अब तक की सबसे मुश्किल परिस्थितियों में खेले: अमला

By: | Last Updated: Friday, 27 November 2015 2:03 PM

नागपुर: भारत के खिलाफ तीसरे टेस्ट में 124 रनों से मिली हार के बाद साउथ अफ्रीका के कप्तान हाशिम अमला ने भारत की सराहना की और साथ ही कहा कि उन्होंने अपने करियर में सबसे मुश्किल परिस्थितियों का सामना किया.

 

अमला ने मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘‘संभवत: यह मेरे टेस्ट करियर के सबसे मुश्किल हालात थे. संभवत: मैं जिन विकेट पर खेला उनमें यह सबसे मुश्किल थी और क्रिकेट खेलना भी काफी मुश्किल था. इसलिए श्रेय भारत को जाता है, उन्होंने अच्छी गेंदबाजी की और दुर्भाग्य से हम इस मैच में हार गए.’’ भारत के 310 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए साउथ अफ्रीका की टीम तीसेर दिन चाय के बाद 185 रन पर ढेर हो गई.

 

अमला का मानना है कि अंतिम पारी में 200 रन के लक्ष्य को हासिल किया जा सकता था.

 

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि 200 रन अधिक स्वाभाविक लक्ष्य होता. अगर मैं पहली पारी को देखूं तो उन्होंने लगभग 30 रन ज्यादा बनाए और दूसरी पारी में भी. आपको ईमानदारी से बताउं तो मुझे नहीं लगता कि यह पहली पारी में 220 रन बनने देने वाली विकेट थी और ना ही दूसरी पारी में 170 रन वाली विकेट. हमें भारत को 140 रन पर समेट देना चाहिए था और यह संभवत: मैच का रंग बदल देता.’’ भारत ने पहली पारी में 125 रन पर छह विकेट गंवाने के बावजूद 215 रन बनाए और फिर मेहमान टीम को पहली पारी में 79 रन पर ढेर कर दिया जो भारत में किसी भी टीम का न्यूनतम स्कोर है.

 

देश के पिछले दौरों पर शानदार प्रदर्शन करने वाले अमला दूसरी पारी में 39 रन के साथ संयुक्त रूप से टीम के शीर्ष स्कोरर रहे. खराब फॉर्म से जूझ रहे फाफ डु प्लेसिस ने भी इतने ही रन बनाए. अमला ने कहा कि अफ्रीकी बल्लेबाजों की तरह इस टेस्ट सीरीज में भारतीय बल्लेबाजों ने भी संघर्ष किया.

 

उन्होंने कहा, ‘‘अगर आप दोनों टीमों को देखो तो क्या भारतीय टीम की भी इसी तरह आलोचना होनी चाहिए. यह मेरे लिए महत्वपूर्ण तथ्य है जिस पर ध्यान दिया जाना चाहिए. मुझे नहीं लगता कि काफी लोग कहेंगे कि विराट और मुरल विजय स्पिनर के अच्छे खिलाड़ी नहीं हैं. बेशक वे स्पिन के काफी अच्छे खिलाड़ी हैं लेकिन इस सीरीज में अब तक उन्हें भी परेशानी का सामना करना पड़ा है. इन हालात में निश्चित तौर पर भारतीय स्पिनर असाधारण है और आपको उन्हें श्रेय देना होगा.’’ अमला ने साथ ही निराशा जताई कि उनकी टीम का विदेशी सरजमीं पर नौ साल से अजेय रहने का रिकॉर्ड टूट गया.

 

उन्होंने कहा, ‘‘हां, यह काफी निराशाजनक है. मेरे पूरे करियर के दौरान हम विदेशी सरजमीं पर काफी अच्छा क्रिकेट खेले. मुझे लगता है कि यह सांत्वना हो सकती है कि विदेशी सरजमीं पर हमने संभवत: कभी इस तरह की परिस्थितियों का सामना नहीं किया और इस तरह की चुनौती भी हमने कभी नहीं झेली.’’ अमला ने हालांकि पिच पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया जिस पर विजय के पहली पारी के 40 रन दोनों टीमों की ओर से शीर्ष स्कोर रहा.

 

उन्होंने कहा, ‘‘ईमानदारी से कहूं तो मेरे लिए इस पर टिप्पणी करना मुश्किल होगा, विशेषकर हारने के बाद. इसलिए मैं फिलहाल कोई टिप्पणी नहीं करूंगा. ’’ अमला कल के अश्विन के इस नजरिये से भी सहमत नहीं हैं कि पिच धीमी हो गई है.

 

उन्होंने कहा, ‘‘नहीं, निश्चित तौर बल्लेबाजी और अधिक मुश्किल हो गई थी, मुझे लगता है कि पहले दिन से तीसरे दिन तक यह बदतर होती गई.’’

 

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: amla after match
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

वेस्टइंडीज के खिलाफ इंग्लैंड टीम ने किया सिर्फ एक बदलाव
वेस्टइंडीज के खिलाफ इंग्लैंड टीम ने किया सिर्फ एक बदलाव

बर्मिंघम: वेस्टइंडीज के खिलाफ शुरू हो रहे...

...तो इस वजह से वनडे टीम में युवराज को नहीं मिली जगह!
...तो इस वजह से वनडे टीम में युवराज को नहीं मिली जगह!

नई दिल्ली: श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट सीरीज...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017