भोपाल से टिकट नहीं मिलने से आडवाणी नाराज, चाहते हैं एक सीट चुनने का अधिकार

By: | Last Updated: Thursday, 20 March 2014 2:59 AM

नई दिल्ली: बीजेपी में वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडावाणी के टिकट को लेकर पार्टी में मचा घमासान खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है. बुधवार की शाम बीजेपी ने आडवाणी को गांधीनगर से टिकट देने का एलान किया, लेकिन पार्टी के ये दिग्गज भोपाल से चुनावी मैदान में अपनी किस्मत आज़माना चाहते हैं.

 

आडवाणी का गांधीनगर से चुनाव नहीं लड़ने की ज़िद्द की वजह यह है कि उन्हें डर सता रहा है कि वहां मोदी समर्थक उनके साथ भीतरघात कर सकते हैं.

 

टकराव और तनातनी का आलम यह है कि बीजेपी के पैतृक संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के हस्तेक्ष के बावजूद मामले का निपटारा नहीं हो पा रहा है, हालांकि संघ के सामने बीजेपी का हरेक नेता दंडवत रहता है.

 

गांधीनगर से टिकट दिए जाने के बाद आडवाणी ने कहा है कि वो भोपाल से ही चुनाव लड़ना चाहते है .

 

आडवाणी ने गांधीनगर सीट से टिकट दिए जाने पर गुजरात स्टेट यूनिट को धन्यवाद देते हुए कहा है कि दोनों में से किसी एक सीट के चुनाव का अधिकार उन्हें मिलना चाहिए.

 

टिकट के ऐलान के बाद सुषमा स्वराज और नितिन गडकरी पार्टी के वरिष्ठ नेता आडवाणी से मिलने उनके घर पहुंचे. 45 मिनट चली मुलाकात में आडवाणी ने इन दोनों को अपनी भोपाल से लड़ने की इच्छा बताई. आडवाणी से मुलाकात के बाद गडकरी और सुषमा स्वराज बीजेपी अध्यक्ष राजनाथ सिंह से मिले और उन्हें आडवाणी की भोपाल से लड़ने की इच्छा के बारे में जानकारी दे दी.

 

पीटीआई के मुताबिक गडकरी और सुषमा ने राजनाथ सिंह को ये भी बताया कि आडवाणी पार्टी की ओर से गांधीनगर सीट दिए जाने से नाराज हैं.

 

टिकटों के एलान के बाद पीएम पद के बीजेपी उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से दिल्ली के झंडेवालान दफ्तर में मुलाकात की.मोदी और भागवत की डेढ़ घंटे से ज्यादा चली मुलाकात में आडवाणी के टिकट के मुद्दे पर बातचीत हुई. सूत्रों के मुताबिक मोदी ने टिकट बंटवारे को लेकर अपना पक्ष रखा.

 

संघ के कंधे पर है ज़िम्मेदारी

 

मोदी और आडवाणी का झगड़ा एक बार फिर संघ तक पहुंच गया है, सूत्रों के मुताबिक मुलाकात में मोदी ने संघ प्रमुख से बीच का कोई रास्ता निकालने को कहा. दरअसल मोदी-आडवाणी में मतभेद के बाद आडवाणी समर्थकों को डर है कि कहीं मोदी समर्थक आडवाणी को गांधीनगर में हरवा ना दें.

 

सूत्रों के मुताबिक मोदी और भागवत की मुलाकात में मोदी ने दबाव बनाते हुए कहा कि आडवाणी बीजेपी चुनाव बोर्ड के फैसले को मानें नहीं तो इससे गलत संदेश जाएगा. आडवाणी के भोपाल से चुनाव लड़ने की अटकलें शाम तक थीं लेकिन चुनाव समिति की बैठक में उन्हें गांधीनगर से टिकट देने पर फैसला हुआ.

 

आडवाणी को भोपाल से टिकट ना दिए जाने से भोपाल के बीजेपी सांसद कैलाश जोशी भी मायूस हैं.

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: भोपाल से टिकट नहीं मिलने से आडवाणी नाराज, चाहते हैं एक सीट चुनने का अधिकार
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: advani BJP ele2014
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017