एशिया कप हॉकी: मलेशिया के खिलाफ भारत को रहना होगा सावधान

By: | Last Updated: Thursday, 29 August 2013 2:02 AM

इपोह:
एशिया कप हॉकी प्रतियोगिता
के नौवें संस्करण के
सेमीफाइनल में शुक्रवार को
दो बार के चैम्पियन भारत का
सामना मेजबान मलेशिया से
होना है. भारत को सावधान रहकर
अपनी रणनीति को अंजाम देना
होगा क्योंकि मलेशिया अपने
घर में हमेशा भारत के खिलाफ
अच्छा खेला है. भारत ने अपने
ग्रुप में शीर्ष पर रहते हुए
सेमीफाइनल में जगह बनाई है.
उसने ओमान, मौजूदा चैम्पियन
कोरिया और बांग्लादेश पर
प्रभावशाली जीत हासिल की है.
दूसरी ओर, मलेशिया को
पाकिस्तान से हार मिली लेकिन
उसने जापान और चीनी ताइपे पर
बड़ी जीत हासिल की.

टीमें जब
किसी टूर्नामेंट के
सेमीफाइनल में पहुंच जाती
हैं तो उनके लिए ग्रुप स्तर
का प्रदर्शन कुछ खास मायने
नहीं रखता क्योंकि यहां
उन्हें नए सिरे से शुरुआत
करनी होती है और जीत हासिल
करने के लिए सटीक रणनीति
बनानी होती है क्योंकि उनका
सामना अपने से मजबूत या फिर
समतुल्य टीमों के साथ होना
होता है.

ऐसे पड़ाव
पर ग्रुप स्तर पर अच्छे
प्रदर्शन का सिर्फ इतना
फायदा होता है कि खिलाड़ियों
का मनोबल बढ़ा हुआ होता है और
उन्हें अपनी काबिलियत और
क्षमता पर यकीन होता है. यह
किसी भी टीम के लिए जरूरी है.
भारत को इसका फायदा मिलेगा
क्योंकि वह अजेय रहते हुए
सेमीफाइनल में पहुंचा है. 

मलेशिया
को ग्रुप स्तर पर एक हार मिली
है लेकिन इस टीम ने बीते
पांच-सात सालों में जिस स्तर
पर तरक्की की है, उसे देखते
हुए पाकिस्तान से मिली हार
उसके खिलाड़ियों की मनोदशा
को कुछ खास प्रभावित नहीं
करेगी.

ऐसे में
भारत के लिए मुश्किल बढ़ने का
खतरा है क्योंकि मलेशियाई
टीम अपने घर में भारत के
खिलाफ हमेशा अच्छा खेली है.
भारत को मलेशिया को हराने के
लिए पेनाल्टी कार्नर पर गोल
करने की अपनी क्षमताओं को
बढ़ाना होगा. बांग्लादेश के
खिलाफ भारत ने काफी हद तक ऐसा
किया लेकिन मजबूत मलेशियाई
रक्षापंक्ति के खिलाफ
रुपिंदर पाल सिंह और वीआर
रघुनाथ की जोड़ी ऐसा कर
पाएगी, यह कहना मुश्किल है.

भारतीय
टीम ओमान के खिलाफ पांच में
से दो मौकों पर गोल कर सकी थी.
कोरिया के खिलाफ उसे
पेनाल्टी कार्नर पर गोल करने
के मौके मिले ही नहीं. इस
महकमे में सुधार भारत को
एशिया कप खिताब दिला सकता है,
इसमें कोई शक नहीं क्योंकि
जहां तक पेनाल्टी कार्नर पर
गोल बचाने का सवाल है तो
इसमें भारत ने एक लिहाज से
महारथ हासिल कर ली है और इसका
नजारा कोरिया के खिलाफ
खिलाड़ियों ने दिखाया.

कोरियाई
टीम को एक के बाद एक पांच से
अधिक पेनाल्टी कार्नर मिले
लेकिन भारतीय रक्षापंक्ति
ने उसे एक में भी कामयाबी
हासिल नहीं करने दी. कोरिया
के खिलाफ पहले हाफ में भारत
ने थोड़ा लचर खेल दिखाया था.
उसकी खुशकिस्मती थी कि
कोरियाई टीम इस हाफ में
बराबरी का गोल नहीं कर सकी,
नहीं तो परिणाम कुछ और हो
सकता था. लचरता आक्रमण और कुछ
हद तक रक्षापंक्ति में थी.
तालमेल की कमी भी दिखी लेकिन
इसके पीछे का कारण
अनुभवहीनता है. 

इस पक्ष
में सुधार वक्त के साथ आएगा
लेकिन मलेशिया जैसी
तेजतर्रार टीम के खिलाफ
भारतीय टीम को काफी सावधान
रहना होगा क्योंकि यह टीम
इकाई के रूप में खेलने के लिए
मशहूर है. साथ ही साथ इसका
काउंटर अटैक भी अच्छा है और
पेनाल्टी कार्नर को गोल में
बदलने की कला भी इसे आती है. 

भारत
एशिया कप खिताब से मात्र दो
कदम दूर है. यह खिताब उसे 2014
में द हेग में होने वाले
एफआईएच विश्व कप की योग्यता
प्रदान करेगा. मलेशिया और
कोरिया विश्व कप के लिए
क्वालीफाई कर चुके हैं लेकिन
पाकिस्तान की भी नजर इस खिताब
पर है क्योंकि उसे भी विश्व
कप के लिए क्वालीफाई करना है.
पाकिस्तान को दूसरे
सेमीफाइनल में कोरिया से
भिड़ना है.’

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: एशिया कप हॉकी: मलेशिया के खिलाफ भारत को रहना होगा सावधान
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

टेनिस: सिनसिनाटी ओपन के क्वार्टर फाइनल में कोंटा
टेनिस: सिनसिनाटी ओपन के क्वार्टर फाइनल में कोंटा

बासिल: ब्रिटेन की स्टार महिला टेनिस खिलाड़ी योहाना कोंटा ने सिनसिनाटी ओपन टेनिस टूर्नामेंट के...

ENGvsWI: कुक और रूट के शतकों से पहले दिन इंग्लैंड मजूबत
ENGvsWI: कुक और रूट के शतकों से पहले दिन इंग्लैंड मजूबत

बर्मिंघम: पूर्व कप्तान एलिस्टेयर कुक और मौजूदा कप्तान जो रूट की शानदार शतकों की मदद से...

श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज से पहले धोनी ने नेट्स में दिखाया दम
श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज से पहले धोनी ने नेट्स में दिखाया दम

दाम्बुला: 20 अगस्त को श्रीलंका के खिलाफ शुरु...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017