फरेरो को मंत्र : हार मत मानो, परिस्थिति का सामना करो

By: | Last Updated: Tuesday, 18 November 2014 12:37 PM

नई दिल्ली: यदि कोई टेनिस खिलाड़ी विश्व में नंबर एक बन जाए और फिर अचानक ही ऐसी स्थिति आ जाए कि वह 100 से भी अधिक टूर्नामेंट में कोई एटीपी खिलाब नहीं जीत पाये तो फिर उसे क्या करना चाहिए? तो फिर जुआन कालरेस फरेरो से पूछिये जो 2003 से 2009 तक कोई भी टूर्नामेंट नहीं जीत पाये थे. इस पूर्व नंबर एक खिलाड़ी ने कहा, ‘‘मैंने अभ्यास जारी रखा. महत्वपूर्ण यही है कि आप हार नहीं मानो.’’

 

चैंपियन्स टेनिस लीग (सीटीएल) में भाग लेने के लिये यहां आये 34 वर्षीय फरेरो के करियर का सबसे महत्वपूर्ण दौरान 2003 में आया था जब उन्होंने फ्रेंच ओपन का खिताब जीता. उन्होंने तब सेमीफाइनल में अपने आदर्श और अमेरिका के दिग्गज खिलाड़ी आंद्रे अगासी को हराया था और नंबर एक बने थे. लेकिन इसके तुरंत बाद चोटों और खराब फॉर्म के कारण वह पिछड़ने लगे.

 

फरेरो ने कहा, ‘‘वह मुश्किल दौर था. मैंने टूर्नामेंट जीतने शुरू कर दिये थे लेकिन तभी कुछ चोटों ने मुझे परेशान किया. मेरा पहले जैसा आत्मविश्वास नहीं रहा. ’’ खुद का मनोबल बनाये रखने के लिये उन्होंने क्या किया, इस पर फरेरो ने कहा, ‘‘आप हर साल टूर्नामेंट खेलते हो. लोग बहुत जल्दी हार मान जाते हैं.

 

एक पेशेवर के लिये यह महत्वपूर्ण है कि वह अभ्यास जारी रखे. इससे मुझे फिर से आत्मविश्वास मिला. ’’ फरेरो ने कहा, ‘‘यदि मैं दो खिताब जीतता तो फिर सवाल पैदा होता कि मैंने तीन नहीं जीते. इसलिए मैंने जो कुछ किया उससे मैं खुश हूं. निश्चित तौर पर मैं और टूर्नामेंट जीतना चाहता था लेकिन मैं ऐसा नहीं कर पाया. ’’

 

उन्होंने कहा, ‘‘जब मैं बच्चा था तो मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं वह हासिल कर पाउंगा जो मैंने हासिल किया. मेरे करियर में कुछ महत्वपूर्ण क्षण आये. मैंने डेविस कप (स्पेन के लिये पहला) जीता और फिर ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट जीतने में सफल रहा. किसी भी टेनिस खिलाड़ी के लिये ग्रैंडस्लैम जीतना बड़ी उपलब्धि होती है. इसके बाद मैं नंबर एक बना. मैं अपने पूरे करियर से बहुत खुश हूं. ’’

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: ferero
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017