बीसीसीआई ने किया श्रीनिवासन और रमण का समर्थन, एजीएम 17 दिसंबर को

By: | Last Updated: Tuesday, 18 November 2014 2:31 PM

चेन्नई: भारतीय क्रिकेट बोर्ड की लगातार स्थगित की जा रही वाषिर्क आम बैठक (एजीएम) अब 17 दिसंबर को होगी. बीसीसीआई ने इसके साथ ही अपने निर्वासित अध्यक्ष एन श्रीनिवासन का पुरजोर समर्थन भी किया जिन्हें सुप्रीम कोर्ट से गठित जांच समिति ने आईपीएल फिक्सिंग आरोपों से बरी कर दिया है. कार्यकारी समिति की आपात बैठक में यह फैसला किया गया जिसमें बोर्ड ने आईपीएल सीओओ सुंदर रमन का भी समर्थन किया जिन पर न्यायमूर्ति मुदगल समिति की जांच रिपोर्ट में सटोरियों के संपर्क में रहने का आरोप लगाया गया है.

 

बीसीसीआई ने बयान में कहा, ‘‘ कार्यकारिणी ने बीसीसीआई की 85वीं वाषिर्म आम बैठक को स्थगित करने का फैसला किया है जो कि पहले 20 नवंबर को होनी थी. यह बैठक अब 17 दिसंबर 2014 को चेन्नई के पार्क शेरटन में होगी. ’’ बोर्ड ने श्रीनिवासन का साथ देने का फैसला किया जिन्हें इन आरोपों से बरी कर दिया गया है कि उन्होंने जांच को प्रभावित करने की कोशिश की थी.

 

बीसीसीआई ने कहा कि श्रीनिवासन के खिलाफ लगाये गये आरोप बोर्ड को अस्थिर करने के उद्देश्य से लगाये गये थे. श्रीनिवासन अभी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के भी चेयरमैन हैं. बयान में कहा गया है, ‘‘सदस्यों ने मुदगल समिति की अंतिम रिपोर्ट के निष्कर्ष पर चर्चा की और उसे लगा कि श्रीनिवासन की तरफ से कुछ भी गलत नहीं किया गया तथा कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा उनके उपर लगाये गये आरोप आधारहीन हैं और उनका उद्देश्य बीसीसीआई के कामकाज को अस्थिर करना है. ’’

 

इसके अलावा कार्यकारिणी ने उच्चतम न्यायालय में सौंपी गयी रिपोर्ट में लगाये गये आरोपों के संबंध में रमण का पक्ष भी सुना. सर्वोच्च न्यायालय इस मामले की अगली सुनवाई 24 नवंबर को करेगा.

 

बीसीसीआई ने कहा, ‘‘सदस्यों को न्यायमूर्ति मुदगल समिति की अंतिम रिपोर्ट की प्रति सौंपी गयी और इसके निष्कर्षों पर चर्चा की गयी.’’

 

इसमें कहा गया, ‘‘ सुंदर रमन ने मुदगल समिति की रिपोर्ट में उनसे संबंधित निष्कर्ष में अपनी भूमिका को लेकर अपना पक्ष रखा. सदस्यों ने उनका पक्ष सुना और फैसला किया कि बोर्ड सुंदर रमन को समर्थन करना चाहिए. ’’

 

मुदगल रिपोर्ट में श्रीनिवासन को गंभीर आरोपों से बरी कर दिया गया लेकिन इसमें उन्हें एक क्रिकेट खिलाड़ी के बारे में खिलाड़ियों की आचार संहिता के उल्लंघन की जानकारी होने के बावजूद उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करने का दोषी ठहराया.

 

इसके साथ ही उनके दामाद गुरूनाथ मयप्पन और राजस्थान रायल्स के सहस्वामी राज कुन्द्रा को सट्टेबाजी के लिये दोषी ठहराते हुये टीम में उनकी भूमिकाओं की पुष्टि की है. समिति ने रिपोर्ट में इस बात की पुष्टि की कि मयप्पन चेन्नई सुपर किंग्स के अधिकारी थे जबकि राजस्थान रायल्स के मालिक कुन्द्रा ने बीसीसीआई-आईपीएल के भ्रष्टाचार निरोधक संहिता का उल्लंघन किया.

 

उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश मुकुल मुद्गल की अध्यक्षता वाली इस समिति में अतिरिक्त सालिसीटर जनरल एन नागेश्वर राव और वरिष्ठ अधिवक्ता नीलय दत्ता सदस्य थे. समिति ने कहा है कि श्रीनिवासन का दामाद गुरूनाथ मयप्पन मैच फिक्सिंग में नहीं बल्कि सट्टेबाजी में लिप्त थे.

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: bcci
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017