क्या सभ्य समाज में फांसी होनी चाहिए?

By: | Last Updated: Thursday, 30 July 2015 12:03 PM

नई दिल्ली: याकूब की फांसी के बाद इस पर सवाल उठने शुरू हो गये. कांग्रेस नेता शशि थरूर ने फांसी पर ही सवाल उठाए हैं जबकि दिग्विजय ने शक जताया है कि ऐसे ही फैसले आतंक के मामलों में होंगे.

 

याकूब की फांसी हो गई लेकिन फांसी का विरोध थमा नहीं है. ओवैसी और अबू आजमी जैसे नेता याकूब की फांसी पर अफसोस जता रहे हैं वहीं बीजेपी-कांग्रेस फांसी का समर्थन कर चुकी है लेकिन कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने फांसी का विरोध किया है.

 

याकूब की फांसी से बेहद दुखी हूं, हम हत्यारे के स्तर पर आ गए हैं: शशि थरुर 

थरूर ने ट्वीट किया कि सरकार ने एक इंसान को फांसी पर चढ़ा दिया जिससे मैं बेहद दुखी हूं. सरकार प्रायोजित हत्याएं हमें नीचा दिखा रही हैं जिसने हमें हत्यारों के स्तर तक ला दिया है.

 

देश में फांसी पर बहस पुरानी है. याकूब की फांसी से पहले भी 291 जानी-मानी हस्तियों ने राष्ट्रपति को चिट्ठी लिखकर फांसी रोकने की चिट्ठी लिख चुके थे लेकिन सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद याकूब की फांसी का रास्ता साफ हो गया. आतंकी याकूब से पहले साल 2013 में संसद हमले के गुनहगार अफजल गुरु और 2012 में 26/11 के हमलावर कसाब को फांसी दी जा चुकी है.

 

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के मुताबिक 2004-13 के बीच दस सालों में 1303 लोगों को मौत की सजा सुनाई गई लेकिन सिर्फ तीन फांसी हुई इनमें कसाब और अफजल गुरु के अलावा साल 2004 में बलात्कार और हत्या के दोषी धनंजय चटर्जी को फांसी हुई थी.

 

इन दस सालों में 3751 फांसी के फैसलों को उम्र कैद में बदला गया. जहां तक आतंकियों को फांसी देने का सवाल है तो 1984 में देश ने आतंकवाद का चेहरा देखा था. तब से अब तक 31 सालों में आठ आतंकियों को फांसी के फंदे तक पहुंचाया गया.

 

इनमें पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के हत्यारों सतवंत सिंह और केहर सिंह, जनरल वैद्य के हत्यारों सुखदेव सिंह सुक्खा और हरजिंदर सिंह जिंदा के अलावा, JKLF के फाउंडर मकबूल बट के अलावा कसाब, अफजल गुरु और अब याकूब को फांसी हुई है.

 

दरअसल याकूब की फांसी से ज्यादा विरोध फांसी को कानून से हटाने के लिए हो रहा है.  बड़ा सवाल ये है कि क्या सभ्य समाज में फांसी होनी चाहिए?

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: yakub memon
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Yakub Memon
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017