जानें: योगेंद्र-प्रशांत की प्रेस कॉन्फ्रेंस की सारी बड़ी बातें

By: | Last Updated: Friday, 27 March 2015 8:18 AM

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक से एक दिन पहले पार्टी का मचा घमासान अपने चरम पर पहुंच गया है. पार्टी की पीएसी से निकाले गए योगेंद्र यादव और प्रशांत ने पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल पर अनेक संगीन आरोप लगाए हैं.

 

योगेंद्र- प्रशांत ने कहा कि पार्टी में अरविंद केजरीवाल की तानाशाही चल रही है और वे हर कीमत पर अपने फैसले को मनवाना चाहते हैं.

 

योगेंद्र-प्रशांत का कहना है कि विवाद की जड़ लोकसभा चुनाव के बाद दिल्ली में सरकार बनाने को लेकर हुई. उनका कहना है कि पार्टी फिर से कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनाने के पक्ष में नहीं थी, लेकिन केजरीवाल हर कीमत पर सरकार के गठन की जिद पर थे. केजरीवाल ने पार्टी के फैसले की अनदेखी करते हुए कांग्रेस से समर्थन से सरकार बनाने का फैसला कर लिया.

 

योगेंद्र ने ये भी आरोप लगाया कि 10 दिन पहले पार्टी की वेबसाइस से पार्टी का संविधान हटा दिया गया है.

 

पीएसी से निकाले गए इन नेताओं का कहना है कि आम आदमी पार्टी आम पार्टी नहीं है और वे इसकी आत्मा को बचाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं.

 

आइए जानते हैं योगेंद्र और प्रशांत की पीसी की मुख्य बातें

 

योगेंद्र यादव ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा:-

 

1. आम आदमी पार्टी आंदोलन से पैदा हुई पार्टी है, आंदोलन की आत्म बचाए रखने की कोशिश है, ये हमारे व्यक्तित्व के मुद्दे नहीं हैं

2. आम आदमी पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र कैसे बने, इस पर चर्चा पर हो, यही हमारी मांग है

3. जो स्वराज को हम पूरे देश में लाना चाहते थे, वो स्वराज इस पार्टी में होगा की नहीं, इसकी लड़ाई है

4. राज्यों को अधिकार दें, पंचायत और कॉर्पोरेशन के चुनाव का फैसला राज्य युनिट करे

5. मर्यादा उल्लंघन के जो मामले हैं उसकी जांच होनी चाहिए, पार्टी के लोकपाल से जांच हों, जो चार मुद्दे हमने गिनाए हैं उनकी जांच हो.

6. वॉलंटियर की बात सुनी जाए, पार्टी के बड़े निर्णय में वॉलंटियर को वोट देने का अधिकार मिले

7. पार्टी में पारदर्शिता आनी चाहिए, यानी आरटीआई लागू हों

8. राष्ट्रीय परिषद के रिक्त पदों को भरें जाएं

9. पार्टी का राष्ट्रीय संयोजक कौन होगा, हमारी तरफ से ये सवाल उठाया ही नहीं गया… पार्टी के संविधान के मुताबिक इसका फैसला राष्ट्रीय कार्यकारिणी में हो सकता है, राष्ट्रीय परिषद में नहीं….

10. वेबसाइट से पार्टी का संविधान हटा दिया गया है

 

योगेंद्र यादव ने ये सवाल उठाए हैं

1. आम आदमी पार्टी आंदोलन से ऊपजी पार्टी है, ये आम पार्टी की तरह हो जाएगी या ये अलग पार्टी बनी रहेगी?

2. क्या आम आदमी पार्टी अपने वॉलंटियर के साथ वैसा ही व्यवहार करेगी जैसी दूसरी पार्टी करती हैं?

3. आरोप आने के बाद पार्टी के किसी भी नेता की जांच लोकपाल से होनी चाहिए?

4. ये संघर्ष चलता रहेगा, ये पार्टी को सुधारने का तरीका है…

 

जानें प्रशांत भूषण ने क्या कहा-

 

1. जब केजलीवाल बैंगलुरू से लौट रहे थे तब 16 मार्च से मैंने उन्हें SMS भेजा था. आपसी मुद्दे सुलझाने के लिए, लेकिन आज 11 दिन हो गए. उन्हें मिलने का मौका नहीं मिला.

 

2. बातचीत के दौरान केजरीवाल के लोगों की तरफ से यही बात आती रही कि आप राष्ट्रीय कार्यकारिणी से इस्तीफा दे दें.

 

3. केजरीवाल गुट ने कहा कि पार्टी के शीर्ष नेतृत्व पर सवाल नहीं उठा सकते, अरविंद चाहते हैं कि आप लोग इस्तीफा दे दें, क्योंकि अरविंद आप लोगों के साथ काम नहीं कर सकते

 

क्यों चाहते हैं योगेंद्र-प्रशांत पार्टी छोड़ दें?

 

प्रशांत भूषण का कहना है, “ऐसा इसलिए हो रहा है, क्योंकि लोकसभा चुनाव के बाद एक प्रस्ताव आया कि कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनानी चाहिए? लेकिन पीएसी ने इस प्रस्ताव को 5-4 से खारिज कर दिया, फिर भी अरविंद केजरीवाल सरकार गठन के जिद पर थे, तो मुद्दा राष्ट्रीय कार्यकारिणी को भेजा गया, वहां भी खारिज हो गया. लेकिन उसके बाद भी कोशिश चलती रही है कि कांग्रेस के समर्थन या कांग्रेस को तोड़कर सरकार बना ली जाए.”

 

प्रशांत ने कहा, “जिन छह विधायकों से समर्थन लेने की बात की जा रही थी, उसके बारे में अरविंद खुद ही कह चुके थे उन्हें बीजेपी ने चार-चार करोड़ में खरीद लिए हैं.”

 

बकौल प्रशांत अरविंद में दो कमी है

 

प्रशांत ने कहा,”केजीरावल चाहते हैं कि वह जो चाहे वही फैसला लिया जाए, इसलिए वह नहीं चाहते कि पार्टी में ऐसे लोग रहे जो सवाल उठा सकें. अरविंद का कहना है कि वे ऐसे किसी संगठन में नहीं रहे जहां उनकी बात नहीं चलती.”

 

उन्होंने आगे कहा, “केजरीवाल ये सोचते हैं नीयत साफ है और पार्टी का जिंदा रहना लोकतंत्र या देश के लिए जरूरी है. तो उन्हें ये पता होना चाहिए कि नीयत साफ होने के साथ रास्ते भी साफ होने चाहिए.. इसलिए फैसला लेने वाली बॉडी में ऐसे लोग होने चाहिए जिनकी राय स्वतंत्र हो.”

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Yogendra Yadav Prashant PC
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published: