जब प्रणव मुखर्जी ने पूछा ‘क्या धर्मनिरपेक्षता का पैमाना सिर्फ हिंदू संत-महात्माओं तक सीमित है’

जब प्रणव मुखर्जी ने पूछा ‘क्या धर्मनिरपेक्षता का पैमाना सिर्फ हिंदू संत-महात्माओं तक सीमित है’

By: | Updated: 14 Oct 2017 04:03 PM

नई दिल्ली: पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के एक बयान से बड़ा सियासी बवाल खड़ा हो सकता है. मुखर्जी ने अपनी नई किताब में लिखा है कि 2004 में कांची पीठ के शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती की गिरफ्तारी पर सवाल उठाए थे. उन्होंने लिखा है कि वो इस गिरफ्तारी से बेहद नाराज थे जिसे उन्होंने सरकार के सामने ज़ाहिर भी किया था.


ये खुलासा प्रणब मुखर्जी ने अपनी नई किताब ' द कोलिशन इयर्स 1996 - 2012 ' के एक अध्याय में किया है. प्रणब ने इस घटना का ज़िक्र करते हुए लिखा है कि वो पुलिस के इस कार्रवाई से बेहद ग़ुस्से में थे और इस मामले को कैबिनेट की बैठक में भी उठाया था.


DMBqX8sUQAAxeQe


प्रणब मुखर्जी ने लिखा है, ''एक कैबिनेट बैठक के दौरान मैं इस गिरफ्तारी के समय को लेकर काफी नाराज़ था. मैंने सवाल पूछा कि क्या देश में धर्मनिरपेक्षता का पैमाना केवल हिन्दू संतों महात्माओं तक ही सीमित है? क्या किसी राज्य की पुलिस किसी मुस्लिम मौलवी को ईद के मौके पर गिरफ्तार करने का साहस दिखा सकती है?''


जानकारी के लिए बता दें कि कांची पीठ के शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती को 2004 के नवंबर महीने में दीवाली के आस पास एक हत्या के आरोप में आंध्र प्रदेश से गिरफ़्तार किया गया था.


DMB9Fs-VQAAVnzb


दरअसल कांग्रेस पार्टी पर यूपीए सरकार के दौरान मुस्लिम तुष्टिकरण के आरोप लगते रहे थे. खासकर बीजेपी ने तो इसे चुनावी मुद्दा भी बनाया था. ऐसे में प्रणब मुखर्जी का ये बयान बीजेपी को एक मुद्दा थमा सकता है .


आपको बता दें कि 2004 मई में मनमोहन सिंह के नेतृत्व में यूपीए गठबंधन की सरकार बनी थी. प्रणब मुखर्जी मई 2004 से अक्टूबर 2006 तक में रक्षा मंत्री रहे थे.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story कुलभूषण जाधव के परिवार को वीजा जारी करेगा पाकिस्तान