विश्व कपः ऑस्ट्रेलिया और साउथ अफ्रीका हैं टीम इंडिया के लिए सबसे बड़ी चुनौती

By: | Last Updated: Friday, 13 February 2015 10:55 AM
austrlia_south africa

एडिलेड: मेलबर्न और ऑस्ट्रेलिया में कल दोहरे मुकाबलों के साथ शुरू हो रहे विश्व कप में घरेलू प्रबल दावेदार ऑस्ट्रेलिया और बेहतरीन फॉर्म में चल रहे दक्षिण अफ्रीका गत चैम्पियन भारत के खिताब के बचाव के अभियान में सबसे बड़ी चुनौती होंगे.

 

दक्षिण अफ्रीका की टीम एक बार फिर चोकर्स के ठप्पे से पीछा छुड़ाकर पहली बार विश्व कप जीतने के इरादे से उतरी है.

 

कल चार बार का चैम्पियन ऑस्ट्रेलिया अपने अभियान की शुरूआत एमसीजी पर चिर प्रतिद्वंद्वी इंग्लैंड के खिलाफ करेगा जबकि विश्व कप में पहले खिताब की तलाश में जुटे सह मेजबान न्यूजीलैंड को अपने पहले मैच में क्राइस्टचर्च में पूर्व चैम्पियन श्रीलंका का सामना करना है.

 

भारत को रविवार को एडिलेड ओवल में अपने पहले मैच में चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान से भिड़ना है.

 

मौजूदा विश्व कप के लिए आईसीसी ने जो प्रारूप तय किया है उससे शीर्ष आठ टीमों ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, दक्षिण अफ्रीका, भारत, न्यूजीलैंड, श्रीलंका, पाकिस्तान और वेस्टइंडीज का नॉकआउट में प्रवेश लगभग तय है.

 

लेकिन जहां तक खिताब की बात है तो मेजबान ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका और न्यूजीलैंड प्रबल दावेदारों में शामिल हैं और फॉर्म के कारण ये तीनों भारत जैसी टीमों की तुलना में बेहतर स्थिति में हैं.

 

महेंद्र सिंह धोनी की अगुआई वाली भारतीय टीम की राह आसान नहीं होगी जिसने चार साल पहले वानखेड़े स्टेडियम में खिताब जीता था.

 

पिछले विश्व कप से भारतीय टीम में काफी बदलाव आया है. महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर संन्यास ले चुके हैं जबकि पिछले टूर्नामेंट के हीरो युवराज सिंह टीम का हिस्सा नहीं हैं. इसके अलावा वीरेंद्र सहवाग, गौतम गंभीर और हरभजन सिंह को भी टीम में जगह नहीं मिली है. भारत की बल्लेबाजी काफी हद तक विराट कोहली, अजिंक्य रहाणे, रोहित शर्मा और कप्तान धोनी पर निर्भर करेगी लेकिन प्रशंस गेंदबाजों की अनुभवहीनता से चिंतित हैं.

 

भारत की सीमित ओवरों की टीम ने बेहतर प्रदर्शन किया है लेकिन प्रशंसक हाल में ऑस्ट्रेलिया में उसके प्रदर्शन से चिंतित हैं.

 

भारतीय उपमहाद्वीप में 1987 में विश्व कप जीतने के बाद 1999 (इंग्लैंड), 2003 (दक्षिण अफ्रीका) और 2007 (वेस्टइंडीज) में खिताब हैट्रिक बनाने वाला ऑस्ट्रेलिया पांचवां विश्व खिताब जीतने को लेकर उत्सुक है.

 

ऑस्ट्रेलिया के पास डेविड वार्नर, स्टीवन स्मिथ और ग्लेन मैक्सवेल के रूप में ऐसे बल्लेबाज हैं जो किसी भी गेंदबाजी आक्रमण को ध्वस्त कर सकते हैं जबकि उसके गेंदबाजी आक्रमण की अगुआई मिशेल जॉनसन करेंगे. एरोन फिंच, कार्यवाहक कप्तान जार्ज बैली के अलावा विकेटकीपर ब्रैड हैडिन बल्लेबाजी को मजबूती देते हैं जबकि गेंदबाजी में मिशेल स्टार्क और जोश हेजलवुड जानसन का साथ निभाएंगे.

 

टीम के पास ऑलराउंडर के रूप में मिशेल मार्श और जोश हेजलवुड मौजूद हैं. दूसरी तरफ दक्षिण अफ्रीका के कप्तान एबी डिविलियर्स शानदार फॉर्म में हैं और उन्होंने हाल में वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे क्रिकेट का सबसे तेज शतक जड़ा हैं इसके अलावा टीम के पास हाशिम अमला जैसा स्टार बल्लेबाज और डेविड मिलर जैसा फिनिशर भी है. टीम के गेंदबाजी आक्रमण की अगुआई डेल स्टेन और मोर्ने मोर्कल की जोड़ी करेगी जबकि उसके पास वेन पार्नेल और वर्नन फिलेंडर जैसे गेंदबाज भी मौजूद हैं.

 

सह मेजबान न्यूजीलैंड के पास यह विश्व कप जीतने का शानदार मौका है. कई बार सेमीफाइनल में पहुंची इस टीम की बल्लेबाजी काफी हद तक कप्तान ब्रैंडन मैकुलम और युवा केन विलियमसन पर निर्भर करेगी जबकि कोरी एंडरसन भी तेजी से रन बनाने में सक्षम हैं.

 

टीम के पास डेनियल विटोरी के रूप में दुनिया के सर्वकालिक सर्वश्रेष्ठ स्पिनरों में शामिल गेंदबाज हैं जो अपने अंतिम विश्व कप में यादगार बनाना चाहेंगे. टीम के तेज गेंदबाजी आक्रमण में टिम साउथी, ट्रेंट बोल्ट और ग्रांट इलियट शामिल हैं जो न्यूजीलैंड के हालात में काफी प्रभावी हैं.

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: austrlia_south africa
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017