LIVE : हंगामे के बीच असहिष्णुता पर चर्चा जारी, बयान पर अड़े सलीम

By: | Last Updated: Monday, 30 November 2015 4:30 AM

नई दिल्लीः आज लोकसभा में असहिष्णुता पर बहस शुरू हो गई. सरकार भी बहस के लिए तैयार है. लेकिन ‘हिंदू शासक’ को लेकर सीपीएम नेता सलीम की बयान पर पहले राजनाथ सिंह और फिर बीजेपी सांसद भड़क गए. इसे लेकर काफी हंगामा हुआ. हंगामें के बाद लोकसभा को दो बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया. इसके दोबारा शुरू होने पर भी हंगामा जारी रहा. सांसद सलीम ने बयान वापस लेने से मना कर दिया. इसपर हंगामें के बीच कार्यवाही फिर स्थगित कर दी गई.

 

यह भी पढ़ें :

‘हिंदू शासक’ बयान पर राजनाथ ने कहा, ऐसा कहा होता तो पद पर नहीं होता

आमिर को सरकार की नसीहत

 

इससे पहले लोकसभा अध्यक्षा सुमित्रा महाजन ने कई दफा बीच-बचाव की कोशिश की. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि इस मामले को लेकर कोई भी बात संसद कि रिकार्ड में दर्ज नहीं की जाएगी. सुबह कार्यवाही शुरू होते ही संसद में पेरिस हमले को लेकर निंदा प्रस्ताव पास किया गया. रूसी यात्री विमान को गिराने की भी निंदा की गई.

 

यह भी पढ़ें :

असहिष्णुता पर चिदंबरम ने कांग्रेस की हवा निकाली : रिजिजू 

राज्यसभा में मायावती ने की अगड़ों को आर्थिक आधार पर आरक्षण की वकालत

 

इस बीच सरकार ने काम रोककर असहिष्णुता पर बहस की कांग्रेस की मांग नामंजूर कर दी है. सीपीएम सांसद मोहम्मद सलीम इस मसले पर संबोधन दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि असहिष्णुता खुल्लम-खुल्ला चल रही है. उन्होंने कहा कि असहिष्णुता पर पीएम चुप क्यों हैं.  पीएम मोदी के ‘मन की बात’ पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि सरकार केवल ‘आउटगोइंग कॉल’ पर चल रही है, जबकि ‘इनकमिंग कॉल’ की भी जरूरत है.

 

यह भी पढ़ें :

अभिव्यक्ति की आजादी पर रोक अब ‘खतरनाक’ मोड़ पर: नंदिता दास 

आमिर को सरकार की नसीहत 

 

दादरी कांड पर भी उन्होंने सरकार को घेरा. संसद में उस समय हंगामा मच गया जब सलीम ने कहा कि ‘राजनाथ सिंह ने कहा था कि 800 साल बाद भारत में हिंदू शासक आया है.’ इस पर राजनाथ सिंह नाराज हो गए और उन्होंने सलीम से माफी मांगने की बात कही. इस पर दोनों पक्षों में जमकर बहसबाजी हुई.  सलीम लगातार पत्रिका आउटलुक के लेख का उल्लेख करते रहें.

 

यह भी पढ़ें : 

आमिर को चिंता करने का पूरा हक: अपर्णा सेन

आमिर के बाद अब बोले सोनू कहा, ‘सभी को बात कहने का हक, सिवाय सेलिब्रिटी के’ 

 

लोकसभा में इस मुद्दे पर संसद में नियम 193 के तहत बहस हो रही है. इस नियम में बहस के बाद वोटिंग का प्रावधान नहीं है. सूत्रों के मुताबिक कुछ पार्टियां नियम 184 के तहत बहस चाहती थी ताकि सरकार को कटघरे में खड़ा किया जा सके.

 

यह भी पढ़ें :

”सबसे ज्यादा बदनाम होते हैं सेलिब्रिटी”

यदि आमिर विदेश में बसते हैं तो हम उन्हें वापस ले आयेगें: अठावले 

 

इस नियम में वोटिंग का प्रावधान है. विपक्ष चाहता है कि पीएम बहस का जवाब दें. सरकार इसके लिए तैयार नहीं है. महेश शर्मा और गिरीराज सिंह जैसे मंत्रियों के बयानों को विपक्ष मुद्दा बना सकता है यहां तक कि उनके इस्तीफे की मांग भी उठ सकती है. हालांकि टीएमसी जैसी पार्टी संसद चलने देने की वकालत कर रही हैं.

 

यह भी पढ़ें :

हम ज्यादा फोटो खिंचवाने वाले लोग हैं इसलिए सबसे ज्यादा बदनाम भी हैं: अमिताभ 

रिलीज से पहले सोशल साइट्स पर हो रहा है शाहरुख़ की ‘दिलवाले’ का विरोध ! 

 

लोकसभा में आज चर्चा हो रही है जबकि राज्यसभा में संविधान पर चर्चा हो रही है. राज्यसभा में भी असहनशीलता पर बहस होनी है जहां सरकार अल्पमत है. इसके अलावा देश में एक टैक्स वाले जीएसटी बिल समेत तमाम बिल अटके पड़े हैं और पीएम मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की तरफ हाथ बढ़ा दिया है.

 

यह भी पढ़ें :

EXCLUSIVE: आमिर खान विवाद पर शाहरूख ने तोड़ी चुप्पी

भारत लौटते ही आमिर खान के विवाद पर बोलीं प्रियंका चोपड़ा 

ब्राह्मणवाद को बढ़ावा दे रही मोदी सरकार: अरूंधति रॉय

आमिर खान ने अदा किया लगान 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Winter Session: Modi govt readies for tough week in Parliament
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017