मुश्किल घड़ी में शास्त्री से सीख ली धोनी ने

By: | Last Updated: Thursday, 19 February 2015 11:34 AM

मेलबर्न: ऑस्ट्रेलियाई दौरे में लचर प्रदर्शन के बाद विश्व कप के शुरूआती मैच में पाकिस्तान के खिलाफ शानदार जीत से भारतीय क्रिकेट टीम को भले ही जश्न मनाने का मौका मिला हो लेकिन अब भी कुछ ऐसे विभाग हैं जिन पर काम करने की जरूरत है.

इनमें कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की बल्लेबाज के रूप में खराब फॉर्म भी शामिल है. इसे देखकर वास्तव में हैरानी नहीं हुई कि कप्तान ने कल सेंट किल्डा जंक्शन ओवल मैदान पर भारतीय टीम के प्रैक्टिस सेशन के दौरान टीम निदेशक रवि शास्त्री के साथ पर्याप्त समय बिताया. इस सेशन के बाद धोनी स्क्वायर लेग एरिया में गये जहां शास्त्री कुर्सी पर बैठे हुए थे. इन दोनों को चर्चा में लीन देखा गया जिसके बाद पूर्व भारतीय कप्तान को पुल शॉट खेलने के लिये शरीर के मूवमेंट और संतुलन की सीख देते देखा गया.

 

ऑस्ट्रेलियाई विकेटों के बारे में शास्त्री के ज्ञान पर सवाल नहीं उठाये जा सकते हैं क्योंकि वह 1985 में बेंसन एंड हेजेज सीरीज के दौरान मैन ऑफ द सीरीज या चैंपियन्स आफ चैंपियन रहे थे. उन्होंने 1991-92 सीरीज के दौरान सिडनी में दोहरा शतक भी लगाया था. धोनी ने जो पिछले दस वनडे खेले हैं उनमें उन्होंने केवल एक अर्धशतक (नाबाद 51) वेस्टइंडीज के खिलाफ लगाया था. उन्हें दो अन्य मैचों में बल्लेबाजी का मौका नहीं मिला.

 

बाकी सात मैचों में वह केवल एक बार 30 रन के पार के पार पहुंच पाये थे. वह कुछ अवसरों पर अच्छी गेंदों पर आउट हुए जबकि कभी उन्होंने खराब शॉट खेलकर अपना विकेट गंवाया. सचाई यह है कि दस अधिकृत वनडे के अलावा धोनी ऑस्ट्रेलिया और अफगानिस्तान के खिलाफ दो प्रैक्टिस मैचों में भी नहीं चल पाये थे. इन मैचों में उन्होंने शून्य और दस रन बनाये.

 

उन्हें कुछ अवसरों पर पारी संवारने के लिये समय नहीं मिला लेकिन भारतीय कप्तान को शॉट के अपने चयन पर काम करने की जरूरत है. वह अभी 33 साल के हैं और समय के साथ उनके रिफलेक्शन भी धीमे पड़ते जा रहे हैं. कप्तान इससे वाकिफ हैं और इसलिए वह इस समस्या से पार पाने की कोशिशों में लगे हुए हैं.

 

धोनी ने पाकिस्तान के खिलाफ एडिलेड में तेज गेंदबाज सोहेल खान के खिलाफ पुल शॉट लगाया लेकिन गेंद हवा में लहरा गयी. वह आड़े बल्ले से शॉट खेलने के लिये पीछे गये लेकिन गेंद जल्दी उनके पास पहुंच गयी. वह सही समय पर शॉट नहीं लगा पाये जैसा कि कुछ साल पहले तक लगाया करते थे. इसलिए नेट्स पर उन्होंने धवल कुलकर्णी, मोहम्मद शमी और यहां तक कि भुवनेश्वर कुमार की शॉर्ट पिच गेंदों पर शॉट लगाने का अभ्यास किया. उन्होंने लगातार पुल शॉट खेले.

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: dhoni
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017