तेलंगाना मुद्दे की गर्माहट में राज्यसभा के सभापति का माइक्रोफोन खींचा गया, दोनो सदनों में गतिरोध कायम

By: | Last Updated: Tuesday, 11 February 2014 4:26 AM

नई दिल्ली: तेलंगाना और दूसरे कुछ मुद्दों पर संसद के दोनों सदनों में लगातार चौथे दिन सोमवार को भी गतिरोध जारी रहा. राज्यसभा को एक सदस्य द्वारा सभापति का माइक्रोफोन खींचने जैसा अशोभनीय दृश्य देखना पड़ा. राज्यसभा में तेलंगाना मुद्दे पर जहां प्रदर्शन हुए वहीं तमिलनाडु के सदस्यों ने तमिल मछुआरों की समस्या पर चर्चा कराने की मांग की.

 

पिछले सप्ताह विभिन्न मुद्दा उठाने के दौरान नियमों को तोड़ने के मामले में उनके विरुद्ध कार्रवाई के लिए 10 सांसदों का नाम का उल्लेख किए जाने पर माहौल और गर्म हो गया. पहली बार स्थगित होने के बाद सदन की कार्यवाही जब दोपहर 12 बजे दोबारा से शुरू हुई, तो आंध्र प्रदेश से कांग्रेस और तेलुगू देशम पार्टी के सांसदों ने सभापति के आसन के सामने आकर संयुक्त आंध्र प्रदेश के समर्थन में नारे लगाए.

 

इस बीच एआईएडीएमके नेता वी. मैत्रेयन और डीएमके नेता टी. एम. सेल्वागणपति ने कुछ दस्तावेज फाड़ डाले, जिसमें सदन की कार्यवाहियों के विवरण प्रकाशित थे. मैत्रेयन को सभापति का माइक्रोफोन भी खींचते देखा गया. इस बीच उपसभापति पी. जे. कुरियन ने सदन की कार्यवाही दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी.

 

सदन की कार्यवाही फिर से शुरू होते ही मैत्रेयन ने फिर माइक्रोफोन खींच लिया और आसन के सामने पड़े कुछ कागजात फाड़ डाले. उन्हें राज्यसभा के कर्मचारियों ने रोका. इसके बाद कुरियन ने सदन की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी. इससे पहले सुबह कार्यवाही शुरू होते ही कई सदस्य सभापति के आसन के सामने जमा होकर प्रदर्शन करने लगे थे.

 

सभापति हामिद अंसारी कुछ समय तक स्थिर भाव से प्रदर्शन देखते रहे और सदन की कार्यवाही को पहले 10 मिनट के लिए और उसके बाद 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी. उधर लोकसभा की कार्यवाही सुबह 11 बजे शुरू होते ही तेलंगाना राज्य के गठन के समर्थक और विरोधी सदस्यों ने नारे लगाने शुरू कर दिए.

 

उनके साथ-साथ समाजवादी पार्टी के सदस्यों ने सांप्रदायिक हिंसा विधेयक पर नारेबाजी शुरू कर दी. इसके साथ ही शिरोमणि अकाली दल के सदस्यों ने हाथों में नारे लिखे तख्तियां लेकर राहुल गांधी से 1984 के दंगे के गुनाहगारों के नाम बताने की मांग करने लगे. शोर-शराबे के बीच अध्यक्ष मीरा कुमार ने सदन की कार्यवाही दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित कर दी.

 

दोपहर में कार्यवाही फिर शुरू होने के बाद भी सदन में वही नजारा देखा गया. अध्यक्ष द्वारा बार-बार शांति बनाए रखने का अनुरोध करने पर भी स्थिति जस की तस बनी रही. जिसके कारण वह कांग्रेस के वी. अरुण कुमार और तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के. के. नारायण राव द्वारा अविश्वास प्रस्ताव के लिए दी गई नोटिसों पर विचार नहीं कर सकीं. शोर-शराबा बरकरार रहने की स्थिति में मीरा कुमार ने सदन को दिन भर के लिए स्थगित कर दिया.

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: तेलंगाना मुद्दे की गर्माहट में राज्यसभा के सभापति का माइक्रोफोन खींचा गया, दोनो सदनों में गतिरोध कायम
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ???? ????????
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017