लोढ़ा समिति की सिफारिशों पर चर्चा के लिए एसजीएम बुलाएगा बीसीसीआई

By: | Last Updated: Monday, 4 January 2016 10:03 PM
BCCI Set to Summon SGM to Discuss Lodha Panel Recommendations

नई दिल्ली: संचालन के ढांचे में सुधार की जस्टिस आरएम लोढ़ा समिति की सिफारिशों के बाद बीसीसीआई ने इस रिपोर्ट के प्रभाव पर चर्चा के लिए अगले दो हफ्ते के भीतर आम सभा की विशेष बैठक (एसजीएम) बुलाने का फैसला किया है.

बीसीसीआई के सभी आलाधिकारी कल मुंबई में बीसीसीआई के वाषिर्क पुरस्कार समारोह के दौरान मौजूद रहेंगे.

बीसीसीआई के एक अधिकारी ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर बताया, ‘‘शशांक मनोहर आज शाम मुंबई पहुंचे हैं. पुरस्कार समारोह के लिए बाकी लोग कल सुबह तक वहां पहुंच जाएंगे. भारतीय टीम भी कल ऑस्ट्रेलिया के लिए रवाना होगी. शीर्ष अधिकारी कल तक एसजीएम की तारीख पर फैसला करेंगे और सदस्यों को स्थिति से अवगत कराया जाएगा.’’

सदस्य चर्चा करेंगे कि क्या वे रिपोर्ट में की गई सिफारिशों के किसी बिंदू को चुनौती देना चाहते हैं या नहीं.

अध्यक्ष ने हालांकि इस मुद्दे पर चुप्पी साध रखी है.

बीसीसीआई अध्यक्ष शशांक मनोहर ने कहा, ‘‘मैंने अब तक रिपोर्ट नहीं देखी है और मैं तब तक किसी सवाल का जवाब नहीं दूंगा जब तक कि लोढ़ा समिति की पूरी रिपोर्ट नहीं पढ़ लेता.’’

जस्टिस लोढ़ा समिति के रिपोर्ट की सामग्री सार्वजनिक करने के बाद अधिकांश आलाधिकारी इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि सुप्रीम कोर्ट के मामले की सुनवाई करने के बाद ही अगले कदम पर फैसला किया जाएगा. उच्चतम न्यायालय में मामले की सुनवाई पहले कोई भी अधिकारी आधिकारिक तौर पर कुछ नहीं कहना चाहता लेकिन अधिकारियों की चिंता के दो मुख्य क्षेत्र आयु की सीमा और कार्यकाल के बीच में ब्रेक लेना शामिल है.

बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी ने कहा, ‘‘आयोग ने कहा कि वे बीसीसीआई की स्वायत्ता को नुकसान नहीं पहुंचाना चाहते लेकिन कुछ सुझाव बोर्ड की स्वायत्ता में सीधा हस्तक्षेप हैं. शरद पवार की अध्यक्षता के दौरान बीसीसीआई ने खिलाड़ियों को पेंशन की योजना शुरू की थी. पवार अब भी भारतीय राजनीति में सक्रिय हैं. आप 70 साल से अधिक का होने के कारण उन पर रोक नहीं लगा सकते.’’ चिंता का एक अन्य कारण दो पदों के बीच ब्रेक भी है.

एक अन्य प्रभावशाली अधिकारी ने कहा, ‘‘अगर किसी व्यक्ति ने सचिव या कोषाध्यक्ष के रूप में अच्छा काम किया है तो फिर आप प्रशासक के रूप में उसे अच्छा काम करने से क्यों रोकना चाहते हो. साथ ही आप कार्यकाल को सीमित कैसे कर सकते हो. हम सरकार से सहायता नहीं लेते. चयन समिति का आकार घटाकर तीन सदस्यों का कर दिया गया है. तीन चयनकर्ता चार से पांच महीने में 27 रणजी ट्राफी टीमों पर कैसे ध्यान दे सकते हैं.’’

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: BCCI Set to Summon SGM to Discuss Lodha Panel Recommendations
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: BCCI Lodha Panel SGM
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017