अश्लील वेबसाइट्स को अवरूद्ध करने से अधिक नुकसान होगा: केन्द्र ने न्यायालय से कहा

अश्लील वेबसाइट्स को अवरूद्ध करने से अधिक नुकसान होगा: केन्द्र ने न्यायालय से कहा

By: | Updated: 05 May 2014 02:19 PM
नई दिल्ली: केन्द्र सरकार ने आज उच्चतम न्यायालय को सूचित किया कि देश में अश्लील सामग्री वाली वेबसाइट्स को अवरूद्ध करना संभव नहीं है और इससे अधिक नुकसान हो सकता है क्योंकि ऐसे शब्दों के साहित्यिक विवरण भी जनता के लिये इंटरनेट पर उपलब्ध नहीं होगा.

 

न्यायमूर्ति बी एस चौहान की अध्यक्षता वाली खंडपीठ के समक्ष अतिरिक्त सालिसीटर जनरल केवी विश्वनाथन ने कहा कि इस तरह की वेबसाइट्स को अवरूद्ध करने से अधिक नुकसान होगा. उन्होंने कहा, ‘‘सभी कुछ अवरूद्ध हो जायेगा और यहां तक की अच्छा साहित्य भी अवरूद्ध हो जायेगा और इससे अधिक नुकसान होगा.’’ उन्होंने कहा कि ऐसी वेबसाइट्स को अवरूद्ध करने के लिये प्रत्येक कंप्यूटर में एक साफ्टवेयर लगाना पड़ेगा और सभी कंप्यूटर निर्माताओं के लिये ऐसा साफ्टवेयर लगाने हेतु निर्देश देना पड़ेगा.

 

न्यायालय इन्दौर निवासी वकील कमलेश वासवानी की जनहित याचिका पर सुनवाई कर रहा था. इस याचिका में कहा गया है कि हालांकि अश्लील वीडियो देखना अपराध नहीं है लेकिन ऐसी साइट्स पर पाबंदी लगायी जानी चाहिए क्योंकि महिलाओं के प्रति अपराध की यह एक बड़ी वजह है.

 

वकील विजय पंजवानी के माध्यम से दायर याचिका में कहा गया है कि इंटरनेट कानूनों के अभाव में लोग अश्लील वीडियो देखने के लिये प्रेरित होते हैं. याचिका के अनुसार इस समय बाजार में ऐसी 20 करोड़ से भी अधिक वीडियो और क्लीपिंग सहजता से उपलब्ध हैं.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest Sports News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story ICC वनडे रैंकिंग में नंबर एक गेंदबाज बने बुमराह और राशिद खान