मां के लिए बच्चों की किशोरावस्था सबसे चुनौतीपूर्ण

By: | Last Updated: Saturday, 23 January 2016 11:41 AM
Parenting stress more of young children

बच्चों की 12-14 साल की उम्र संतान से ज्यादा उनकी मां के लिए मुश्किलों भरी होती है. एक शोध में यह बात सामने आई है. अमेरिका की एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी की प्रोफेसर सूनिया लूथर के अनुसार, “शिशुओं और छोटी उम्र के बच्चों का ध्यान रखना शारीरिक रूप से काफी थकाऊ है, लेकिन बच्चे की किशोरावस्था अवस्था में मां का जीवन पहले से कहीं अधिक कठिन हो जाता है. इस दौरान माताएं बच्चों के शारीरिक बदलावों के साथ ही स्कूल में उनकी संगत को लेकर भी चिंतित रहती हैं.”

इस शोध के लिए 2,200 से अधिक पढ़ी-लिखी महिलाओं व उनके बच्चों का अध्ययन किया गया. इस दौरान महिलाओं के व्यक्तित्व के कई पहलुओं, उनका पालन-पोषण और बच्चों को लेकर उनकी धारणाओं का अध्ययन किया गया.

लूथर ने बताया, “महिलाएं ऐसी स्थिति में बेहद उथल-पुथल के दौर से गुजरती हैं. वह इस दौर में अपने बच्चों के प्रति बेहद चिंतित रहती हैं.”

यह शोध पत्रिका ‘डेवलपमेंट साइकोलॉजी’ में प्रकाशित हुआ है.

Lifestyle News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Parenting stress more of young children
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017