आईपीएल फिक्सिंग मामलाः जस्टिस मुद्गल समिति कर सकती है श्रीनिवासन और क्रिकेटरों की जांच

आईपीएल फिक्सिंग मामलाः जस्टिस मुद्गल समिति कर सकती है श्रीनिवासन और क्रिकेटरों की जांच

By: | Updated: 23 Apr 2014 02:58 AM

नई दिल्ली: आईपीएल में सट्टेबाजी और मैच फिक्सिंग प्रकरण की जांच में आये नये मोड़ में जस्टिस मुकुल मुद्गल समिति ही एन श्रीनिवासन और कुछ प्रमुख क्रिकेट खिलाडियों सहित 12 अन्य के खिलाफ जांच कर सकती है क्योंकि इस जांच के लिये सुप्रीम कोर्ट ने क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड की समिति को नजरअंदाज कर दिया है.

 

जस्टिस मुद्गल ने कहा, ‘‘हमने अपनी सहमति दे दी है जो मंगलवार को (29 अप्रैल) सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी पर निर्भर करती है.’’ जस्टिस मुद्गल की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय समिति ने ही सीलबंद लिफाफे में अपनी रिपोर्ट कोर्ट को सौंपी थी जिसमे श्रीनिवासन और भारतीय टीम के कुछ खिलाड़ियों के खिलाफ गंभीर आरोप लगाये थे.

 

पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट के पूर्व मुख्य जज जस्टिस मुद्गल की अध्यक्षता वाली समिति की सहमति से समिति के वकील गोपाल सुब्रमणियम ने कोर्ट को अवगत कराया. इससे पहले सुबह न्यायालय ने पूछा था कि क्या यह समिति अपनी जांच जारी रखना चाहती है.

 

जस्टिस मुद्गल ने मीडिया से कहा था कि कोर्ट जब उनकी सहमति को स्वीकार कर लेगा तो समिति इसकी जांच करने के तरीके को अंतिम रूप देगी और यह भी तय करेगी कि क्या इसमें किसी नये सदस्य को शामिल करना चाहिए. इस समिति की पहले की जांच में अतिरिक्त सालिसीटर जनरल एन नागेश्वर राव और वकील निलय दत्ता भी शामिल थे.

 

जस्टिस ए के पटनायक की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने कहा कि वह जांच में इस समिति की सहायता के बारे में 29 अप्रैल को आदेश सुनायेगी. कोर्ट ने कहा कि समिति को जांच एजेन्सियां सहयोग करेंगी.

 

इससे पहले, कल सुबह की कार्यवाही में न्यायालय ने अपराह्न दो बजे तक सहमति मांगी थी. लेकिन सुब्रमणियम दोपहर बाद पेश नहीं हो सके जिसकी वजह से मामले को अगले मंगलवार के लिये स्थगित कर दिया गया.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest Sports News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story इस 'डर' की वजह से बीच मैच में मैदान छोड़ कर चले गए थे विराट कोहली