ट्राइएंगुलर सीरीजः छह खिलाड़ी जिन्हें विश्व कप से पहले खुद को साबित करना होगा

By: | Last Updated: Tuesday, 13 January 2015 12:08 PM
6 players who have a point to prove

नई दिल्लीः ऑस्ट्रेलिया में खेले गए टेस्ट सीरीज के बाद अब बारी विश्व कप से पहले अपने धुरंधरों को सफेद गेंद के साथ आजमाने की है. विश्व कप से पहले ये अंतिम मौका होगा जब टीम इंडिया और इंग्लैंड विश्व कप की सह मेजबान ऑस्टेलिया के मैदान पर अपने बेस्ट प्लेयर के साथ उतरेगी. 

 

इस ट्राइंएलुर सीरीज के सहारे तीनों ही टीमें न सिर्फ अपनी टीम को परखेगी बल्कि कुछ खिलाड़ी भी हैं जिनके पास विश्व कप से पहले खुद को साबित करने का अंतिम मौका होगा.

 

6- क्रिस वोक्स – इंग्लैंड के पास जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड के रूप में दो विश्व स्तरीय गेंदबाज हैं लेकिन तीसरे गेंदबाज को लेकर अभी तक कुछ भी तय नहीं हैं. श्रीलंका के खिलाफ सात वनडे मैचों की सीरीज में 14 विकेट लेने वाले क्रिस वोक्स तीसरे गेंदबाज के लिए खुद को साबित करेंगे. प्लेइंग इलवेन में स्टीवन फिन और क्रिस जोर्डन वोक्स को कड़ी टक्कर देंगे. 

 

5- जेम्स टेलर – इंग्लैंड के लिए 2011 में पहला मैच खेलने वाले जेम्स टेलर के पास खुद को साबित करने का अंतिम मौका होगा. श्रीलंका के खिलाफ तीसरे वनडे मैच में पूर्व कप्तान कुक पर लगे बैन के कारण मैच खेलने उतरे टेलर ने शानदार 90 रन बनाकर टीम में अपनी जगह कुछ हद तक तय कर ली. कुक के बाहर हो जाने के बाद इनके लिए टीम का रास्ता खुल गया है और ये टीम के नए तीसरे नंबर के बल्लेबाज होंगे.

 

4- जोश हेजलवूड – विश्व के महान गेंदबाज ऑस्ट्रेलिया के ग्लेन मैक्ग्रा ने खुद इन्हें अपने स्टाइल का बता कर इनके बारे में विश्व क्रिकेट को इनका परिचय दे दिया. लेकिन फिलहाल इन्हें खुद को साबित करना है. इन्होंने अभी तक सिर्फ 6 वनडे खेले हैं. अगर टीम में उन्हें मौका मिलता है तो निश्चित रूप से टीम को एक नया गेंदबाज मिलेगा जो अपनी शानदार लाइन और लेंथ से बल्लेबाजों को परेशान कर सकता है.

 

3- शिखर धवन – टेस्ट क्रिकेट में लाल गेंद के आगे इनका बस नहीं चलता लेकिन गेंद के सफेद होने के साथ ही इनका बल्ला रन बनाने लगता है. टीम में इनका स्थान तो फिक्स है लेकिन अगर विदेशी जमीन पर अपने बल्ले से रन नहीं बना पाते हैं तो फिर टीम के कप्तान दूसरे विकल्प पर भी गौर कर सकते हैं. ये बात इन्हें भी पता है कि इस वक्त टीम के पास अजिंक्या रहाणे और रोहित शर्मा के रूप में दो ओपनर मैजूद हैं इसलिए विश्व कप टीम में खेलने के लिए इन्हें इस सीरीज में रन बनाने ही होंगे.

 

2- ग्लेन मैक्सवेल – विश्व क्रिकेट में नए जलवे के साथ आए मैक्सवेल पिछले कुछ समय से आउट ऑफ फॉर्म हैं. लेकिन टीम ने इनपर एक तरह से गैम्बल खेला है. साउथ अफ्रीका और बिग बैश लीग में फ्लॉप रहने वाले मैक्सी अगर इस सीरीज में अपने बल्ले से रन बनाने में कामयाब रहे तो फिर ऑस्ट्रेलिया को मैच हारने का खतरा कम हो जाएगा.

 

1- अक्षर पटेल – रविंद्र जडेजा की जगह टीम में आए अक्षर पटेल ने कम समय में ही विश्व क्रिकेट में अपनी छाप छोड़ दी है. विश्व कप में ऑलराउंडर की भूमिका में कौन होगा वो इस सीरीज में तय हो सकता है. और यही धोनी के लिए सबसे बड़ा सिरदर्द भी साबित हो सकती है. श्रीलंका के खिलाफ 11 विकेट लेकर सुर्खियों में आए पटेल को अभी अपने बल्ले से कमाल दिखाना जरूरी है. इस ट्राइएंगुलर सीरीज में पटेल एक मात्र भारतीय होंगे जिसपर पूरी दुनिया की निगाह होगी.     

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: 6 players who have a point to prove
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017