ऑफिस में काम पर फोकस नहीं कर पाने का कारण कहीं ये तो नहीं!

By: | Last Updated: Saturday, 13 May 2017 4:46 PM
ऑफिस में काम पर फोकस नहीं कर पाने का कारण कहीं ये तो नहीं!

नई दिल्लीः क्या आप ऑफिस में अक्सर खोए-खोए रहते हैं? क्या आप ऑफिस में काम पर पूरा फोकस नहीं कर पाते? क्या आप ऑफिस में बार-बार अपना फोन चैक करते हैं या खिड़की के बाहर झांकते रहते हैं? या फिर ये सुनने की कोशिश करते रहते हैं कि आपके सहयोगी क्या बातें कर रहे हैं? मुमकिन है इन सवालों में से कई का जवाब हां हो. औऱ इस वजह से आप अपने काम पर ज्यादा ध्यान नही दे पाते होंगे. अगर ऐसा है तो आपको बता दें कि इस सबमें आपकी गलती नहीं है. जी हां, एक नई रिसर्च यही कहती है.

क्या कहती है रिसर्च-
रिसर्च के मुताबिक अगर ऑफिस में आपका ध्यान भटकते रहता है तो ये आपका दोष नहीं बल्कि आपके आफिस में बैठने के वाले एरिया के सिटिंग अरेंजमेंट का है. जी हां, रिसर्च के मुताबिक ऑफिस में ओपन एरिया में बैठने से ध्यान भटकना लाजमी है. इसे विजुअल नॉयज कहा जाता है. वॉल स्‍ट्रीट जर्नल रिपोर्ट्स के मुताबिक, कर्मचारी के आसपास होने वाली गतिविधियां और एक्टिविटी ध्यान भटकाने के लिए काफी है.

ओपन ऑफिस कल्चर-
पिछले सालों में ओपन आफिस का कल्चर तेजी से बढ़ा है. ओपन ऑफिस यानि ऐसा आफिस जहां सबके बैठने की जगह एक ही बड़ी सी खुली जगह में हो. यानि छोटे छोटे केबिन या क्यूबिकल में नही बैठने का कल्चर. .  ऐसा माना जाता है इससे कम्यूनिकेशन गैप नहीं होता. लेकिन  खुले ऑफिस के ऐसे माहौल में महसूस किया जा रहा है कि इससे डिस्ट्रैक्शन भी बहुत बढ़ रहा है. साथ ही काम से ध्यान हट रहा है.

आप भी अपना सकते हैं ये तरीका-
अब कर्मचारी वर्कप्लेस पर विजुअल नॉयज कम करने के तरीकों की खोज कर रहे हैं. यूएस बेस्ड सॉफ्टवेयर कंपनी सेग्मेंट की मार्केटिंग एंड कम्यूनिकेशन डायरेक्टर माया स्पीवक का कहना है कि वो अपने ओपन ऑफिस में बहुत ही मुश्किल से फोकस कर पाती हैं क्योंकि उनके सहयोगियों के मूवमेंट्स से उनको काफी डिस्ट्रैक्शन होता है. ऐसे में वे ऐसी जगह बैठना पसंद करती हैं जहां लोगों का कम आना-जाना हो, शोर कम हो, कॉर्नर हो और दीवारें हो. वे कहती हैं कि इससे उनकी प्रोडक्टिविटी बूस्ट होती है.

क्या कहते हैं एक्सपर्ट-
एन्वायरन्मेंटल साइक्लो‍जिस्ट सैली ऑस्टिन का कहना है कि सामान्यत: लोग जानना चाहते हैं कि उनके आसपास क्या हो रहा है. अगर आफिस में आप साथ काम करने वाले एक ग्रुप को बात करते देखते हैं तो स्वाभाविक सी उत्सुकता होती है कि वे किस बारे में बात कर रहे हैं?

ऐसे में कंपनी अपने कर्मचारियों को ये सुविधा दे रही हैं कि वे प्राइवेट रूम में जाकर लैपटॉप पर काम कर सकते हैं या फिर कुछ समय के लिए सोफे पर बैठकर काम कर सकते हैं. जबकि कुछ कंपनियां कर्मचारियों के डेस्क पर ग्रे वॉल लगा रही हैं. ऐसा माना जाता है कि हल्की रोशनी में भी कमर्चारियों का डिस्ट्रैक्शन कम होता है.

नोट: ये रिसर्च के दावे पर हैं. ABP न्यूज़ इसकी पुष्टि नहीं करता. आप किसी भी सुझाव पर अमल या इलाज शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर ले लें.

First Published:

Related Stories

मानसून में यूं करें बालों और त्वचा की देखभाल!
मानसून में यूं करें बालों और त्वचा की देखभाल!

नई दिल्ली: मानसून दस्तक देने वाला है. यूं तो लोग मानसून को खूब एन्जॉय करते हैं लेकिन मानसून कई...

ब्रेकअप से कैसे करें डील? बता रही हैं Ex. बिग बॉस कंटेस्टेंट, देखें वीडियो
ब्रेकअप से कैसे करें डील? बता रही हैं Ex. बिग बॉस कंटेस्टेंट, देखें वीडियो

नई दिल्ली: मशहूर रियलिटी शो ‘बिग बॉस 10’ की टॉप 5 कंटेस्टेंट्स में रही नितिभा कौल ने...

ऑफिस में रहते हैं सुस्त तो इसमें नहीं है आपका दोष!
ऑफिस में रहते हैं सुस्त तो इसमें नहीं है आपका दोष!

लंदन: अगर आप अपने कर्मचारी को काम में सुस्त, आलसी और निकम्मा मानते हैं, तो उस पर आरोप लगाना बंद...

शादी से पहले वजन कम करने के लिए अपनाएं ये टिप्स!
शादी से पहले वजन कम करने के लिए अपनाएं ये टिप्स!

नई दिल्लीः अक्सर लोग खासतौर पर लड़कियां शादी से पहले वजन कम करने के लिए एक टाइम का खाना छोड़...

टेस्टोस्टेरॉन लेवल से लेकर निजी जिंदगी तक प्रभावित कर सकता है मोटापा!
टेस्टोस्टेरॉन लेवल से लेकर निजी जिंदगी तक प्रभावित कर सकता है मोटापा!

नई दिल्लीः क्या आप जानते हैं मोटापे का असर सिर्फ आपकी सेहत पर ही नहीं बल्कि आपके रिश्तों पर भी...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017