जांच पूरी होने तक बीसीसीआई नहीं आ सकते श्रीनिवासन: सुप्रीम कोर्ट

By: | Last Updated: Thursday, 17 April 2014 5:11 AM

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने एन श्रीनिवासन के बीसीसीआई प्रमुख बनने पर रोक लगाते हुए कहा है कि जब तक आईपीएल में सट्टेबाजी और स्पॉट फिक्सिंग मामले की जांच में उन्हें क्लीन चिट नहीं मिल जाती तब तक भारतीय क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड के मुखिया नहीं रह सकते.

 

सट्टेबाजी और स्पॉट फिक्सिंग कांड की जांच करने वाली जस्टिस मुद्गल समिति की रिपोर्ट में श्रीनिवासन और कुछ खिलाड़ियों सहित 12 अन्य व्यक्तियों के नामों का जिक्र है. न्यायमूर्ति ए के पटनायक की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने कहा कि इस मामले की जांच करने वाली समिति के आरोपों के प्रति ‘आंख नहीं मूंद सकती’ है और सीलबंद लिफाफे में पेश रिपोर्ट में कुछ प्रमुख खिलाड़ियों के कारण इस प्रकरण को लेकर व्याप्त संदेह दूर करने के लिये इसकी जांच करायी जानी चाहिए.

 

जजों ने इस मामले की जांच के लिये विशेष जांच दल या केन्द्रीय जांच ब्यूरो को आदेश देने के बारे में कुछ संकोच करते हुये कहा कि बोर्ड की संस्थागत स्वायत्तता बनाये रखना जरूरी है और बेहतर होगा कि बीसीसीआई द्वारा गठित समिति सारे मामले की जांच करे.

 

न्यायाधीशों ने कहा, ‘‘आरोपों के स्वरूप को देखते हुये हम इससे अपनी आंखे नहीं मूंद सकते हैं और जब तक यह (जांच) पूरी हो, श्रीनिवासन बीसीसीआई में नहीं आ सकते.’’ न्यायालय ने कहा, ‘‘13 व्यक्तियों के खिलाफ आरोपों का सत्यापन और जांच आवश्यक हैं. श्रीनिवासन का नाम सबसे अंत में आता है. बहुत खास क्रिकेटरों के नाम हैं लेकिन हम इस समय उनके नाम नहीं लेना चाहते.’’

 

न्यायालय ने कहा कि वह बोर्ड की संस्थागत स्वायत्तता बनाये रखना चाहता है और पुलिस या सीबीआई से जांच का आदेश देकर इसमें हस्तक्षेप नहीं करना चाहता है. न्यायाधीशों ने कहा, ‘‘हम उनके खिलाफ सीबीआई, एसआईटी या पुलिस से जांच नहीं कराना चाहते लेकिन यदि हमें बाध्य किया गया तो हम ऐसा करेंगे. आरोपों की जांच कौन करेगा. इस पर सोचिये और विचार करके अगली तारीख पर इसका जवाब दीजिये.’’

 

न्यायालय ने कहा कि वह जांच एजेन्सियों के साथ गोपनीय रिपोर्ट साझा नहीं कर सकता है क्योंकि ऐसा करने पर क्रिकेट खिलाड़ियों के नाम सार्वजनिक हो जायेंगे और मीडिया कीचड़ उछालना शुरू कर देगी. न्यायमूर्ति मुद्गल समिति की सीलबंद लिफाफे में पेश रिपोर्ट का जिक्र करते हुये न्यायाधीशों ने कहा, ‘‘यह (रिपोर्ट) कहती है कि ये सारे आरोप उनके (श्रीनिवासन) के संज्ञान में लाये गये थे लेकिन उन्होंने कुछ नहीं किया. इसका मतलब हुआ कि वह आरोपों के बारे में जानते थे और उन्होंने इसे गंभीरता से नहीं लिया.’’

 

न्यायाधीशों ने सवाल किया, ‘‘हमें किसे यह रिपोर्ट देनी चाहिए.? क्या हम उसे बीसीसीआई और श्रीनिवासन को दें या हम जांच के लिये विशेष जांच दल गठित करें. हमे बीसीसीआई में भरोसा है. उसे ही जांच समिति नियुक्त करनी चाहिए लेकिन इसमें निष्ठा वाले व्यक्ति होने चाहिए. हम विशेष जांच दल, सीबीआई या पुलिस जांच नहीं चाहते.’’ बोर्ड और श्रीनिवासन ने किसी बाहरी एजेन्सी से जांच का जोरदार विरोध किया लेकिन बिहार क्रिकेट एसोसिएशन विशेष जांच दल का पक्षधर है. बोर्ड का दावा है कि नया प्रबंधन के तहत वह अपने पूर्व मुखिया के प्रभाव के बगैर ही काम कर रहा है.

 

न्यायालय ने कहा कि उसकी चिंता क्रिकेट के बारे में है इसलिए श्रीनिवासन के स्थान पर नयी अंतरिम व्यवस्था की गयी ताकि आईपीएल की छवि धूमिल नहीं हो और वह सफल रहे.

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: जांच पूरी होने तक बीसीसीआई नहीं आ सकते श्रीनिवासन: सुप्रीम कोर्ट
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017