देश में हिंदू-मुस्लिम के नाम पर कौन माहौल बिगाड़ रहा है?

By: | Last Updated: Sunday, 31 August 2014 12:16 PM
Yogi Adityanath controversial statement and reaction

नई दिल्ली/लखनऊ: बीजेपी सांसद योगी आदित्यनाथ ने एक बार फिर विवादास्पद बयान दिया है. योगी ने कहा है कि देश में जहां मुस्लिम आबादी ज्यादा है वहीं दंगे होते हैं.

 

यूपी में अगले महीने विधानसभा की 11 सीटों और लोकसभा की एक सीट पर उपचुनाव होने वाले हैं.  दूसरी तरफ हाल ही में बीजेपी ने फायरब्रिगेड योगी आदित्यनाथ को इस उपचुनाव के लिए चुनाव प्रचार की जिम्मेदारी दी है.

 

जहां-जहां मुस्लिम आबादी, वहां-वहां होते हैं ज्यादा दंगे: योगी आदित्यनाथ 

 

चूंकि चुनाव से पहले योगी के बयान में तेज़ी से ये सवाल किया जा रहा है कि आखिर देश में हिंदू-मुस्लिम के नाम पर माहौल कौन बिगाड़ रहा है?

 

योगी आदित्यनाथ ने दंगों को मुस्लिम आबादी से जोड़ते हुए कहा है कि मुस्लिम बहुल इलाकों में गैर मुस्लिम सुरक्षित नहीं हैं. योगी के इस विवादित बयान के बाद बवाल हो गया.

 

कांग्रेस नेता राशिद अल्वी का कहना है कि योगी आदित्यनाथ का बयान बहुत ही शर्मनाक है और ये माहौल बिगाड़ने वाला है. उनका कहना है कि वो नेता कहां हैं जिन्होंने 125 करोड़ जनता को लेकर चलने का वादा किया था.

 

योगी नहीं ढोंगी!

 

अल्वी के मुताबिक योगी आदित्यनाथ योगी नहीं ढोंगी हैं. उनका ब्रैकग्राउंड क्रिमिनल है, उनके खिलाफ कत्ल का केस है और वह हथियार लेकर चलते हैं.

 

इमाम काउंसिल के चीफ और धर्मगुरू उमर अहमद इलियासी का कहना है कि ये बांट और तोड़ने की बात है. एक मज़हबी नेता होने के नाते उनकी जिम्मेदारी होती है कि वह देश को जोड़ने की बात करें. एक जिम्मेदार शख्स को एक बयान देने से पहले दस बार सोचना चाहिए.

 

एसपी नेता यशवंत सिंह का कहना है कि इस देश में हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई रहते हैं और इस तरह का बयान दुर्भाग्यपूर्ण है. इस देश में धर्म के आधार पर बात करने हिंदुस्तान के साथ नाइंसाफी है.

 

क्या है साजिश?

 

यूपी की 11 विधानसभा और एक लोकसभा सीट पर 13 सितंबर को उपचुनाव होने हैं. योगी आदित्यनाथ उपचुनाव में बीजेपी के चुनाव प्रचार के प्रभारी हैं. अब विरोधी इसे चुनाव से पहले वोट बैंक की साजिश मान रहे हैं.

 

हालांकि Centre for objective Research and Development के मुताबिक राज्य में हुए दंगों के आंकड़े ये बताते हैं कि इनका किसी आबादी से कोई सीधा संबंध नहीं है.

 

प्रतापगढ़ में दंगे हुए जहां सिर्फ 14 फीसदी मुसलमान हैं. फैजाबाद और श्रावस्ती में 15-15 फीसदी, बरेली में 20 फीसदी,  आंबेडकरनगर में 21 फीसदी,  मुजफ्फरनगर में 30 फीसदी और मुरादाबाद में 30 फीसदी मुसलमान हैं.

 

साल 2012 से अब तक इन जिलों में दंगों की घटनाएं हो चुकी हैं.

 

कहां हैं सबसे ज्यादा मुसलमान?

 

2011 की जनसंख्या के मुताबिक देश में 13.4 फीसदी मुसलमान हैं. देश में सबसे ज्यादा मुसलमान असम में 30.9 फीसदी हैं. पश्चिम बंगाल में 25.2 फीसदी,  केरल में 24.7 फीसदी और इसके बाद चौथे नंबर पर उत्तर प्रदेश आता है. यूपी में 18.5 फीसदी मुसलमान हैं.

 

पांचवें नंबर पर बिहार है जहां 16.5 फीसदी मुसलमान हैं. पश्चिम बंगाल और बिहार में भी दंगों की घटनाएं सुनने में नहीं आतीं. देश में इस वक्त 13 करोड़ 80 लाख मुसलमान हैं.

 

सरकारी आंकड़ों में 15 जून से 15 अगस्त के बीच उत्तर प्रदेश में सांप्रदायिक झड़प और तनाव की 657 घटनाएं हुई हैं. इनमें सबसे ज्यादा मुजफ्फरनगर में 54,  मेरठ में 39,  शामली,  मुरादाबाद और संभल में 32-32 घटनाएं हुई हैं. बुलंदशहर और सहारनपुर में 17-7 घटनाएं हुईं.

 

जहां-जहां चुनाव, वहां-वहां दंगे!

 

चौंकाने वाली बात ये है कि 657 में से 457 घटनाएं उन इलाकों के आसपास हुई हैं जहां विधानसभा उपचुनाव होने हैं.

 

योगी आदित्यानाथ का पहले भी लवजेहाद पर पुराना वीडियो सामने आ चुका है और अब ये विवादित बयान सामने आया है.

 

सवाल ये है कि हिंदू मुस्लिम के नाम पर क्या माहौल खराब करने की कोशिश हो रही है?

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Yogi Adityanath controversial statement and reaction
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017