शाही अंदाज में मुंबई ने रिकॉर्ड 41वीं बार जीता रणजी खिताब

By: | Last Updated: Friday, 26 February 2016 5:44 PM


 

 

 

 

 

पुणे: शादरुल ठाकुर की अगुवाई में तेज गेंदबाजों के बेहतरीन प्रदर्शन से मुंबई ने सौराष्ट्र को तीसरे दिन ही पारी और 21 रन से हराकर रिकॉर्ड 41वीं बार रणजी ट्रॉफी राष्ट्रीय क्रिकेट चैंपियनशिप का खिताब जीता. मुंबई ने अपनी पहली पारी में 371 रन बनाकर 136 रन की बढ़त ली और फिर सौराष्ट्र को दूसरी पारी में 121 रन पर ढेर कर दिया. 

 

शादरुल ठाकुर ने 26 रन देकर पांच विकेट लिये जबकि पहली पारी में पांच विकेट लेने वाले धवल कुलकर्णी ने 34 रन देकर दो और बलविंदर सिंह संधू ने 21 रन देकर दो विकेट हासिल किए. यह रणजी फाइनल में दसवां अवसर है जबकि मुंबई ने किसी टीम को पारी के अंतर से हराया. सौराष्ट्र लगातार दूसरी बार खिताब से वंचित रहा. इससे पहले 2012-13 में वह मुंबई से पारी और 125 रन से हार गया था. मुंबई ने पिछले तीन साल में पहली बार खिताब जीता. यह उसका 45वां फाइनल था जिसमें 41 बार वह जीतने में सफल रहा. कर्नाटक उससे काफी पीछे आठ खिताब के साथ दूसरे स्थान पर है. 

 

तेज गेंदबाजों को विकेट से अब भी मदद मिल रही थी और सौराष्ट्र के बल्लेबाज दूसरी पारी में शादरुल और अन्य बल्लेबाजों के सामने संघर्ष करते हुए नजर आये. उसकी तरफ से पांच बल्लेबाज दोहरे अंक में पहुंचे जिनमें चेतेश्वर पुजारा ने सर्वाधिक 27 रन बनाये. मुंबई ने सुबह अपनी पहली पारी आठ विकेट पर 262 रन से आगे बढ़ायी लेकिन सिद्धेष लाड (88) और सिंधू (नाबाद 34) ने आखिरी विकेट के लिये 103 रन की साझेदारी करके सौराष्ट्र की वापसी की उम्मीदों को करारा झटका लगाया. यह साझेदारी आखिर में महत्वपूर्ण साबित हुई. 

 

कप्तान जयदेव शाह ने 17 रन बनाये. उनके आउट होने के बाद मुंबई ने पारी की जीत के लिये प्रयास तेज कर दिये. जयदेव उनादकट ने आखिरी क्षणों में एक चौके और एक छक्के की मदद से नाबाद 16 रन बनाये लेकिन वह पारी की हार नहीं टाल पाये. सौराष्ट्र ने अपनी पहली पारी में 235 रन बनाये थे. 

 

श्रेयस अय्यर को मुंबई की पहली पारी में 117 रन बनाने के लिये मैन आफ द मैच चुना गया. उन्होंने इस सत्र में 73.38 की औसत से 1321 रन बनाये जिसमें चार शतक और सात अर्धशतक शामिल हैं. अय्यर ने कहा, ‘‘अभी आप अपनी भावनाएं व्यक्त नहीं कर सकते. रणजी ट्रॉफी जीतना हर किसी का सपना होता है. हमने वास्तव में इसके लिये कड़ी मेहनत की थी और यह शानदार रहा. पिछले सत्र में मैंने 810 रन बनाये और इस सत्र में मैंने इससे अधिक रन बनाने को अपना लक्ष्य बनाया था. मैं इससे आगे निकला और 1300 से अधिक रन बनाने में सफल रहा. यह शानदार अहसास है. ’’ 

 

सौराष्ट्र के कप्तान जयदेव शाह ने कहा कि उनकी टीम मौकों का फायदा नहीं उठा पायी. उन्होंने कहा, ‘‘यह बेहद निराशाजनक है. कैच लेने से मैच जीते जाते हैं और हमने दो महत्वपूर्ण मौके गंवाये लेकिन मेरी टीम ने अच्छा प्रदर्शन किया. प्लेट से हम एलीट में पहुंचे और फिर फाइनल में जगह बनाने में सफल रहे. हमारे लिये यह सत्र अच्छा रहा. ’’

Cricket News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: शाही अंदाज में मुंबई ने रिकॉर्ड 41वीं बार जीता रणजी खिताब
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017