'शतरंज भी बन सकता है दर्शकों के लिए आकर्षक'

By: | Last Updated: Monday, 18 November 2013 8:49 PM

<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
<span style=”line-height: 1.3em;”><b>चेन्नई: </b>बोर्ड
पर खेले जाने वाले खेलों को
दर्शकों के लिए आकर्षक नहीं
माना जाता, लेकिन शतरंज के
स्वरूप में बदलाव कर इसे
आकर्षक बनाया जा सकता है.</span>
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
<span style=”line-height: 1.3em;”></span><span style=”line-height: 1.3em;”>एक
पूर्व महिला विश्व चैम्पियन
के अनुसार, शतरंज के लिए अधिक
से अधिक प्रचार कार्यक्रमों
का आयोजन कर और यहां तक कि
चीयरलीडर्स का इस्तेमाल कर
इसे दर्शकों के लिए आकर्षक
बनाया जा सकता है.</span>
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
<span style=”line-height: 1.3em;”></span><span style=”line-height: 1.3em;”>विश्व
चैम्पियनशिप में चार बार की
विजेता और पांच बार शतरंज
ओलम्पिक जीतने वाली 44 वर्षीय
सूसन पोल्गर ने बातचीत में
कहा, “शतरंज में भी दूसरे
मैदानी खेलों की तरह ही
दर्शकों को आकर्षित करने
वाले सारे तत्व मौजूद हैं.
मुझे पूरा विश्वास है कि
शतरंज के मौजूदा प्रारूप में
मामूली परिवर्तन करके इसे
दर्शकों को आकर्षित करने
वाला खेल बनाया जा सकता है.”</span>
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
<span style=”line-height: 1.3em;”></span><span style=”line-height: 1.3em;”>पोल्गर
ने आगे कहा कि शतरंज के
प्रारूप में परिवर्तन करके
इसे किसी होटल में नहीं बल्कि
किसी बड़े स्टेडियम में
खेलने योग्य बनाया जा सकता
है.</span>
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
<span style=”line-height: 1.3em;”></span><span style=”line-height: 1.3em;”>उन्होंने
आगे बताया कि शतरंज मस्तिष्क
और रणनीति आधारित खेल है,
लेकिन महिलाओं के लिए इसका
प्रारूप थोड़ा भिन्न होना
चाहिए.</span>
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
<span style=”line-height: 1.3em;”></span><span style=”line-height: 1.3em;”>पोल्गर
सर्वोच्च विश्व वरीय नॉर्वे
के चैम्पियन खिलाड़ी मैग्नस
कार्लसन और गत चैम्पियन
विश्वनाथन आनंद के बीच चल रहे
विश्व चैम्पियनशिप में चार
कमेंटेटरों में से एक हैं.</span>
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
<span style=”line-height: 1.3em;”></span><span style=”line-height: 1.3em;”>शतरंज
जगत में मशहूर पोल्गर बहनों
में सूसन सबसे बड़ी हैं, तथा
सोफिया और ज्यूडिथ उनकी दो
अन्य बहनें हैं.</span>
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
<span style=”line-height: 1.3em;”></span><span style=”line-height: 1.3em;”>पोल्गर
के अनुसार, शतरंज के प्रारूप
में बदलाव के तहत इसमें समय
को लेकर सख्ती, और निश्चित
संख्या में चालों के अंदर
ड्रॉ घोषित करने पर पाबंदी
शामिल हैं.</span>
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
<span style=”line-height: 1.3em;”></span><span style=”line-height: 1.3em;”>पोल्गर
का मानना है कि शतरंज की ओर
दर्शकों को अधिक से अधिक
आकर्षित करने के लिए आयोजन के
प्रचार कार्यक्रमों को
बढ़ाए जाने की जरूरत है, तथा
दर्शकों के मनोरंजन के लिए
इसमें चीयरलीडर्स का भी
इस्तेमाल किया जा सकता है.</span>
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
<span style=”line-height: 1.3em;”></span><span style=”line-height: 1.3em;”>आनंद
और कार्लसन के बीच वर्तमान
चैम्पियनशिप के आयोजन की
तैयारियों पर पोल्गर ने
संतुष्टि व्यक्त की और कहा कि
दोनों खिलाड़ियों पर
डॉक्यूमेंट्री फिल्में भी
होनी चाहिए, जिससे शतरंज के
अतिरिक्त उनके व्यक्तित्व
के बारे में दर्शकों को पता
चल सके.</span>
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
<span style=”line-height: 1.3em;”></span><span style=”line-height: 1.3em;”>पोल्गर
ने कहा, “मुझ पर और मेरी बहनों
पर ढेरों डॉक्यूमेंट्री
फिल्में बनाई गईं.”</span>
</p>
<p xmlns=”http://www.w3.org/1999/xhtml”>
<span style=”line-height: 1.3em;”></span><span style=”line-height: 1.3em;”>शतरंज
खिलाड़ियों के पास विज्ञापन
के अवसर पर पोल्गर ने कहा कि
शतरंज खिलाड़ियों को काफी
किफायत में वित्तीय सेवा
प्रदान करने वाली कंपनियों,
जैसे बीमा कंपनियां, बैंक और
कंप्यूटर कंपनियों आदि का
ब्रांड एंबेसडर बनाया जा
सकता है.</span>
</p>

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: ‘शतरंज भी बन सकता है दर्शकों के लिए आकर्षक’
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ??? jilha parishad
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017