द्रविड़ ने धोनी की तारीफों के पुल बांधे

By: | Last Updated: Wednesday, 31 December 2014 7:21 AM

नई दिल्ली: टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेकर सबको हैरान करने वाले महेंद्र सिंह धोनी की तारीफों के पुल बांधते हुए पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ ने कहा कि इस विकेटकीपर बल्लेबाज को ऐसे कप्तान के रूप में जाना जाएगा जिन्होंने उदाहरण पेश करते हुए टीम की अगुआई की और सिर्फ बातों पर ध्यान नहीं दिया.

 

द्रविड़ ने ‘ईएसपीएनक्रिकइंफो’ से कहा, ‘वह ऐसा कप्तान है जिसके नेतृत्व में खेलने में मुझे मजा आया.’ उन्होंने कहा, ‘धोनी के बारे में एक चीज जो मुझे पसंद है वह यह है कि आपको जो दिखता है वही मिलेगा. कोई जटिलता नहीं, हमेशा उदारण के साथ अगुआई की. धोनी के नेतृत्व में खेलने की एक चीज जो मुझे सबसे अच्छी लगती थी वह यह थी कि वह आपको कभी ऐसी चीज करने के लिए नहीं कहता था जो वह खुद नहीं कर सकता था.’

 

कल आस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न में ड्रा समाप्त हुए तीसरे टेस्ट के बाद धोनी ने टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया. धोनी ने हालांकि मैच के खत्म होने के बाद भी संन्यास लेने का कोई संकेत नहीं दिया था.

 

द्रविड़ ने कहा, ‘वास्तविकता यह है कि उसकी मौजूदगी में सीनियर समूह बदलाव के दौर से गुजर रहा था और युवा खिलाड़ी आ रहे थे. वह कप्तान के रूप में काफी बात नहीं करता और अपने काम से आपका सम्मान जीतने की कोशिश करता है. वह कभी पीछे नहीं हटता और उदाहरण के साथ अगुआई करता है और ज्यादा बोलने में विश्वास नहीं करता.’

 

द्रविड़ ने कहा कि धोनी को छोटे शहरों के खिलाड़ियों के लिए प्रेरणास्रोत होने का श्रेय जाता है. पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा, ‘रांची जैसे छोटे शहर से आकर भारत की कप्तानी करना और 90 टेस्ट मैच खेलना. मुझे लगता है कि उसने कप्तानी के काम को और सम्मानित बना दिया.’ द्रविड़ ने कहा कि धोनी के संन्यास की घोषणा से वह भी स्तब्ध थे. उन्होंने कहा कि अगर भारत ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ मौजूदा श्रृंखला गंवाई नहीं होती तो शायद धोनी अपने करियर पर फैसला करने में और समय लेते.

 

उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि इसकी उम्मीद नहीं थी कि वह श्रृंखला के बीच में ऐसा करेगा. मुझे उम्मीद थी कि वह श्रृंखला के अंत में समीक्षा करेगा क्योंकि भारत को अगले सात या आठ महीने तक टेस्ट क्रिकेट नहीं खेलना.’ द्रविड़ ने कहा, ‘जहां तक मैं धोनी को जानता हूं अगर श्रृंखला हारी नहीं होती तो मुझे नहीं लगता कि वह श्रृंखला के बीच में ऐसा फैसला करता.’ द्रविड़ ने धोनी की कप्तानी शैली की तारीफ की और उन्हें आक्रामक कप्तान करार दिया.

 

उन्होंने कहा, ‘भारत की कप्तानी करते हुए वह कभी रक्षात्मक नहीं हुआ. स्पिनरों के साथ वह हमेशा आक्रमण करता था, स्पिन की अनुकूल पिचों पर वह हमेशा नतीजा हासिल करने की कोशिश करता था. विदेशों में पिछले तीन या चार साल में उसे लगा कि शायद उसके पास ऐसे संसाधन नहीं हैं कि 20 विकेट चटकाए जा सकें.’

 

यह भी पढ़ें-

धोनी के संन्यास के पीछे नौ बड़ी वजहें!

टेस्ट क्रिकेट में धोनी से ऊपर कोई नहीं 

पूर्व कप्तान धोनी के 10 बड़े रिकॉर्ड  

धोनी की कामयाबी के 10 राज 

धोनी के संन्यास पर टिप्पणी करने से इंकार किया भज्जी, युवी ने 

बॉलीवुड ने कहा : धोनी तुम्हारी याद आएगी 

धोनी के साथ अफेयर एक दाग़ है: एक्ट्रेस 

धोनी ने जल्दबाजी में फैसला नहीं लिया: बीसीसीआई

सीरीज हार के बाद बोले धोनी- हमने खुद को परेशान करने के तरीके ढूंढ लिए हैं 

धोनी के संन्यास को लेकर ट्विटर पर संदेशों की बाढ़ 

धोनी कुछ चीज़ों को लेकर नाराज़ चल रहे थे: कोच 

रांची का रैंचो! 

मेलबर्न टेस्ट: जाते-जाते रिकॉर्ड बना गए धोनी

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Dhoni led by example not by rhetoric: Dravid
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: captain Cricket Dhoni dravid test
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017