रनों का रिकॉर्ड बना बोर्डर-गावस्कर ट्रॉफी

By: | Last Updated: Friday, 9 January 2015 11:10 AM
border-gavaskar trophy

नई दिल्लीः ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच बोर्डर-गावस्कर ट्रॉफी 2014-15 बल्लेबाजों के लिए रिकॉर्डों की सीरीज है. दोनों ही टीमों के बल्लेबाजों ने इस सीरीज में अब तक जमकर रन बनाए हैं. चार टेस्ट मैच की इस सीरीज में अब बस एक दिन का खेल बांकि है लेकिन बल्लेबाजों का रिकॉर्ड बनाने का सिलसिला जारी है.

 

बल्लेबाजों के रन बनाने से स्वभाविक है कि गेंदबाजों की जमकर धुनाई हुई. दोनों ही टीमों के गेंदबाज बल्लेबाजों को रन बनाने से रोक नहीं पाए. जहां तक बात ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों की है तो वो भारत के गेंदबाजों पर 20 साबित हुए हैं. जहां ऑस्ट्रेलिया के चार बड़े गेंदबाजों का औसत इस सीरीज में 32 से 36 का रहा वहीं भारत के सबसे बेहतर गेंदबाज शमी साबित हुए हैं जिनका औसत 45 का है. ये सीरीज भारतीय गेंदबाजों के लिए एक बुरे सपने की तरह का रहा है. तेज और स्पिन गेंदबाजों ने इस सीरीज में रिकॉर्ड रन लूटाए.

 

लेकिन इस सीरीज में अगर कोई चमका तो वो है दोनों ही टीमों के कप्तान. चार टेस्ट की इस सीरीज में कुल चार कप्तान रहे और हर किसी ने रिकॉर्ड बनाया सिवाय सीरीज के बीच में संन्यास लेने वाले महेन्द्र सिंह धोनी के जिन्होंने चार पारी में अपने बल्ले से सिर्फ 68 रन बनाए. लेकिन इस सीरीज में कप्तानों की बल्ले-बल्ले रही. इस सीरीज में कप्तानों के बल्ले से अब तक 90.25 की औसत से 1083 रन निकले हैं जो चार टेस्ट मैचों की सीरीज में सबसे बेहतरीन रन औसत है. भारत के नए टेस्ट कप्तान विराट कोहली और मेजबान टीम के कार्यवाहक कप्तान स्टीवन स्मिथ ने चार-चार शतक लगाए हैं. दोनों ही कप्तानों ने अपनी कप्तानी पारी में कुल 3 शतक लगाए.

 

जहां स्मिथ के बल्ले से पांच पारी में 484 रन बनाए हैं वहीं कोहली ने तीन पारी में 396 रन एक कप्तान के तौर पर बनाए हैं. इस टेस्ट में कप्तानों के बल्ले से कुल सात शतक निकले हैं जो किसी भी टेस्ट सीरीज में सबसे अधिक है. 

 

कप्तानों के अलावा दूसरे बल्लेबाजों ने भी जलवे दिखाए हैं. कप्तानों को अलग कर दें तो दूसरे बल्लेबाजों ने मिलकर इस सीरीज में सात शतक लगाए हैं. इस तरह कुल 15 शतक लगे हैं जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है.

 

इतना ही नहीं विदेशी जमीन पर भारतीय बल्लेबाजी इस दौरे में हार के बाद भी बेहतर दिखी. दोनों ही टीमों ने हर टेस्ट की पहली पारी में 400 से ज्यादा का स्कोर किया. हालांकि भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया से पीछे रही लेकिन इसके बाद भी टीम इंडिया के लिए ये एक खुशी की बात है कि उनके बल्लेबाजों ने यहां रन बनाए. ऑस्ट्रेलिया में खेले गए अब तक के सीरीज (चार टेस्ट) में ये दूसरी सबसे अच्छी सीरीज रही. इससे पहले 2003-04 के दौरे पर भारतीय टीम ने हर विकेट के लिए 48.29 के औसत से रन बनाए जो उसका किसी भी विदेशी दौरे पर सबसे अच्छा प्रदर्शन था.

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: border-gavaskar trophy
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

टेनिस: सिनसिनाटी ओपन के क्वार्टर फाइनल में कोंटा
टेनिस: सिनसिनाटी ओपन के क्वार्टर फाइनल में कोंटा

बासिल: ब्रिटेन की स्टार महिला टेनिस खिलाड़ी योहाना कोंटा ने सिनसिनाटी ओपन टेनिस टूर्नामेंट के...

ENGvsWI: कुक और रूट के शतकों से पहले दिन इंग्लैंड मजूबत
ENGvsWI: कुक और रूट के शतकों से पहले दिन इंग्लैंड मजूबत

बर्मिंघम: पूर्व कप्तान एलिस्टेयर कुक और मौजूदा कप्तान जो रूट की शानदार शतकों की मदद से...

श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज से पहले धोनी ने नेट्स में दिखाया दम
श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज से पहले धोनी ने नेट्स में दिखाया दम

दाम्बुला: 20 अगस्त को श्रीलंका के खिलाफ शुरु...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017