सावधान! बैली फैट मीनोपोज के दौरान बन सकता है कैंसर का कारण

एक नए शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि बैली फैट मीनोपोज में कैंसर बढ़ाने का कारक हो सकता है.

By: | Last Updated: Monday, 11 September 2017 9:13 AM
Belly fat ups risk of lung cancer in postmenopausal women

लंदनः आकर्षक दिखने के लिए अमूमन लोग बैली फैट घटाने लिए की कोशि‍श करते हैं लेकिन एक नए शोध में इस बात का खुलासा हुआ है कि बैली फैट मीनोपोज में कैंसर बढ़ाने का कारक हो सकता है.

क्या कहती है रिसर्च-
रिसर्च के मुताबिक, मीनोपोज से गुजर रहीं या गुजर चुकीं महिलाओं को न केवल आकर्षक दिखने के लिए बल्कि हेल्दी रहने के लिए भी बैली फैट कम करना चाहिए.

क्या कहते हैं शोधकर्ता-
डेनमार्क आधारित बायोटेक्नोलॉजी कंपनी नॉर्डियक बायोसाइंस के शोधार्थी मेकस्क ने बताया कि यह अध्ययन इस आयु वर्ग की महिलाओं के लिए वजन कंट्रोल करने पर एक नई बहस छेड़ता है, क्यूंकि इस उम्र में पेट में वसा एकत्र होने की संभावना बहुत अधिक होती है. उन्होंने कहा कि पेट में वसा के जमाव को रोकना ही इस खतरे से बचने का बेहतर उपाय है.

इस शोध के लिए शोधकर्ताओं के एक समूह ने औसतन 71 वर्ष की 5,855 महिलाओं पर अध्ययन किया था.

रिसर्च के नतीजे-
रिसर्च के निष्कर्ष बताते हैं कि फेंफड़ों और गैस्ट्रोइंटेस्टाइलन (जीआई) जैसे कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए बैली फैट कम होना चाहिए. यह शोध मैड्रिड में यूरोपीयन सोसाइटी फॉर मेडिकल ओन्कोलॉजी (ईएसएमओ) 2017 कांग्रेस में पेश किया गया.

नोट: ये रिसर्च के दावे पर हैं. ABP न्यूज़ इसकी पुष्टि नहीं करता. आप किसी भी सुझाव पर अमल या इलाज शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर ले लें.

Health News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Belly fat ups risk of lung cancer in postmenopausal women
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017