ग्रां-प्री को खेल नहीं, बल्कि पर्यटन आकर्षण के तौर पर देखें

By: | Last Updated: Thursday, 24 October 2013 7:41 AM
ग्रां-प्री को खेल नहीं, बल्कि पर्यटन आकर्षण के तौर पर देखें

<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
<b>नई
दिल्ली:</b> ग्रेटर नोएडा के
बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट में
गुरुवार से शुरू हो रहा देश
का तीसरा फॉर्मूला-1 रेस
इंडियन ग्रां प्री. कई मायनों
में अहम है.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट पर
फॉर्मूला-1 के इतिहास में
आखिरी बार वी-8 इंजन वाली
कारें रेस में हिस्सा लेंगी.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
इसके अलावा आस्ट्रेलिया के
चैम्पियन चालक मार्क वेबर भी
इस सत्र के बाद एफ-1 से संन्यास
ले लेंगे, और ब्राजील के
फेलिप मासा भी संन्यास की
तैयारी कर चुके हैं. और फिर
अगले वर्ष भारत में
फॉर्मूला-1 रेस का आयोजन नहीं
होगा,  हमें पूरी उम्मीद है कि
2015 में फिर से इंडियन ग्रां
प्री का आयोजन होगा.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
मेरे लिए व्यक्तिगत तौर पर
पिछले दो सत्रों में अपने
घरेलू दर्शकों के सामने यहां
रेस में हिस्सा लेना बेहद
रोमांचक रहा. अपने घरेलू
सर्किट पर रेस करना वास्तव
में बहुत सम्मान की बात है.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
यहां पहले रेस के दौरान तो
माहौल बहुत ही उत्साहपूर्ण
एवं रोमांचक रहा, तथा
प्रशंसकों, मीडिया एवं अन्य
लोगों ने इसके प्रति
बढ़-चढ़कर उत्साह दिखाया था.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
मैंने 2005 में पहली बार जब एफ-1
में हिस्सा लेना शुरू किया
था, तो उस समय यदि कोई मुझसे
कहता कि एक दशक से भी कम समय
में मैं अपने घरेलू ट्रैक पर
एफ-1 रेस में हिस्सा ले रहा
होऊंगा, तो उसकी बातों को मैं
बकवास करार देता.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
देश में अब तक हुए दोनों एफ-1
रेस टूर्नामेंट के दौरान
अवसंरचना एवं माहौल की
दृष्टि से काफी सफल रहे,
लेकिन पहला टूर्नामेंट मेरी
समझ से बेहद रोमांचक था.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
2011 में देश में हुए पहले एफ-1
रेस के दौरान मैं काफी हताश
था, जुलाई तक मैंने किसी भी
रेस को पूरा नहीं किया था और
उच्च वरीयता वाले चालक
डेनियल रिकियाडरे के खिलाफ
बेहतर प्रदर्शन करने के लिए
मैं खुद पर काफी दबाव महसूस
कर रहा था.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
उस वर्ष क्वालीफाइंग रेस में
हमारा प्रदर्शन बहुत अच्छा
रहा था. मुख्य रेस में भी तमाम
बाधाओं के बावजूद हमने बेहतर
रिकॉर्ड के साथ रेस समाप्त
की, और रिकियाडरे से मात्र 30
सेकेंड पीछे रहे. फाइनल
परिणाम में हम 17वें स्थान पर
रहे थे, जो हमारी उम्मीद से
हमारा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन
था. कुल मिलाकर उस वर्ष हमारे
लिए इंडियन ग्रां प्री बेहद
सफल रहा.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
इस वर्ष लेकिन एफ-1 रेस में कोई
भी भारतीय चालक हिस्सा नहीं
ले रहा है, यह बहुत ही शर्म की
बात है. लेकिन रातों-रात एफ-1
चालक नहीं बना करते, इसमें
समय लगता है.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
मेरे समय में
प्रतिद्वंद्विता कहीं सीधी
और सरल थी, लेकिन आज यह काफी
चुनौतीपूर्ण हो चुकी है.
मैंने कभी भी कार्ट की सवारी
नहीं कि, जबकि आठ वर्ष की उम्र
से ही बच्चे कार्ट चलाने लगते
हैं.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
इस बीच हालांकि जेहान
दारूवाला ने देश के लिए
बेहतरीन प्रदर्शन किया है.
उन्होंने एशिया के साथ-साथ इस
वर्ष इंग्लैंड की कार्टिग
चैम्पियनशिप जीती. मैंने
दारूवाला के पिता से बात की
और उन्होंने दारूवाला को
पूरा समर्थन देने के लिए अपनी
प्रतिबद्धता व्यक्त की, और
ऐसे में आपको इसकी बहुत
आवश्यकता होती है.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
एकदम सपाट समतल मैदानी इलाके
में विकसित करने के बावजूद
बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट को
बहुत ही उम्दा तरीके से
निर्मित किया गया है. यह बहुत
ही चुनौतीपूर्ण एफ-1 सर्किटों
में से है.<br />
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
जेपी समूह ने एफ-1 रेस को भारत
लाने में वास्तव में बहुत
मेहनत की है, तथा सरकार को
समझना होगा कि एफ-1 को लेकर
भारत को विश्व में नई उम्मीद
के तौर पर देखा जा रहा है.
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
सरकार को एफ-1 रेस को खेल की
तरह नहीं, बल्कि पर्यटन के
आकर्षण के रूप में देखना
चाहिए.<br />
</p>

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: ग्रां-प्री को खेल नहीं, बल्कि पर्यटन आकर्षण के तौर पर देखें
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: 1
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017