यार्कर को सही करने का पाकिस्तानी तरीका - टायर तकनीक

यार्कर को सही करने का पाकिस्तानी तरीका - टायर तकनीक

By: | Updated: 31 Mar 2014 06:34 AM

मीरपुर: अब वो दिन बीत गये हैं जब कोच एक रूपये का सिक्का रखकर महान पाकिस्तान तेज गेंदबाज फजल महमूद को उस सिक्के पर गेंद फेंकने के लिये कहता था. अब तो क्रिकेटर टायर के सहारे गेंदबाजी सुधार रहे हैं. कल प्रैक्टिस सेशन में पाक खिलाड़ी टायर के द्वारा यार्कर फेंकने की कोशिश कर रहे थे.

 

पाकिस्तान में आज भी सबसे आम तरीका आंशिक रूप से टेप लगायी गयी टेनिस और रबड़ की गेंद से गेंदबाजी करने का है जिससे युवाओं को शुरू से ही रिवर्स स्विंग की कला सीखने में मदद मिलती है. ऐसा इसलिये क्योंकि गेंद का एक हिस्सा भारी हो जाता है और गेंद स्वत: ही हवा में स्विंग होने लगती है और फिसलने भी लगती है.

 

वकार यूनिस जैसे गेंदबाजों ने रिवर्स स्विंग पाकिस्तान की सड़कों पर टेप लगी रबड़ की गेंद से खेलकर सीखी है.

 

सिक्के से लेकर टेप लगी गेंद तक कोचिंग के विभिन्न तरीके गेंदबाजों को सुधार करने में इस्तेमाल किये जाते रहे हैं.

 

भारतीय टीम ने इसी काम के लिये आस्ट्रेलिया से पुतला मंगाया है जिसका ट्रेनिंग के दौरान कभी कभार ही इस्तेमाल किया जाता है. लेकिन पाकिस्तानी टीम कल ट्रेनिंग सत्र में ट्रक के पहिये (आधा काटा हुआ) का इस्तेमाल करती दिखायी दी. यह बिलकुल विचित्र तरीका था क्योंकि टायर बड़े होते हैं, जो संभवत वोल्वो ट्रक में इस्तेमाल किये जाते हैं. टायर को दो हिस्से में काटकर, गुडलेथ स्थान की तरह लंबवत रख दिया गया.

 

पाकिस्तान के गेंदबाजी कोच मोहम्मद अकरम तेज गेंदबाज उमर गुल, बिलावल भट्टी, जुनैद खान को अर्धचंद्राकर टायर के छेद के अंदर गेंद फेंकने का निर्देश दे रहे थे. कभी कभार वे सही कर रहे थे, कभी ऐसा नहीं कर पा रहे थे.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title:
Read all latest Sports News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story करूण नायर ने कहा, 'पिछले एक साल में आसमान से ज़मीन तक का सफर देखा'