राष्ट्रमंडल खेलों में पिछली सफलता दोहरा पाएगा भारत?

By: | Last Updated: Wednesday, 23 July 2014 5:05 AM

नई दिल्ली: स्कॉटलैंड की राजधानी ग्लास्गो में बुधवार से शुरू हो रहे राष्ट्रमंडल खेलों के 20वें संस्करण में भारत अपने निशानेबाजों, मुक्केबाजों, पहलवानों एवं बैडमिंटन खिलाड़ियों के बल पर पदक के बड़े हिस्से पर कब्जा जमाना चाहेगा. भारतीय दल के सामने लेकिन सबसे बड़ी चुनौती पिछले राष्ट्रमंडल खेलों में हासिल 101 पदकों के अपने ही रिकॉर्ड को दोहराने की रहेगी.

 

नई दिल्ली में 2010 में हुए पिछले संस्करण में तो भारतीय दल को अपनी धरती, घरेलू माहौल और दर्शकों का समर्थन प्राप्त था, लेकिन इस बार उनके लिए विदेशी धरती पर वही कारनामा दोहराने का दबाव जरूर रहेगा.

 

पिछले राष्ट्रमंडल खेलों की भ्रष्टाचार के आरोपों और तैयारी में हुई देरी के लिए काफी आलोचना हुई, लेकिन प्रतियोगिता में भारतीय दल के शानदार प्रदर्शन ने सभी आलोचनाओं को धूमिल कर दिया.

 

इस बार हालांकि भारतीय दल लंदन ओलम्पिक-2012 में मिली अभूतपूर्व सफलता से भी उत्साहित है. लंदन ओलम्पिक में भारतीय दल ने रिकॉर्ड छह पदक प्राप्त किए, जिसमें दो रजत पदक शामिल हैं.

 

इस बार भारत राष्ट्रमंडल खेलों में लगभग 224 खिलाड़ियों का दल उतार रहा है, तथा भारत को पदक की सर्वाधिक उम्मीदें निशानेबाजी, मुक्केबाजी, कुश्ती, बैडमिंटन और हॉकी प्रतिस्पर्धाओं से है.

 

पिछले दो संस्करणों से निशानेबाजी में भारत को सर्वाधिक पदक मिले हैं. निशानेबाजों ने भारत के लिए मेलबर्न में 27 पदक जीते, जिसमें 16 स्वर्ण पदक शामिल थे. नई दिल्ली में भारतीय निशानेबाजों ने 30 पदक हासिल किए, जिसमें 14 स्वर्ण पदक शामिल थे.

 

राष्ट्रमंडल खेलों के लिए ग्लास्गो पहुंची भारतीय टीम में ओलम्पिक चैम्पियन अभिनव बिंद्रा के अलावा दो ओलम्पिक पदक विजेता खिलाड़ी गगन नारंग और विजय कुमार शामिल हैं.

 

विजय कुमार राष्ट्रमंडल खेलों-2014 के उद्घाटन समारोह में भारतीय टीम के ध्वजवाहक भी रहेंगे.

 

बैडमिंटन टीम की कमान इस बार गत चैम्पियन सायना नेहवाल के बाहर होने से विश्व चैम्पियनशिप कांस्य पदक विजेता पी. वी. सिंधु के हाथों में आ गई है. ज्वाला गुट्टा और अश्विनी पोनप्पा की मौजूदा चैम्पियन जोड़ी से भी काफी उम्मीदें हैं. सिंधु के स्पर्धा में शीर्ष वरीयता दी गई है.

 

कांस्य पदक विजेता पारुपल्ली कश्यप भी इस बार सर्वोच्च विश्व वरीय मलेशियाई ली चोंग वेई की अनुपस्थिति का लाभ उठाना चाहेंगे.

 

पिछले कुछ वर्षो में भारतीय पहलवानों ने जैसा प्रदर्शन किया है, उससे उनसे भी पदकों की उम्मीद करना लाजिमी है. सुशील कुमार पिछले दो ओलम्पिक में लगातार पदक जीत चुके हैं, जबकि लंदन ओलम्पिक में कांस्य पदक जीतने वाले योगेश्वर दत्त का हौसला भी बुलंद है.

 

राष्ट्रमंडल खेलों के जरिए सुशील कुमार और योगेश्वर नए भारवर्ग के तहत किसी बड़े अंतर्राष्ट्रीय टूर्नामेंट में पहली बार हिस्सा लेंगे.

 

मुक्केबाज विजेंदर, चक्का फेंक एथलीट कृष्णा पूनिया और विकास गौड़ा से भी पदक की उम्मीदें रहेंगी.

 

पिछली बार फाइनल में आस्ट्रेलिया के हाथों हारने वाली पुरुष हॉकी टीम हाल ही में संपन्न हुए हॉकी विश्व कप में तो अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाई. अब उनसे राष्ट्रमंडल खेलों में अपनी गरिमा बचाने की उम्मीद की जा रही है.

 

पुरुष हॉकी टीम के अलावा महिला हॉकी टीम ने अंतर्राष्ट्रीय पटल पर पिछले कुछ महीनों में जैसा प्रदर्शन किया है, उसने उनसे भी पदक की आस जगा दी है.

 

भारतवासियों के पदकों की आस भारतीय दल कितना पूरा कर पाते हैं, वह इस बात पर निर्भर करेगा कि वे ग्लास्गो के वातावरण से कितना हद तक तालमेल बिठा पाते हैं.

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: commonwealth_games
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

रोते बच्चे का वीडियो देख कोहली हुए दुखी, कहा ‘बच्चे को धमकाकर नहीं सिखाया जा सकता’
रोते बच्चे का वीडियो देख कोहली हुए दुखी, कहा ‘बच्चे को धमकाकर नहीं सिखाया जा...

नई दिल्ली: भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली सोशल मीडिया पर बेहद सक्रीय रहते हैं. श्रीलंका में...

संगाकारा के घर में उनका सबसे बड़ा रिकॉर्ड तोड़ेंगे एमएस धोनी
संगाकारा के घर में उनका सबसे बड़ा रिकॉर्ड तोड़ेंगे एमएस धोनी

सौजन्य: AFP नई दिल्ली: श्रीलंका के साथ खेली गई 3 टेस्ट मैचों की सीरीज़ को क्लीनस्वीप कर भारतीय टीम...

ENGvsWI: कुक के दोहरे शतक से इंग्लैंड का विशाल स्कोर, वेस्टइंडीज़ की खराब शुरूआत
ENGvsWI: कुक के दोहरे शतक से इंग्लैंड का विशाल स्कोर, वेस्टइंडीज़ की खराब शुरूआत

बर्मिंघम: पूर्व कप्तान एलिस्टेयर कुक के करियर के चौथे दोहरे शतक की मदद से इंग्लैंड ने...

BCCI से एनओसी पाने के लिये केरल हाईकोर्ट पहुंचे श्रीसंत
BCCI से एनओसी पाने के लिये केरल हाईकोर्ट पहुंचे श्रीसंत

कोच्चि: क्रिकेटर एस श्रीसंत ने बीसीसीआई से अनापत्ति प्रमाणपत्र (एनओसी) के लिए केरल हाईकोर्ट...

डे-नाइट टेस्ट मैच में दोहरा शतक लगाने वाले दूसरे बल्लेबाज बने एलिस्टेयर कुक
डे-नाइट टेस्ट मैच में दोहरा शतक लगाने वाले दूसरे बल्लेबाज बने एलिस्टेयर कुक

बर्मिंघम: पाकिस्तान के अजहर अली के बाद एलिस्टेयर कुक डे-नाइट टेस्ट मैच में दोहरा शतक जड़ने वाले...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017