मीडिया मैनेजर का दावा, 'टीम में सब ठीक है'

मीडिया मैनेजर का दावा, "टीम में सब ठीक है"

By: | Updated: 23 Feb 2012 01:00 PM


मुंबई: सहवाग और धोनी
के झगड़े की खबरों के बीच टीम
इंडिया के मीडिया मैनेजर ने
दावा किया है कि टीम में सब
कुछ ठीक है.




गुरूवार को टीम में दरार को
लेकर सीनियर खिलाड़ियों के
बीच बैठक भी हुई थी. सूत्रों
के हवाले से खबर है कि
बीसीसीआई ने झगड़े को लेकर
कड़ी फटकार लगाई है.




टीम इंडिया के कप्तान धोनी और
सीनियरों के बीच दरार की खबर
पर बीसीसीआई में खलबली मच गई
है. पीटीआई के मुताबिक बोर्ड
के सचिव संजय जगदाले ने धोनी,
सहवाग और कोच फ्लेचर से बात
की है.




एकता दिखाने के लिए धोनी और
सहवाग एक साथ प्रेस
कॉन्फ्रेंस कर सकते हैं.
हालांकि दोनों साथ-साथ कब
बोलेंगे ये तय नहीं है.




पहले आई दरार की खबर और अब आ
रही है दरार भरने की कोशिश की
खबर. इस दरार को भरने के लिए हो
सकती है खिलाड़ियों की परेड.


पांच जून 2009..टी20 विश्व कप
शुरू होने से एक दिन पहले
सहवाग के साथ अनबन की खबरों
के बीच टीम इंडिया के कप्तान
महेंद्र सिंह धोनी पूरी टीम
के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस में
आए और सफाई भी दी.

अब, एक
बार फिर धोनी और सहवाग टीम
इंडिया की एकता दिखाने के लिए
एक साथ नजर आ सकते हैं.
बीसीसीआई के सूत्रों के
मुताबिक जल्दी ही दोनों
दिग्गज एक साथ प्रेस
कॉन्फ्रेंस भी कर सकते हैं.

रोटेशन
के नाम पर सीनियरों को बाहर
करने और फिर सीनियर्स को
सुस्त कहने के बाद धोनी और
सहवाग की लड़ाई सबके सामने आ
गई है. हालांकि बीसीसीआई ने
पहले इस खबर को ही गलत बताया.


मतभेद खत्म करने की
कवायद


कल तक टीम में
दरार की खबर को गलत बताने
वाले बीसीसीआई के अधिकारी अब
मतभेद को खत्म करने में लगे
हुए हैं. सूत्रों के हवाले से
ऐसा बताया जा रहा है कि
बीसीसीआई के सचिव सचिव संजय
जगदाले ने कप्तान धोनी और
सहवाग से इस मुद्दे पर बात की
है ताकि दोनों के बीच सुलह
कराई जा सके.

अभी यह साफ
नहीं हुआ है कि जगदाले की
कोशिश कितनी कामयाब हुई है.
लेकिन ऐसा कहा जा रहा है कि
संजय जगदाले धोनी और सहवाग को
एक मंच पर लाने में कामयाब
दिख रहे हैं.

सूत्रों के
हवाले से ऐसा भी कहा जा रहा है
कि सहवाग और धोनी जल्द ही एक
साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर
सकते हैं. यानि दो साल पहले
वाली परेड फिर से लगाई जा
सकती है.




विवाद




आपको बता दें इन धोनी और
सहवाग के बीच विवाद की शुरुआत
कैसे हुई थी. धोनी ने 19 फरवरी
को ब्रिसबेन वनडे में
आस्ट्रेलिया से हारने के बाद
टीम के सीनियर खिलाड़ियों को
सुस्त कहकर हार का ठीकरा
फोड़ा था.

पहले तो सहवाग
ने ब्रिसबेन में श्रीलंका के
खिलाफ अगले मैच में एक शानदार
कैच लपक कर धोनी को कुछ इस
अंदाज में जवाब दिया.

फिर
सहवाग ने धोनी की उस रोटेशन
पॉलिसी पर भी सवाल उठा दिए
जिसमें सीनियरों को आराम
देने और जूनियरों को मौका
देने की बात कही जा रही थी.

लेकिन
जब इस विवाद ने रंग दिखाना
शुरू किया तो बीसीसीआई को
आखिर बीच बचाव करने आना ही
पड़ा.




फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest Sports News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story आईपीएल से पहले जारी है ऋषभ पंत का तूफान