मुझे बट्ट और मजीद ने फंसाया: मोहम्मद आमिर

मुझे बट्ट और मजीद ने फंसाया: मोहम्मद आमिर

By: | Updated: 19 Mar 2012 09:31 PM


लंदन: मैच
फिक्सिंग के आरोप में की जेल
की सजा काट चुके पाकिस्तान के
तेज़ गेंदबाज़ मोहम्मद आमिर
ने खुलासा किया है कि उन्हें
फंसाने के लिए पूर्व कप्तान
सलमान बट्ट और फिक्सर मजहर
मजीद जिम्मेदार हैं.

पाकिस्तानी
क्रिकेटर मोहम्मद आमिर ने
दावा किया है कि सलमान बट्ट
और एजेंट मजहर मजीद ने उसे
स्पॉट फिक्सिंग की फांस में
धकेला. आमिर के मुताबिक मजहर
ने ही उसे इस स्कैंडल में
घसीटा जिसकी वजह से उसने कैद
और खेलने पर पाबंदी भुगती. 

आमिर
ने ये खुलासा स्काई
स्पोर्ट्स चैनल को दिए
इंटरव्यू में की.

लंदन की
एक अदालत ने गेंदबाज आमिर को
छह साल कैद की सजा सुनाई थी
लेकिन जुर्म कबूलने और अच्छे
बर्ताव की वजह से आधी सजा के
बाद ही उसे रिहा कर दिया गया
था.
वो पिछले महीने ही
पाकिस्तान लौटा. इल्जाम था कि
आमिर ने मैच फिक्स होने के
चलते जानबूझकर नो बॉल फेंकी.
आईसीसी ने उन पर साल 2015 तक बैन
लगा रखा है.





लॉर्ड्स टेस्ट में स्पॉट
फिक्सिंग के लिए आमिर के
अलावा उस समय कप्तान रहे
सलमान बट्ट को ढाई साल और
मोहम्मद आसिफ को भी डेढ़ साल
की सजा सुनाई गई थी.




फिक्सिंग का फांस




"मैं होटल में था कि
तभी मजहर ने कुछ जरूरी बात
करने के लिए फोन से उसे
पार्किंग में बुलाया. उसने
हमें अपनी ग्रे कलर की
स्पोर्ट्स कार में बैठाया
जिसमें पिछली सीट पर सलमान
बट्ट भी बैठा था. माजिद ने
आईसीसी की एक जांच का जिक्र
करके हमसे हमदर्दी जताते हुए
कहा कि दुबई के अली नाम के
कारोबारी से बातचीत और
एसएमएस का ब्यौरा आईसीसी के
पास है और तुम्हारा कैरियर
खराब हो सकता है. मैनें कहा कि
लेकिन मेरा तो इस काम से कोई
लेनादेना नहीं है तो उसने कहा
कि लेकिन उस शख्स ने नाम लेकर
कहा कि तुम शामिल हो लेकिन
मैनें उससे मामला रफा-दफा
करने और तुम्हारा नाम ना
घसीटने को कहा है चाहे इसके
लिए कुछ भी करना पड़े. इसी
दौरान माजिद ने कहा कि
तुम्हें मेरे लिए भी कुछ करना
होगा. उसने कहा कि तुम्हें
मेरे लिए दो नो बॉल फेंकनी
होगी." मोहम्मद आमीर





आपको बता दें कि पाकिस्तानी
क्रिकेटरों के लिए एजेंट का
काम करने वाले मजहर मजीद ने
सट्टेबाज के तौर पर अगस्त 2010
में इंग्लैंड के खिलाफ
लॉर्ड्स टेस्ट के दौरान
फिक्सिंग का जाल बुना था
लेकिन न्यूज ऑफ द वर्ल्ड नाम
के अखबार के स्टिंग में उसकी
कारगुजारियों का पर्दाफाश
हो गया था.

नए इंटरव्यू
में लॉर्ड्स टेस्ट से ठीक
पहले का घटनाक्रम बताते हुए
आमिर ने कहा, "मैं होटल में था
कि तभी मजहर ने कुछ जरूरी बात
करने के लिए फोन से उसे
पार्किंग में बुलाया. उसने
हमें अपनी ग्रे कलर की
स्पोर्ट्स कार में बैठाया
जिसमें पिछली सीट पर सलमान
बट्ट भी बैठा था. माजिद ने
आईसीसी की एक जांच का जिक्र
करके हमसे हमदर्दी जताते हुए
कहा कि दुबई के अली नाम के
कारोबारी से बातचीत और
एसएमएस का ब्यौरा आईसीसी के
पास है और तुम्हारा कैरियर
खराब हो सकता है. मैनें कहा कि
लेकिन मेरा तो इस काम से कोई
लेनादेना नहीं है तो उसने कहा
कि लेकिन उस शख्स ने नाम लेकर
कहा कि तुम शामिल हो लेकिन
मैनें उससे मामला रफा-दफा
करने और तुम्हारा नाम ना
घसीटने को कहा है चाहे इसके
लिए कुछ भी करना पड़े. इसी
दौरान माजिद ने कहा कि
तुम्हें मेरे लिए भी कुछ करना
होगा. उसने कहा कि तुम्हें
मेरे लिए दो नो बॉल फेंकनी
होगी."

आमिर के मुताबिक
उन्होंने पैसे के लिए नहीं
बल्कि सलमान बट्ट और मज़हर
माजिद की ओर से अली के साथ हुई
बातचीत को लेकर डराए जाने और
दबाव बनाए जाने के चलते
नो-बॉल फेंकी.

आमिर के
मुताबिक प्रैक्टिस मैच के
दौरान सलमान बट्ट ने उन्हें
नो-बॉल फेंकने का अभ्यास करने
को भी कहा. इसी के साथ आमिर इसे
खुद की बेवकूफी बताते हुए
अफसोस जताया है.

आमिर ने
कहा कि सलमान बट्ट को वो अपना
बड़ा भाई मानता था लेकिन उसी
ने विश्वासघात किया. आमिर के
मुताबिक उसे शर्म आती है कि
उन्होंने क्रिकेट के साथ ऐसा
किया.




फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest Sports News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story आईपीएल से पहले जारी है ऋषभ पंत का तूफान