लाल बजरी पर फिर चमकेंगे नडाल ?

By: | Last Updated: Thursday, 22 May 2014 5:23 AM
लाल बजरी पर फिर चमकेंगे नडाल ?

नई दिल्लीः पेरिस की धरती पर कुछ ही दिनों में लाल बजरी की जंग छिड़ जाएगी. अगले हफ्ते टेनिस के दूसरे ग्रैंड स्लैम फ्रैंच ओपन के 113वें संस्करण की शुरुआत होनी है और इस बार सभी टेनिस प्रेमियों के जहन में एक ही सवाल है कि क्या राफेल नडाल अपना 9वां फ्रैंच ओपन खिताब जीतने में कामयाब हो पाएंगे. क्ले कोर्ट के बादशाह कहलाने वाले नडाल ने 2013  में इस खिताब को अपने नाम किया था, लेकिन इस साल की शुरुआत से ही नडाल को कई मौकों पर लाल बजरी पर हार का सामना करना पड़ा है, इसलिए उनके खिताब जीतने के आसार पर आशंका के बादल जरूर मंडरा रहे हैं.

 

 

विश्व रैंकिंग में पहले पायदान पर काबिज नडाल को टूर्नामेंट में भी पहली वरीयता दी गई है. लेकिन साल के शुरुआत से ही क्ले कोर्ट पर उनका प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा. पिछले महीने नडाल को मोंटे-कार्लो रोलेक्स मास्टर्स के क्वार्टर-फाइनल में हमवतन डेविड फेरर ने 7-6, 6-4 के हाथों सीधे सेटों में मात मिली. नडाल इससे पहले 2005 से 2012 तक लगातार इस खिताब को जीतते आए थे, और पिछले साल भी टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचे थे. क्ले कोर्ट पर नडाल की हार का ये सिलसिला बार्सिलोना ओपन में भी जारी रहा जहां उन्हें निकोलस अलमार्गो के हाथों हार का सामना करना पड़ा. यहां भी नडाल को क्वार्टर फाइनल में हार का सामना करना पड़ा. हालांकि इसके बाद मुटुआ मेड्रिड मास्टर्स में नडाल ने खिताब जीतकर राहत की सांस ली. फाइनल में नडाल के खिलाफ खेल रहे जापान के केई निशिकोरी ने पीठ में दर्द की वजह से मैच बीच में ही छोड़ दिया, उस समय नडाल 2-6, 6-4, 3-0 से आगे चल रहे थे. ये इस साल का नडाल का तीसरा खिताब था.  

 

 

इस साल नडाल ने ऑस्ट्रेलियन ओपन के खिताबी मुकाबले में जगह बनाई थी जहां स्विटजरलैंड के वावरिंका ने उन्हें हराकर अपना पहला टेनिस ग्रैंड स्लैम टाइटल जीता था. इस दौरान नडाल की पीठ में चोट की खबर भी आई. उसके बाद से ही ये टेनिस कोर्ट पर इस खिलाड़ी का उतार-चढ़ाव जारी है. नडाल फ्रैंच ओपन में 34-6 के स्कोर के साथ जा रहे हैं, मतलब आधा साल अभी पूरा हुआ भी नहीं है और विश्व नंबर 1 ये खिलाड़ी अब तक 6 मौकों पर खुद से निचले रैंक के खिलाड़ियों से मात खा चुका है. इस रविवार को भी इटली ओपन के फाइनल में विश्व नंबर 2 सर्बिया के नोवाक जोकोविक ने नडाल को तीन सेटों तक चले मुकाबले में मात दी. नडाल इस हार के साथ फ्रैंच ओपन टूर्नामेंट में प्रवेश करेंगे.

 

 

क्ले कोर्ट पर नडाल के ढीले प्रदर्शन पर उनके कोच अंकल टोनी (नडाल के चाचा) ने भी यही कहा है नडाल का खेल देखकर कोई ये नहीं कह सकता कि ये वही शख्स है जिसने 8 बार फ्रैंच ओपन ग्रैंड स्लैम अपने नाम किया हो. कोच टोनी का चिंता करना लाजमी है क्योंकि फ्रैंच ओपन में नडाल को नोवाक जोकोविक, डेविड फेरर, एंडी मरे, वावरिंका जैसे खिलाड़ियों से भी लोहा लेना होगा. नडाल जिस आक्रामक खेल के लिए जाने जाते थे वो कहीं गुम होता दिख रहा है. पिछले कुछ मैचों में नडाल की रफ्तार और तकनीक में आई कमी साफ देखी जा सकती है. रॉजर फेडरर के पूर्व कोच पॉल एननकोन का मानना है कि नडाल का खेल शारीरिक और मानसिक प्रभुत्व से भरा होता है और हाल कि दिनों में इस संतुलन में कमी आई है, लेकिन जिस खिलाड़ी ने रोलां गैरो पर 59-1 (59 जीत और 1 हार) का रिकॉर्ड कायम किया हो, वो धमाकेदार वापसी जरूर करेगा. निश्चित रूप से नडाल को क्ले कोर्ट का श्रेष्ठतम खिलाड़ी कहा जा सकता है और विश्व भर में उनके फैन्स यही दुआ करेंगे कि रोलां गैरो की लाल बजरी पर नडाल एक बार फिर से चमकें.

 

 

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: लाल बजरी पर फिर चमकेंगे नडाल ?
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ??? ???? ????? ???? ?????? ???
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017