women in distress should call on these numbers।किसी भी हिंसा की शिकार महिलाएं इन नंबरों पर करें कॉल..

किसी भी हिंसा की शिकार महिलाएं डरे नहीं, इन नंबरों पर करें कॉल, सरकार मदद को है तैयार

देश में इस समय आम जनता की सुविधा के लिए कई हेल्पलाइन नंबर बनाई गई हैं. इन नंबरों का इस्तेमाल करके महिलाएं अपनी समस्याएं दूर कर सकती है. अब उन्हें डरने की जरूरत नहीं है.

By: | Updated: 09 Dec 2017 11:17 AM
women in distress should call on these numbers

नई दिल्ली: देश में इस समय आम जनता की सुविधा के लिए तमाम तरीके की हेल्पलाइन नंबर बनाई गई हैं.  इनमें महिलाओं का खास खयाल रखा गया है. इन नंबरों का इस्तेमाल करके महिलाएं अपनी समस्याएं हल कर सकती हैं. अब उन्हें डरने की जरूरत नहीं है.


देश में इस समय कई पुलिस हेल्पलाइन जैसे एंबुलेंस हेल्पलाइन, महिला हेल्पलाइन, पुलिस हेल्पलाइन, फायर ब्रिगेड हेल्पलाइन जैसे कई हेल्पलाइन नंबर मौजूद हैं. इसमें से कई सारे राज्य स्तरीय हेल्पलाइन हैं तो कई केन्द्र सरकार द्वारा शुरु किए गए हेल्पलाइन नंबर हैं.


अपनी इस खास सीरीज के जरिए हम आपको देश की तमाम जरुरी हेल्पलाइन नंबर से रुबरू करवाएंगे ताकि जरुरत पड़ने पर आप इन नंबरों का इस्तेमाल करके अपनी समस्या का समाधान निकाल सकें.


आज अपनी पहली कड़ी में हम आपको महिला हेल्पलाइन नंबर की जानकारी देंगे.


181


1. महिला हेल्पलाइन नंबर 181- 2012 में दिल्ली में एक चलती बस में निर्भया बलात्कार की घटना ने पूरे देश को हिला कर रख दिया था. इसके बाद से केन्द्र सरकार ने निर्भया फंड के तहत महिला सुरक्षा के लिए 181 नाम से एक नंबर जारी किया जिस पर आप भारत के किसी भी कोने से महिला के खिलाफ हुए अपराधों की जानकारी दे सकते हैं और फिर पुलिस उस पर तुरंत उचित कार्रवाई करेगी.


पीड़ित महिला इस नंबर पर कॉल कर अपनी समस्याओं से जुड़ी काउंसलिंग भी ले सकती हैं. दिल्ली सरकार की भी एक 181 हेल्पलाइन नंबर है जिसपर महिलाओं के खिलाफ होने वाली हिंसा और घटनाओं की शिकायत की जा सकती है.


2. महिला हेल्पलाइन नंबर 1091- आमतौर पर हर इक शिकायत के लिए 100 नंबर डायल कर देते हैं. लेकिन दिल्ली पुलिस ने खासकर के महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों के लिए 1091 हेल्पलाइन नंबर तैयार किया है. इस नंबर पर कॉल करके महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों और हिंसा की शिकायत दर्ज की जा सकती है. इसी नंबर के जरिए राष्ट्रीय महिला आयोग में भी बात की जा सकती है.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: women in distress should call on these numbers
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story पाकिस्तान ने फिर तोड़ा सीज़फायर, राजौरी, अखनूर में की भारी गोलाबारी