500 रन वाली पिचों से अच्छे गेंदबाज तैयार नहीं कर सकते: कोहली

By: | Last Updated: Friday, 27 November 2015 2:28 PM
Can’t produce bowlers playing on 500-run pitches: Virat Kohli

नागपुर: भारतीय कप्तान विराट कोहली ने आज स्पष्ट किया कि स्पिनरों की मददगार पिचें तैयार करने की कोई ‘नीति’ नहीं है लेकिन सपाट बल्लेबाजी के अनुकूल विकेट पर खेलने से कभी मैच विजेता गेंदबाज तैयार किये जा सकते. कोहली ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन भारत की जीत के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘यह नीति नहीं है. भारत में हमें ऐसी परिस्थितियां मिलती है. अन्यथा टेस्ट मैचों में 500 रन बनाकर आप इस तरह के गेंदबाज तैयार नहीं कर सकते और टेस्ट मैच नहीं जीत सकते. मैंने पहले भी कहा था कि टेस्ट मैच जीतना अहम है. आप दुनिया में कहीं भी जाओ आपको वहां की परिस्थितियों का सामना करने के लिये तैयार होना चाहिए और उसी हिसाब से अपने खेल से तालमेल बिठाना पड़ता है. ’’

 

आलचकों को दिया जवाब –

 

यहां तक वह उन लोगों पर ताना कसने से भी नहीं चूके जिन्होंने श्रीलंका में गॉल टेस्ट मैच में हारने के बाद भारत की स्पिनरों की मददगार पिचों पर नहीं खेलने के लिये आलोचना की थी. कोहली ने कहा, ‘‘मुझे याद है कि कुछ समय पहले गॉल में हमारी पारी ढह गयी थी और किसी ने कहा कि हमारी बल्लेबाजी में तेज गेंदबाजों के सामने सुधार हो गया है, लेकिन हम यह नहीं जानते कि स्पिनरों को कैसे खेलना है और अब जबकि हम स्पिनरों की मददगार पिच पर खेल रहे हैं तो यह भी समस्या बन गयी है. मैं नहीं जानता कि हमें आखिर संतुलन कहां मिलेगा. ’’ भारतीय कप्तान दूसरे देशों के खिलाड़ियों (किसी का नाम लिये बिना) की आलोचना की कि हजारों मील दूर बैठकर वे पिच को लेकर आलोचना कैसे कर सकते हैं.

अब तक की सबसे मुश्किल परिस्थितियों में खेले: अमला 

 

अमला और फाफ से सीखना होगा –

उन्होंने कहा कि हाशिम अमला और फाफ डु प्लेसिस ने दिखाया कि यदि आप पूरी एकाग्रता के साथ खेलते हो तो इस तरह की पिच पर टिका जा सकता है. कोहली ने कहा, ‘‘यह केवल मानसिकता से जुड़ा मसला है. लोग अपने विचार रख रहे है और वे ऐसा करने के लिये स्वतंत्र हैं. लेकिन हम ऐसा नहीं मानते. आज दो खिलाड़ियों (अमला और डु प्लेसिस) ने शानदार उदाहरण पेश किया कि इस पिच पर एकाग्रता और अपने पूरे कौशल से खेलने पर टिका जा सकता है. ’’

 

कप्तान कोहली ने दो टेस्ट सीरीज जीत का श्रेय अश्विन को दिया

 

चुनौतियां स्वीकार्य है –

रविचंद्रन अश्विन ने कहा था कि भारतीय कभी विदेशी पिचों को लेकर शिकायत नहीं करते और कोहली ने भी उनकी हां में हां मिलायी. उन्होंने कहा, ‘‘जब हमें चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है तो हमने कभी शिकायत नहीं की और भविष्य में भी ऐसा नहीं करेंगे. हम अपने खेल में सुधार करने की कोशिश करेंगे. लोग इसके बारे में बात कर सकते हैं और चुप भी रह सकते हैं. सचाई यह है कि हमने सीरीज जीत ली है. हमने दो मैच जीत लिये है और सीरीज हमारे नाम हो चुकी है और हम इससे खुश हैं. ’’

 

पिच की आलोचना से बचे डोमिंगो, भारतीय स्पिनरों को दिया श्रेय

 

कोहली ने इसके साथ ही कहा कि पिछले कुछ वर्षों में साउथ अफ्रीका को छोड़कर बाकी सभी टीमों ने केवल घरेलू पिचों पर अच्छा प्रदर्शन किया है. साउथ अफ्रीका ने विदेशी सरजमीं पर पिछले नौ साल में पहली बार सीरीज गंवायी. उन्होंने कहा, ‘‘यदि आप पिछले कुछ वर्षों के आंकड़ों पर गौर करो तो टीमों का घरेलू सरीज में दबदबा रहा. टेस्ट क्रिकेट ऐसे ही आगे बढ़ रहा है. विदेशों में जीत दर्ज करने वाली केवल एक या दो टीमें हैं. इसके लिये जज्बा चाहिए. हमेशा ऐसा नहीं होगा. ’’

 

पिच पर सवाल उठाने वालों को अश्विन ने दिया करारा जवाब

 

स्पिन के खिलाफ सुधार की जरूरत –

उन्होंने कहा, ‘‘एक टीम के रूप में हमें लगता है कि हमें स्पिन के खिलाफ अपने खेल में सुधार करना होगा. हम भी सीख रहे हैं और भविष्य में हमें उपमहाद्वीप में ढेरों टेस्ट मैच खेलने हैं और हमें टेस्ट मैचों के अनुकूल अपने खेल में सुधार करना होगा. ’’ कोहली ने अपने स्पिन गेंदबाजों की तारीफ करते हुए कहा कि बल्लेबाजों ने अनुकूल प्रदर्शन नहीं किया. उन्होंने कहा, ‘‘मैंने मोहाली में कहा था कि एक या दो बल्लेबाजों को छोड़कर हमारे बल्लेबाज टिककर नहीं खेल पाये. लगातार अच्छा प्रदर्शन करने के लिये आपको बल्लेबाजी समूह के रूप में अच्छा प्रदर्शन करना होगा. ऐसा नहीं हुआ और बड़ा स्कोर नहीं बना. ’’

 

दिग्गज क्रिकेटरों ने नागपुर पिच को लेकर उठाए सवाल

 

कोहली ने कहा कि मुरली विजय, चेतेश्वर पुजारा और शिखर धवन (दूसरी पारी में) दिखाया कि रन बनाये जा सकते हैं. उन्होंने कहा, ‘प्रतिबद्धता दिखाने पर आप रन बना सकते हो. मोहाली में हमारे बल्लेबाजों ने ऐसा किया. विजय ने पहली पारी में शानदार शुरूआत की. पुजारा ने दूसरी पारी में अच्छी बल्लेबाजी और यहां शिखर ने 40 के करीब (39 रन) रन बनाये. ’’ उन्होंने अश्विन और रविंद्र जडेजा के अलावा इशांत शर्मा और अमित मिश्रा के प्रयासों की भी सराहना की. उन्होंने कहा, ‘‘अश्विन और जडेजा की तरह इनके प्रयास भी सराहनीय रहा. मिश्रा ने हमें महत्वपूर्ण सफलताएं दिलायी. ’’

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Can’t produce bowlers playing on 500-run pitches: Virat Kohli
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

वेस्टइंडीज के खिलाफ इंग्लैंड टीम ने किया सिर्फ एक बदलाव
वेस्टइंडीज के खिलाफ इंग्लैंड टीम ने किया सिर्फ एक बदलाव

      बर्मिंघम: वेस्टइंडीज के खिलाफ शुरू हो...

...तो इस वजह से वनडे टीम में युवराज को नहीं मिली जगह!
...तो इस वजह से वनडे टीम में युवराज को नहीं मिली जगह!

नई दिल्ली: श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट सीरीज के बाद 20 अगस्त से शुरु हो रहे वनडे सीरीज के लिए टीम...

वनडे सीरीज के लिए श्रीलंका टीम में थिसारा परेरा और सिरिवर्दना की हुई वापसी
वनडे सीरीज के लिए श्रीलंका टीम में थिसारा परेरा और सिरिवर्दना की हुई वापसी

कोलंबो: भारत के खिलाफ पांच वनडे मैचों की सीरीज के लिए श्रीलंका टीम में थिसारा परेरा और मिलिंदा...

4 साल बाद एस. श्रीसंत ने क्रिकेट के मैदान पर की वापसी
4 साल बाद एस. श्रीसंत ने क्रिकेट के मैदान पर की वापसी

कोच्चि: जहां एक ओर पूरा देश 71वें स्वतंत्रता...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017