'यदि आईसीसी को ‘दूसरा’ से समस्या नहीं तो किसी को नहीं होनी चाहिये'

'यदि आईसीसी को ‘दूसरा’ से समस्या नहीं तो किसी को नहीं होनी चाहिये'

By: | Updated: 01 Apr 2014 04:22 AM

मीरपुर: ‘दूसरा’ के जनक सकलेन मुश्ताक को गर्व है कि इस गेंद का नाम उनसे जुड़ा है और वह चाहते हैं कि लोग इसकी वैधता पर सवाल करना बंद करे क्योंकि आईसीसी को कभी इससे कोई समस्या नहीं रही.

 

वेस्टइंडीज टीम के स्पिन सलाहकार के तौर पर काम कर रहे सकलेन ने यहां पत्रकारों से कहा ,‘‘ जब भी कोई दूसरा या कैरम बाल डालता है तो मुझे बहुत खुशी होती है.

 

क्रिकेट में कोई नई विविधता आती है तो मुझे अच्छा लगता है. इसकी वैधता के बारे में देखना आईसीसी का काम है और यदि वह कहती है कि सब ठीक है तो हमें भी यह मानना चाहिये.’’ हाल ही में भारतीय गेंदबाज आर अश्विन ने कहा था कि पूरी बाजू की कमीज पहनने वाले ऑफ स्पिनरों को फायदा मिलता है, इस बारे में पूछने पर उन्होंने कहा ,‘‘ अल्लाह का शुक्र है कि उन्होंने दूसरा का नाम लिया और मेरा नाम भी उसके साथ लिया गया. मुझे फख्र है कि मेरा नाम इस गेंद से जुड़ा है. मैने कभी नहीं सोचा कि इसके साथ क्या विवाद जुड़े हैं. मैने कभी पूरी बाजू और आधी बाजू की कमीज जैसे मसलों पर नहीं सोचा.’’

 

उन्होंने कैरेबियाई टीम के बारे में कहा ,‘‘ मेरी दुआयें मेरी टीम के साथ है जो इस समय वेस्टइंडीज है. मजहबी नजरिये से देखें तो भी मजहब कहता है कि मुझे ईमानदार रहना होगा और मैं रहूंगा. मेरी जर्सी पर वेस्टइंडीज का लोगो है.’’

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest Sports News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story टीम में मौके के लिए इंतज़ार कर पाना मुश्किल होता है: मनीष पांडे