टी-20 विश्व कप सेमीफाइनलः पांच फैक्टर जो बन सकती है टीम इंडिया के लिए मुसीबत

टी-20 विश्व कप सेमीफाइनलः पांच फैक्टर जो बन सकती है टीम इंडिया के लिए मुसीबत

By: | Updated: 03 Apr 2014 07:42 AM

नई दिल्लीः टी-20 विश्व कप में कल भारत का मुकाबला दक्षिण अफ्रीका से होगा. टीम इंडिया के लिए ये राहत की बात है कि उनके सामने श्रीलंका नहीं है. दक्षिण अफ्रीका को हराना भारत के लिए श्रीलंका की तुलना में आसान होगा लेकिन अफ्रीकी टीम के विरूद्ध खेलने से पहले टीम इंडिया को कुछ बातों पर ध्यान देना होगा.

 



1 - टीम इंडिया को अपने ओपनिंग बल्लेबाजी पर ध्यान देना होगा. पिछले चार मुकाबलों में तीन बार टीम इंडिया के दोनों ही ओपनर बड़ी साझेदारी देने में फेल रहे हैं. रोहित शर्मा ने इस दौरान रन बनाए लेकिन व्यक्तिगत ही रहे. इस श्रृंखला में शिखर धवन बूरी तरह फ्लॉप रहे हैं. तीन मुकाबलों में भारत के सलामी जोड़ी ने 1, 6 और 13 रन बनाए. सिर्फ पाकिस्तान के खिलाफ टीम इंडिया ने पहले विकेट के लिए अर्द्धशतकीय साझेदारी की थी. ऐसे में शिखर की जगह धोनी अजिंक्या रहाणे को एक और मौका दे सकते हैं.

 

2 टीम इंडिया को दक्षिण अफ्रीका से सबसे ज्यादा खतरा उनके पेस अटैक से है. डेल स्टेन लगातार शानदार गेंदबाजी कर रहे हैं. स्टेन को वेन पार्नेल का अच्छा साथ मिला है. इन दोनों के आलावा बाकी के तेज गेंदबाज भी अच्छे फॉर्म में हैं. कल जिस पिच पर मैच खेला जाएगा वो पिछले कुछ मैच से अलग रह सकता है ऐसे में अफ्रीका तेज गंदबाज फायदा उठाने की कोशिश करेंगे.

 

 

3 दक्षिण अफ्रीका के तीन बल्लेबाज टीम इंडिया के गेंदबाज पर भारी पड़ सकते हैं. हाशिम आमला और डी कॉक ने टीम को हमेशा एक सधी हुई शुरूआत दी है और उसके बाद आने वाले एबी डीबीलियर्स तेज तगि से रन बनाने में माहिर हैं ऐसे में टीम इंडिया के गेंदबाजों को पहले तीन विकेट जल्द निपटाने होंगे.

 

 

4 टीम इंडिया के चारों मैच जीतने में अब तक स्पिनरों का जलाव रहा है. तेज गेंदबाजों की परीक्षा अभी बांकी हैं. भूवनेश्वर कुमार गेंद से अच्छे रहे हैं लेकिन सेमीफाइनल जैसे बड़े मैच में सब कुछ अलग हो जाता है. पिछले कुछ दिनों से ढाका का मौसम सामान्य से कम रहा है ऐसे में अगर ओस पड़ती है तो स्पिनरों को गेंदबाजी में दिक्कत आ सकती है. इन हालात में तेज गेंदबाजों पर जिम्मेदारी बढ़ जाएगी.

 

 

5 इनके आलाव दोनों टीमों के फील्डिंग भी मैच पर असर डाल सकती है. टीम इंडिया के पास विराट कोहली, सुरेश रैना. रविन्द्र जडेजा और अजिंक्या रहाणे जैसे विश्व स्तरीय फील्डर हैं. लेकिन अमित मिश्रा और कुमार जैसे खिलाड़ी भी मैदान पर होंगे जिनकी फील्डिंग औसत दर्जे से भी कम हैं. वहीं दक्षिण अफ्रीकी फील्डरों से किसी भी मिस चांस की उम्मीद नहीं है.

 

भले ही टीम इंडिया की चिंता इन बातों से बढ़ सकती है लेकिन टीम इंडिया के लिए मीरपुर की पिच मैच जिताऊ साबित हुई है. यहां की पिच स्पिन गेंदबाजों के लिए स्वर्ग साबित हुई है ऐसे में ज्याद चिंता दक्षिण अफ्रीका को करना होगा. 

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest Sports News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story 5 विकेट चटकाने के बाद भुवनेश्वर ने बताया दौरे पर टीम की सफलता का राज़