अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के कारण आलोचना करना आसान: धोनी

By: | Last Updated: Monday, 7 March 2016 8:06 PM

 

मीरपुर: बांग्लादेश के हाथों सीरीज में हार के कारण आलोचकों द्वारा बोरिया बिस्तर बांधे जाने के आठ महीने बाद कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अपने आलोचकों को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि क्रिकेट में मामले में भारत में लोग अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का खुलकर इस्तेमाल करते हैं.

धोनी ने बांग्लादेश को आठ विकेट से हराकर एशिया कप जीतने के बाद कहा ,‘‘मेरा मानना है कि भारत में हर किसी की हर मसले पर खासकर क्रिकेट पर राय होती है. अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है और हर किसी को राय रखने का हक है. ऐसे खेलो, वैसे खेलो, यह करो, वह करो. समस्या यह है कि क्रिकेट टीवी पर आसान दिखता है जबकि मैदान पर होता नहीं.’’ उन्होंने कहा ,‘‘आलोचना तो होगी ही. कोई मुझसे अगर पूछे कि तुम क्या करोगे तो मैं यही कहूंगा कि भारत के लिए खेलना मेरी पहली पसंद है. मैं कभी किसी दूसरे देश के लिये नहीं खेलूंगा.’’ उन्होंने कहा कि हर व्यक्ति को बीच का रास्ता अपनाना चाहिये ताकि संतुलन बना सके.

धोनी ने कहा ,‘‘हर व्यक्ति के लिये बीच का रास्ता अपनाना सही है. आलोचना से विचलित होने की की जरूरत नहीं है और ना ही तारीफ होने पर खुद को गंभीरता से लेने की जरूरत है. मीडिया भी संतुलन बना देता है. वह आपको ऊपर उठाता है तो नीचे भी गिराता है.’’ बांग्लादेशी मीडिया और दर्शकों का रवैया विश्व कप क्वार्टर फाइनल में हार के बाद भारतीय टीम के प्रति सकारात्मक नहीं रहा है.

धोनी ने कहा ,‘‘जब आप बांग्लादेश से हारते हैं तो लोग कहते हैं कि बांग्लादेश से भी हार गए और जब जीतते हैं तो कहते हैं तो कोई बड़ी बात नहीं, जीतना ही था. जब जीतते हैं तो भी और हारते हैं तो भी बहुत कुछ दाव पर लगा होता है .’’ उन्होंने हालांकि यह भी कहा ,‘‘हालांकि हालात अब बदल गए हैं. यह 2004 की बांग्लादेश टीम नहीं है. उनके पास बेहतरीन टीम है और उनके प्रदर्शन में काफी सुधार आया है.’’

उन्होंने स्वीकार किया कि कोई भी हार दुखद होती है लेकिन वर्तमान में जीना अहम है.

उन्होंने कहा ,‘‘वर्तमान में जीने से मदद मिलती है. यदि आप अतीत के बारे में सोचने लगे तो हमेशा दुखी रहेंगे इसीलिये उसे भूलना जरूरी है. आप उससे सबक ही ले सकते हैं. हमने अपनी क्षमता के अनुरूप खेला है और जीत से खुश हैं.’’ उनकी पारी के बारे में जब पूछा गया कि क्या उन्हें लगता है कि वह लगातार मैच नहीं जिता सकते, धोनी ने कहा ,‘‘ मुझसे ज्यादा मीडिया को लगता है. (मजाकिया लहजे में) . मैं अभी भी बड़े शॉट खेल सकता हूं.’

 

Cricket News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के कारण आलोचना करना आसान: धोनी
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017