दिलीप ट्रॉफीः राहुल का एक और शतक, दक्षिण का पलड़ा भारी

By: | Last Updated: Saturday, 1 November 2014 1:00 PM

नई दिल्ली: सलामी बल्लेबाज केएल राहुल ने अपनी शानदार फॉर्म जारी रखते हुए पहली पारी में 185 रन बनाने के बाद दूसरी पारी में नाबाद 121 रन बनाए जिससे मध्य क्षेत्र के 301 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए दक्षिण क्षेत्र ने दिलीप ट्रॉफी क्रिकेट टूर्नामेंट के फाइनल में आज यहां अपना पलड़ा भारी रखा.

 

चौथे दिन का खेल खत्म होने तक दक्षिण क्षेत्र ने एक विकेट पर 184 रन बना लिए थे. राहुल ने अब तक अपनी पारी में 132 गेंद का सामना किया है जिसमें 12 चौके और पांच छक्के शामिल है. वह ऑस्ट्रेलिया के टेस्ट दौरे के लिए तीसरे सलामी बल्लेबाज के स्थान के प्रबल दावेदार के रूप में उभरे हैं. दिलीप ट्राफी फाइनल की दोनों पारियों में शतक ने उनका दावा काफी मजबूत कर दिया है.

 

 

दूसरी पारी में बल्लेबाजी करना अधिक चुनौतीपूर्ण था: राहुल

 

राहुल ने फाइनल में अपने दो शतकों की तुलना करने से इनकार कर दिया लेकिन स्वीकार किया कि दूसरी पारी में बल्लेबाजी अधिक चुनौतीपूर्ण थी क्योंकि पिच धीमी हो गई थी.

 

राहुल ने चौथे दिन का खेल खत्म होने के बाद कहा, ‘‘पहली पारी के विपरीत आज शुरूआत में मैं सहज नहीं था. गेंद बल्ले पर नहीं आ रही थी और उछाल भी असमान था. कुछ गेंद काफी टर्न ले रही थी और विकेट भी काफी टूट गई है.’’ राहुल से जब नाबाद 121 रन की पारी के दौरान कई बार स्वीप शॉट खेलने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘‘गेंद नीची रह रही थी इसलिए सीधे खेलना आसान नहीं था क्योंकि पर्याप्त उंचाई नहीं मिलने पर आप कैच आउट हो सकते थे. इसलिए मैंने स्वीप शॉट खेलने का फैसला किया.’’ मध्य क्षेत्र के 301 रन के लक्ष्य के बारे में पूछने पर राहुल ने कहा, ‘‘चुनौतीपूर्ण से अधिक. यह ऐसा विकेट है जहां आप लंबे समय तक सहज महसूस नहीं कर सकते.’’

 

 

दक्षिण क्षेत्र को अब खिताब जीतने के लिए 117 रन और चाहिए जबकि उसके नौ विकेट शेष हैं.

 

इससे पहले मध्य क्षेत्र के रोबिन बिष्ट ने भी पुछल्ले बल्लेबाजों के सहयोग से नाबाद 112 रन की पारी खेली.

 

टूटती हुई विकेट पर 301 रन का लक्ष्य आसान नहीं था लेकिन राहुल ने शानदार तकनीक और फुटवर्क का नजारा पेश करते हुए दिन के अंतिम दो सत्र में अपनी टीम को मजबूत स्थिति में पहुंचाया.

 

राहुल ने सभी स्पिनरों पीयूष चावला, अली मुर्तजा और जलज सक्सेना पर छक्के मारे. उन्होंने चावला पर मिडविकेट के उपर से छक्का जड़कर शतक पूरा किया.

 

दूसरी पारी में राहुल के दबदबे का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि जब उन्होंने शतक पूरा किया तब टीम का स्कोर सिर्फ 148 रन था. राहुल ने हालांकि शतक पूरा करने के बाद भी एकाग्रता नहीं गंवाई. उन्होंने रोबिन उथप्पा (30) के साथ पहले विकेट के लिए 103 रन की साझेदारी की. दिन का खेल खत्म होने पर बाबा अपराजित 30 रन बनाकर राहुल का साथ निभा रहे थे. इससे पहले बिष्ट ने पहली पारी में शतक से चूकने की भरपाई की. उन्होंेने 174 गेंद मे आठ चौकों और दो छक्कों की मदद से 112 रन बनाए. बिष्ट ने जब 45 रन बनाए थे तब तक सभी विशेषज्ञ बल्लेबाज पवेलियन लौट गए थे लेकिन उन्होंेने पुछल्ले बल्लेबाजों की मदद से शतक पूरा किया.

 

बिष्ट ने अली मुर्तजा (50) के साथ आठवें विकेट के लिए 104 रन की साझेदारी की जिससे टीम ने दूसरी पारी में 403 रन बनाकर 300 रन की बढ़त हासिल की.

 

बिष्ट ने अभिमन्यु मिथुन पर लांग आन पर छक्का जड़कर 163 गेंद में शतक पूरा किया.

 

दक्षिण क्षेत्र की ओर से प्रज्ञान ओझा ने 99 रन देकर तीन जबकि श्रेयास गोपाल ने 60 रन देकर चार विकेट चटकाए.

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: duleep trophy
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017