सोनिया गांधी के भाषण में दिखी मिडिल क्लास के वोट की चिंता, सरकार के काम में कमी की बात मानी

By: | Last Updated: Friday, 17 January 2014 2:52 AM
सोनिया गांधी के भाषण में दिखी मिडिल क्लास के वोट की चिंता, सरकार के काम में कमी की बात मानी

नई दिल्ली: दिल्ली में एआईसीसी की बैठक के लिए लगे पोस्टरों में छाई प्रियंका गांधी छाई हई हैं. इस पोस्टर में प्रियंका गांधी को राहुल गांधी के साथ कदम से कदम मिलाकर चलते हुए दिखाया गया है. लेकिन अब अहम  सवाल ये है कि क्या राहुल गांधी जीत का मंत्र देंगे?

 

कांग्रेस को आगामी लोकसभा चुनावों के लिहाज से पूरी तरह तैयार बताते हुए पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज भाजपा पर हमला बोला और कहा कि मुख्य विपक्षी दल की विभाजनकारी विचारधारा देश के लिए सबसे बड़ा खतरा है.

 

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शुक्रवार को कहा कि 2014 का आम चुनाव भारत और इसकी धर्मनिरपेक्ष परंपराओं के लिए एक संग्राम होगा. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की बैठक को यहां संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, “2014 लोकसभा चुनाव करीब है, इसलिए हम यहां जुटे हैं. हम यहां यह स्पष्ट संकेत देने के लिए मिले हैं कि कांग्रेस आगे की लड़ाई के लिए तैयार है.”

 

उन्होंने कहा, “यह चुनाव परस्पर विरोधी विचारधाराओं के बीच, अतीत की प्रतिस्पर्धी व्याख्याओं के बीच, भविष्य के टकराहट भरे दृष्टिकोणों के बीच एक भीषण संग्राम होगा.”

 

उन्होंने कहा, “ये चुनाव भारत के लिए एक संग्राम होंगे, जिसकी अवधारणा हमारे पूर्वजों ने रखी थी और हमने इसे संजोया है. ये चुनाव एक मिश्रित राष्ट्रीय पहचान में सद्भाव के साथ रह रहे विभिन्न समुदायों की परंपरा, युगों पुरानी धर्मनिरपेक्ष परंपराओं के संरक्षण के संग्राम होंगे.”

 

संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की अध्यक्ष ने कहा, “कांग्रेस ने पूर्व में मुश्किल समय का सामना किया है जो आज की अपेक्षा कहीं ज्यादा कठिन था. लेकिन पार्टी ने अपना उत्साह नहीं खोया है. हमने अपने दृष्टिकोण, मूल्यों और विश्वास के प्रति प्रतिबद्ध रहते हुए वापसी की है.”

 

उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी आधुनिक राष्ट्र राज्य के ताने-बाने से बुनी हुई है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह इस ताने-बाने के सामने खड़े मुख्य खतरे पर ध्यान देना चाहती हैं.

एआईसीसी के प्रस्ताव के मुताबिक ‘‘पार्टी सभी समान विचारों वाली राजनीतिक और सामाजिक शक्तियों से इस महत्वपूर्ण मोड़ पर साथ आकर सहयोग देने का आह्वान करती है.’’ इस दौरान कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किये जाने की मांग भी पार्टी प्रतिनिधियों ने जोर-शोर से उठाई जिस पर सोनिया गांधी ने कहा कि कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में कल हुआ निर्णय अंतिम है.

 

सीडब्ल्यूसी ने कल फैसला किया कि राहुल गांधी 2014 के लोकसभा चुनाव में पार्टी के प्रचार अभियान का नेतृत्व करेंगे.

 

आज जब सम्मेलन में कार्यकर्ताओं ने राहुल गांधी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाने की मांग तेज की तो कांग्रेस महासचिव जनार्दन द्विवेदी ने कहा कि समय आने पर राहुल के अलावा अन्य कोई विकल्प नेतृत्व के लिए नहीं है.

 

उन्होंने प्रतिनिधियों को शांत करने का प्रयास करते हुए कहा, ‘‘जब कभी जरूरत होगी और प्रश्न खड़ा होगा तो क्या राहुल जी के अलावा कोई नाम है? क्या राहुल जी का कोई विकल्प है?’’ राहुल ने स्वयं भी कार्यकर्ताओं को शांत करने का प्रयास करते हुए कहा कि वह अपने भाषण में अपनी सोच से सभी को अवगत कराएंगे.

 

केंद्र में कांग्रेस नीत संप्रग सरकार की उपलब्धियों का ब्यौरा देते हुए सोनिया ने कहा कि क्या पहले किसी और सरकार ने इतना काम किया है.

 

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की प्रशंसा करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि तमाम कठिनाइयों और बाधाओं के बावजूद तथा विपक्ष के गैर जिम्मेदाराना रवैये के बाद भी प्रधानमंत्री ने पिछले दस सालों से गरिमा के साथ सरकार चलाई है.

 

अपने भाषण की शुरूआत में सोनिया ने कहा, ‘‘आज हम यह स्पष्ट संदेश देने के लिए मिले हैं कि कांग्रेस आने वाली लड़ाई के लिए तैयार है.

सोनिया ने कहा कि एआईसीसी का सम्मेलन ऐसे समय में हो रहा है जब पार्टी जवाहरलाल नेहरू का 125वां जयंती वर्ष मना रही है. नेहरू ने स्वतंत्रता प्राप्ति के तत्काल बाद कहा था कि कांग्रेस के रास्ते ही खतरों का मुकाबला और प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना किया जा सकता है. भ्रष्टाचार के मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि इस बुराई से निपटने के लिए कुछ अहम विधेयक संसद में लंबित हैं.

 

उन्होंने कहा, ‘‘हम, अगले महीने जब संसद का सत्र होगा तो इन्हें पारित कराने के लिए हरसंभव प्रयास करेंगे.’’ सोनिया ने सभी राजनीतिक दलों से मतभेदों को दरकिनार करते हुए इन विधेयकों को पारित कराने में सहयोग मांगा.

 

उन्होंने कहा कि आरटीआई कानून से नागरिकों ने भ्रष्टाचार से लड़ाई में सशक्त महसूस किया और इस ऐतिहासिक कानून का श्रेय कांग्रेस को जाता है.

 

असमानता के मुद्दे पर सोनिया ने कहा कि विकास जहां जरूरी है और कायम रहना चाहिए वहीं केवल इससे गैर-बराबरी की समस्याओं पर ध्यान नहीं दिया जा सकता.

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: सोनिया गांधी के भाषण में दिखी मिडिल क्लास के वोट की चिंता, सरकार के काम में कमी की बात मानी
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017