CWG: सरिता और देवेंद्रो फाइनल में, पिंकी ने किया कांस्य पर कब्जा

By: | Last Updated: Saturday, 2 August 2014 2:54 AM
devendro _lsarita _qualifies _for _final _pniki _wins _bronse

ग्लास्गो: भारत के एल देवेंद्रो और एल सरिता देवी ने राष्ट्रमंडल खेलों की मुक्केबाजी प्रतियोगिता में आज यहां अपने अपने वर्ग के फाइनल में पहुंचकर कम से कम रजत पदक पक्का किया.

 

देवेंद्रो ने पुरूषों के 49 किग्रा भार वर्ग के सेमीफाइनल में वेल्स के एशले विलियम्स को जबकि सरिता देवी ने महिलाओं के 60 किग्रा में मोजाम्बिक की मारिया माचोंग्वा को हराया.

 

पिंकी जांगड़ा हालांकि महिलाओं के 51 किग्रा वर्ग की सेमीफाइनल में उत्तरी आयरलैंड की मिशेला वाल्श से हार गयी और उन्हें कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा.

 

बाईस वर्षीय देवेंद्रो शुरू से ही अपने प्रतिद्वंद्वी पर हावी हो गये और दनादन मुक्के जड़ने के साथ उन्होंने अपना बखूबी बचाव भी किया. तीनों जजों ने 3-0 से उनके पक्ष में 30-27, 30-27, 30-27 से फैसला सुनाया.

 

इससे पहले सरिता देवी ने भारतीय खेमे में खुशी की लहर दौड़ायी. विश्व चैंपियनशिप की पूर्व रजत पदक विजेता 29 वर्षीय सरिता ने मारिया के खिलाफ एकतरफा जीत दर्ज की.

 

आलम यह था कि मोजाम्बिक की उनकी प्रतिद्वंद्वी खुद को बचाने के प्रयास में लगी रही. सरिता कई बार अपनी प्रतिद्वंद्वी को रिंग पर लगी रस्सियों तक ले गयी. इस मणिपुरी मुक्केबाज के पक्ष में तीन जजों ने 3-0 से फैसला सुनाया. उन्होंने सरिता के पक्ष में 40-33, 40-32, 40-34 से फैसला दिया.

 

 

सरिता ने बाद में कहा कि जब उनकी प्रतिद्वंद्वी मुक्केबाजी करने के बजाय छिपने की कोशिश कर ही थी तो उन्हें काफी आनंद आ रहा था.

 

उन्होंने कहा, ‘‘वह मेरे नीचे छिपने की कोशिश कर रही थी और मैंने सोचा कि यह औरत मुक्केबाजी नहीं करना चाहती है. इसलिए मैं मुकाबले के दौरान हंस रही थी. राष्ट्रमंडल खेलों में पहली बार महिला मुक्केबाजी को शामिल किया गया है और मैं स्वर्ण पदक जीतना चाहती हूं. इसलिए मैं फाइनल के लिये अच्छी तैयारी करूंगी. ’’

 

सरिता फाइनल में आस्ट्रेलिया की शैली वाट्स से भिड़ेगी. इससे पहले राष्ट्रीय ट्रायल्स के दौरान ओलंपिक कांस्य पदकधारी मैरीकाम को हराने वाली पिंकी ने अपनी प्रतिद्वंद्वी मुक्केबाज को कड़ी चुनौती दी लेकिन वह अपने से लंबे कद की मुक्केबाज के खिलाफ करारे मुक्के नहीं लगा सकीं.

पिंकी यह मुकाबला 0 . 2 से हार गयी. कजाखस्तान के जज ने आठ मिनट के चार राउंड के मुकाबले में दोनों मुक्केबाजों को 38-38 अंक दिये. लेकिन कनाडा और हंगरी के जज ने वाल्श के हक में फैसला करते हुए क्रमश: 40-36 और 39-37 अंक दिये.

 

हारने के बाद पिंकी ने कहा कि वह आज अपना सर्वश्रेष्ठ नहीं कर सकीं. उन्होंने कहा, ‘‘वह :वाल्श: बहुत अच्छी मुक्केबाज है. मैंने कुछ गलतियां कीं. मुझे नहीं लगता कि मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया. ’’

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: devendro _lsarita _qualifies _for _final _pniki _wins _bronse
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017