गेंदबाजों का प्रदर्शन खराब नहीं था, ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाजों ने अच्छी बल्लेबाजी कीः फ्लेचर

By: | Last Updated: Friday, 16 January 2015 10:04 AM

मेलबर्न: भारतीय गेंदबाजों को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हाल में समाप्त हुई टेस्ट सीरीज में लचर प्रदर्शन के लिये भले ही हर तरफ से कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ रहा हो लेकिन मुख्य कोच डंकन फ्लेचर ने उनका बचाव किया है. कोच ने कहा कि मेजबान टीम के बल्लेबाजों ने उनमें से कुछ की अनुभवहीनता का फायदा उठाया. फ्लेचर से ऑस्ट्रेलिया से चार टेस्ट मैचों की श्रृंखला में 0-2 से हार में भारत की गेंदबाजी का आकलन करने को कहा गया तो उन्होंने स्वीकार किया कि गेंदबाजी में सुधार की जरूरत है लेकिन इसके साथ ही कोच ने कहा कि गेंदबाजों की कुछ आलोचनाएं बेवजह की गयी.

 

भारत के विदेशों में खराब प्रदर्शन के कारण अक्सर आलोचनाएं झेलने वाले फ्लेचर ने कहा, ‘‘मैं सहमत हूं कि गेंदबाजों के साथ काफी काम किया जाना बाकी है और उन्हें टेस्ट स्तर पर अपनी जिम्मेदारियों को समझना चाहिए. लेकिन मेरा इसके साथ ही मानना है कि भारतीय तेज गेंदबाजों की कुछ बेवजह आलोचना भी की गयी.’’

 

फ्लेचर ने बीसीसीआई.टीवी से कहा, ‘‘इन गेंदबाजों के लिये यह इस तरह की परिस्थितियों में अनुभव हासिल करने से जुड़ा मसला था. इस चीज को ईशांत शर्मा ने पूरी सीरीज में दिखाया. ’’ ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में होने वाले विश्व कप के बाद फ्लैचर का भारतीय कोच के रूप में अनुबंध समाप्त हो जाएगा. उन्होंने मोहम्मद शमी और उमेश यादव का भी बचाव किया और कहा कि इन दोनों तेज गेंदबाजों ने अपने कुछ ऑस्ट्रेलियाई प्रतिद्वंद्वियों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन किया.

 

उन्होंने कहा, ‘‘उमेश (11) ने जोश हेजलवुड (12) से एक विकेट कम लिया और उन्होंने ऐसा प्रदर्शन तब किया जबकि वह टेस्ट और वनडे टीम से अंदर बाहर होते रहे हैं जो कि किसी भी गेंदबाज के आत्मविश्वास और लय के लिये सही नहीं है.’’ उन्होंने भारतीय बल्लेबाजों के प्रदर्शन पर खुशी जतायी लेकिन साथ ही कहा कि उन्हें शॉट के अपने चयन पर काम करना होगा.

 

जिम्बाब्वे के इस पूर्व क्रिकेटर ने कहा, ‘‘यह देखकर अच्छा लगा कि लगभग सभी बल्लेबाजों ने रन बनाये विशेषकर विराट का प्रदर्शन बेजोड़ रहा. उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में वनडे में भी अच्छा प्रदर्शन किया है और उम्मीद है कि वह इसे जारी रखेंगे. वह सकारात्मक सोच वाले इंसान हैं जिनका टीम पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है. दूसरे बल्लेबाजों ने भी बीच बीच में अच्छी फॉर्म दिखायी.’’ उन्होंने कहा, ‘‘एक विभाग है जिस पर उन्हें काम करने की जरूरत है और वह है जोखिम का आकलन करना. टेस्ट मैचों में कभी मुझे लगता है कि वे अपनी गलती से विकेट गंवाते हैं. अब उन्हें यह समझने की जरूरत है कि कुछ खास परिस्थितियों में कैसे शाट लगाने चाहिए. त्रिकोणीय श्रृंखला में हमारे लिये यह महत्वपूर्ण पहलू होगा जिस पर हम काम करेंगे.’’

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: coach on indian boller
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017