रणजी मैच में भिड़े गंभीर और तिवारी, मारने की दी धमकी

By: | Last Updated: Saturday, 24 October 2015 11:30 AM
Gambhir, Tiwary nearly exchange blows

नई दिल्ली: फिरोजशाह कोटला स्टेडियम पर दिल्ली के कप्तान गौतम गंभीर और बंगाल के कप्तान मनोज तिवारी के बीच आज यहां रणजी ट्रॉफी मैच के दौरान तीखी झड़प देखने को मिली. इसके बाद गंभीर पर मैच फीस का 70 प्रतिशत और तिवारी पर 40 प्रतिशत जुर्माना लगाया गया. गंभीर और तिवारी पर लगा जुर्माना

 

हालात ऐसे हो गए थे कि अंपायर के श्रीनाथ को बीच बचाव करना पड़ा. गंभीर बंगाल के कप्तान तिवारी को मारने दौड़े और वह भी आक्रामक मुद्रा में उनकी तरफ बढा.

 

गंभीर ने अंपायर श्रीनाथ को भी धक्का दे दिया जो बीच बचाव की कोशिश कर रहे थे. क्रिकेट में अंपायर को छूना बड़ा अपराध होता है जिससे प्रतिबंध भी लग सकता है.

 

यह घटना आठवें ओवर की है जब पार्थसारथी भट्टाचार्य को मनन शर्मा ने आउट किया था. तिवारी चौथे नंबर पर बल्लेबाजी के लिये उतरे. उन्होंने गेंदबाज को रोका और ड्रेसिंग रूम में हेलमेट लाने का इशारा किया. दिल्ली के खिलाड़ियों को लगा कि वह जान बूझकर समय खराब कर रहे हैं.

 

मनन और उनके बीच बहस हुई. अचानक पहली स्लिप में खड़े गंभीर आ गए और बंगाल के कप्तान को गालियां देने लगे जिन्होंने उसी भाषा में जवाब दिया.

 

गंभीर ने कहा ,‘‘शाम को मिल तुझे मारूंगा. ’’ इसके जवाब में तिवारी ने कहा ,‘‘शाम क्या अभी बाहर चल.’’ दोनों को मैच रैफरी वाल्मीक बुच ने तलब किया है.

 

क्या कहा खिलाड़ियों ने –

बाद में तिवारी ने कहा ,‘‘मैं गौतम गंभीर का काफी सम्मान करता हूं लेकिन आज उसने इस तरह के बयान देकर सीमा पार कर दी. उसने व्यक्तिगत बयानबाजी की. मैं स्तब्ध रह गया क्योंकि शुरूआत मैने नहीं की थी. वह मुझे काफी सीनियर है और मैं उनका सम्मान करता हूं.’’ उसने कहा ,‘‘मैने हेलमेट बाउंड्री के पास रखा था क्योंकि वह गीला हो गया था और मैं उसे सुखाना चाहता था. सभी ने उसे देखा और मैने पहले प्रतिक्रिया नहीं दी. उसने मारने की कोशिश की लेकिन मार नहीं सका. उसने अंपायर को भी धक्का दिया. वीडियो में सब कुछ है.’’

 

गंभीर ने कहा कि उन्होंने अंपायर को धक्का नहीं दिया और ना ही तिवारी के खिलाफ अपशब्दों का इस्तेमाल किया उन्होंने कहा ,‘‘ मैं हैरान हूं कि मीडिया के कुछ हलकों में कहा गया कि मैने मैदानी अंपायर को धक्का दिया. यह गलत है. हुआ यह था कि बंगाल के दो विकेट दो रन पर गिरने के बाद मनोज तिवारी बल्लेबाजी के लिये आया. पहली पारी में पिछड़ने के बाद हम सकारात्मक क्रिकेट खेलना चाहते थे. हमने मनोज के आसपास फील्डर लगाकर दबाव बनाने की कोशिश की. उसने गेंद खेलने के लिये ज्यादा समय लिया.’’

 

उन्होंने कहा ,‘‘मेरे साथी खिलाड़ियों ने मनोज को समय बर्बाद नहीं करने के लिये कहा. उसने दिल्ली के खिलाड़ियों को अपशब्द कहने भी शुरू कर दिये. उसी समय मैं आया और मैने अपनी राय जाहिर की. अंपायर ने बीच बचाव करके मामले को संभाला और मसला खत्म हो गया .’’ उन्होंने कहा कि उन्होंने अंपायर या तिवारी को कभी धमकी नहीं दी.

 

दिल्ली के कोच विजय दहिया ने कहा ,‘‘जब दोनों कप्तान जुनूनी हों तो ऐसा होता है. मैच रैफरी इस बारे में फैसला लेंगे. यह पहली या आखिरी बार नहीं हुआ है.’

WATCH: मैच में भिड़े गौतम गंभीर और मनोज तिवारी, दी मारने की धमकी 

बंगाल के गेंदबाज प्रज्ञान ओझा ने कहा ,‘‘क्रिकेट भद्रजनों का खेल है लेकिन ऐसी बातें होती रहती है. ऐसा पहली बार नहीं हुआ है.’’

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Gambhir, Tiwary nearly exchange blows
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: gautam gambhir Manoj Tiwary ranji match
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017