डालमिया ने भारत को क्रिकेट का घर बनाया: जेटली

By: | Last Updated: Monday, 21 September 2015 8:20 AM
Arun Jaitley_Jagmohan Dalmiya_

नई दिल्ली: बीसीसीआई अध्यक्ष जगमोहन डालमिया को महान प्रशासक बताते हुए वित्त मंत्री अरूण जेटली ने आज कहा कि उनके निधन से देश ने ऐसा उत्साही प्रशासक खो दिया है जिसने भारत को क्रिकेट का घर बना दिया था.

 

जेटली ने हांगकांग से अपने शोक संदेश में कहा,‘‘ क्रिकेट के खेल ने ऐसा महान प्रशासक खो दिया जिसने भारत को क्रिकेट का घर बना दिया था. मैने अपना एक दोस्त खो दिया.’’

 

डालमिया का कोलकाता के एक अस्पताल में कल दिल का दौरा पड़ने के बाद निधन हो गया.

 

जेटली ने फेसबुक पर अपनी पोस्ट ‘ डालमिया जी : अ मैन इन अ लीग आफ हिज ओन’ में लिखा ,‘‘मेरी उनसे मुलाकात पिछले महीने कोलकाता में हुई थी. वह स्वस्थ होने को लेकर आशावादी थे लेकिन नियति में कुछ और लिखा था.’’

 

बीसीसीआई के पूर्व प्रशासक जेटली ने कहा कि डालमिया का निधन क्रिकेट प्रशासन, बीसीसीआई, कैब , उनके दोस्तों और परिवार के लिये बड़ी क्षति है.

 

उन्होंने कहा,‘‘ मेरे लिये यह निजी क्षति है क्योंकि पिछले दो दशक में मेरे उनसे बहुत मधुर निजी संबंध थे.’’

 

उन्होंने अपने क्रिकेट मैचों के प्रसारण के बीसीसीआई के अधिकारों के बचाव और प्रसारण अधिकारों से मिलने वाले राजस्व से खेल की मदद में डालमिया के योगदान को याद किया.जेटली ने उम्मीद जताई कि मानसूनी बारिश कम होने के बावजूद कृषि वृद्धि दर बहाल होगी. उन्होंने कहा ‘‘मुझे बताया गया है कि पिछले कुछ दिनों में बारिश लौटी है.’’

 

उन्होंने कहा, ‘‘जीएसटी राज्यसभा में अटका है लेकिन इसलिए नहीं कि इस पर कोई अस्पष्टता है बल्कि एक राजनीतिक दल के कारण. संसद में आंकड़े विधेयक के पक्ष में हैं और मुझे भरोसा है कि यह अगले सत्र में पारित हो जाएगा.’’

 

उन्होंने कहा कि प्रतिस्पर्धात्मक संघवाद की भावना भारत की वृद्धि की संभावना को आगे बढ़ा रही है और राजय निवेश पाने के लिए आक्रामक तरीके से आगे बढ़ रहे हैं.

 

उन्होंने कहा ‘‘स्मार्ट सिटी और सड़क आदि के लिए जमीन के नियमों में बदलाव.. से प्रगतिशील राज्यों ने नियमों में बदलाव की इच्छा जाहिर की है. उन्होंने कहा है कि केंद्र को उन्हें अनुमति देनी चाहिए और हम इस पर सहमत हुए.’’

 

जेटली ने कहा कि ज्यादातर मुख्यमंत्री निवेश आकषिर्त करने के लिए विदेश जा रहे हैं ओर उनमें से कई अपने राज्यों में निवेश सम्मेलन आयोजित कर रहे हैं.

 

वित्तमंत्री ने कहा कि कारोबार सुगमता निरंतर प्रक्रिया है. उन्होंने कहा ‘‘बहुत सुधार किए गए हैं तथा और भी बहुत कुछ करने की जरूरत है. लंबे समय से अटके कर विवादों का निपटारा हमारी उच्च प्राथमिकता है.’’

 

उन्होंने कहा कि चीजें आसान बनाने के लिए राज्यों की रैंकिंग की व्यवस्था की गई है ताकि निवेशकों को निवेश के लिए बेहतर जगह तलाशने में मदद मिले.

 

उन्होंने विश्व बैंक की कारोबार सुगमता संबंधी रैंकिंग में देश के स्थान के बारे में कहा ‘‘भारत की रैंकिंग कुल मिलाकर नीचे रही है लेकिन मुझे भरोसा है कि जब अगले आंकड़े आएंगे हमारी रैंकिंग उल्लेखनीय रूप से सुधरेगी.’’

 

जेटली ने कहा कि घरेलू निजी निवेश का धीमा पड़ना चिंता का विषय है. उन्होंने कहा, ‘‘मुझे पता है कि वैश्विक मांग में नरमी से घरेलू कंपनियां कुछ मुश्किल के साथ परिचालन कर रही हैं. वस्तु एवं सेवा कर सबसे महत्वपूर्ण कराधान सुधार है.’’

 

वित्त मंत्री ने कहा कि भारत में हमेशा से प्राकृतिक संसाधन भारी मात्रा में है लेकिन यह विवादो में उलझा रहा है जिनमें कोयला, स्पेक्ट्रम और खनिज आदि शामिल हैं.

 

उन्होंने कहा कि भारत के बारे में निवेशकों के बीच हमेशा सतर्क आशावाद की स्थिति रही है. एक ओर वे भारत को विशाल बाजार के तौर पर देखते हैं लेकिन साथ इसे ऐसे देश के तौर पर भी देखते हैं जिसने कुछ मौकों पर अवसर का फायदा नहीं उठाया है.

 

उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए आशावाद के साथ हमेशा सतर्कता रही है.’’

 

जेटली ने कहा ‘‘मैं आज कहना चाहता हूं कि भारत अब बदल रहा है. यहां ऐसी सरकार है जिसे बहुमत मिला है और वह कड़े फैसले लेने के लिए तैयार है. हमारे पास ऐसा प्रधानमंत्री है जो मजबूत नेता हैं जिनकी पृष्ठभूमि विकास केंद्रित शासन प्रणाली की रही है और वह ऐसे फैसले लेने में समर्थ हैं जो देश के विकास के लिए महत्वपूर्ण है.’’

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Arun Jaitley_Jagmohan Dalmiya_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Arun Jaitley jagmohan dalmiya
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017