्यूशन यानि सरकारी वकील विरोध कर सकता है प्रॉसीक्यूशन ये दलील दे सकता है कि जिस धारा में सलमान खान को दोषी पाया गया है वो बड़ी धारा है और इसी वजह से इस मामले में ट्रायल 13 साल लंबा खिंचा है.

 

दलीलें दोनों तरफ से पेश होंगी. लेकिन किसकी दलील काम करेगी ये हाईकोर्ट के फैसले के बाद साफ हो जाएगा लेकिन तब तक सलमान को सिर्फ इंतजार करना होगा.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: will salman khan get bail?
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: salman convicted Salman Khan
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017