जब इस्लामाबाद में बरसा मदमस्त अदाओं का बादल