बोल्ट ने कहा, मेरा रिकॉर्ड टूटने के लिए नहीं बना

By: | Last Updated: Tuesday, 2 September 2014 10:16 AM

बेंगलूरु: संभावित प्रतिस्पर्धियों के जुड़े सवाल का हंसते हुए जवाब देते हुए जमैका के महान फर्राटा धावक उसेन बोल्ट ने कहा कि उनके रिकॉर्ड काफी हद तक प्रतिद्वंद्वियों की पहुंच से दूर हैं.

 

पहली बार भारत आए बोल्ट यहां ‘सेवन ए साइड’ प्रदर्शनी क्रिकेट मैच में हिस्सा लेंगे जिसमें उनकी टीम के खिलाफ भारत के कुछ टॉप क्रिकेटर उतरेंगे. चार ओवर के इस मैच में बोल्ट की टीम में उनके सबसे अच्छे मित्र न्यूगेंट वाल्कर जूनियर और भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह शामिल हैं.

 

विरोधी टीम की अगुआई युवराज सिंह करेंगे और उनकी टीम में भारतीय तेज गेंदबाज जहीर खान को भी जगह मिली है. इन दो दिग्गज खिलाड़ियों के बीच के इस मैच को ‘बोल्ट और युवी: दो दिग्गजों की जंग’ नाम दिया गया है.

 

सौ मीटर और 200 मीटर में एक साथ विश्व रिकॉर्ड अपने नाम करने वाले पहले फर्राटा धावक ने यहां प्रचार कार्यक्रम के दौरान मीडिया से बात करते हुए अपनी हाजिरजवाबी का नमूना भी पेश किया.

 

बोल्ट से जब 100 मीटर में 9.58 सेकेंड के उनके रिकॉर्ड के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘‘यह काफी हद तक पहुंच से बाहर है.’’ तालियों की गड़गड़ाहट और कुछ हंसी के बीच दुनिया के सबसे तेज व्यक्ति बोल्ट ने कहा कि उनके प्रतिद्वंद्वियों को उनकी बराबरी करने के लिए काफी कड़ी मेहनत करनी होगी.

 

अपने खेल के बारे में

 

उन्होंने कहा, ‘‘एक खिलाड़ी के रूप में मैंने रिकॉर्ड बनते और टूटते देखे हैं. ये हमेशा टूट जाते हैं लेकिन अगर आप मेरे जैसा महान बनना चाहते हैं तो आपको काफी कड़ी मेहनत करनी होगी. यही कारण है कि मेरे रिकॉर्ड लंबे समय तक कायम रहेंगे.’’बोल्ट से जब यह पूछा गया कि क्या उन्हें लगता है कि उनके समकक्षों में कोई ऐसा नहीं है जो उनका रिकॉर्ड तोड़ सके तो उन्होंने कहा, ‘‘नहीं, कोई नहीं.’’

 

बातचीत को थोड़ा गंभीर करते हुए बोल्ट ने कहा, ‘‘ट्रैक एंड फील्ड अजीब खेल है. यह एकाग्रता और मानसिक क्षमता से जुड़ा है. किसी एक व्यक्ति को चुनना मुश्किल है लेकिन मेरे कोच को लगता है कि जस्टिन गैटलिन अच्छा है. टाइसन गे, योहान ब्लेक जैसे कई धावक सामने आ रहे हैं. लेकिन मैं किसी को भी मझे पछाड़ने नहीं दूंगा.’’ क्रिकेट बोल्ट का जुनून है लेकिन जब उनसे पूछा गया कि उन्होंने इस खेल की जगह फर्राटा दौड़ को क्यों चुना तो उन्होंने कहा, ‘‘इसके लिए मेरे पिता को जिम्मेदार ठहराइए.’’

 

उन्होंने कहा, ‘‘मेरे पिता क्रिकेट के बड़े प्रशंसक हैं लेकिन जब मैं स्कूल में था तो मेरे पास क्रिकेट या एथलेटिक्स को चुनने का विकल्प था. मेरे पिता ने कहा कि जमैका के सिस्टम के कारण एथलेटिक्स से जुड़ना बेहतर रहेगा. उन्होंने कहा कि एथलेटिक्स में तुम्हें सिर्फ तेज दौड़ना होगा जबकि राष्ट्रीय क्रिकेट टीम में जगह बनाना मुश्किल होगा.’’

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: bolt
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017