ऐसी गेंदबाजी से कैसे जीतेंगे T-20 विश्व कप?

By: | Last Updated: Tuesday, 19 January 2016 8:04 PM
how india can win t-20 world cup with this bowling attack

नई दिल्लीः लगातार बड़े स्कोर करने के बाद भी कमजोर गेंदबाजी की वजह से टीम इंडिया ऑस्ट्रेलिया में 3-0 से वनडे सीरीज में हार गई. अब खतरा 5-0 की हार का है. ऐसे में सवाल ये है कि क्या धोनी केनबरा में होने वाले चौथे वनडे में हार का ये सिलसिला रोक पाएंगे. क्या ऐसी गेंदबाजी से 48 दिन बाद शुरू हो रहे टी-20 विश्व कप में जीत मिलेगी.

पर्थ वनडे में भारत ने 309 रन बनाए, गेंदबाजों ने पांच विकेट से हरवाया. इसके बाद ब्रिसबेन वनडे में भारत ने 308 रन बनाए, गेंदबाजों ने मेहनत पर पानी फेरा 7 विकेट से टीम को हार मिली. मेलबर्न वनडे में भारत 300 के करीब पहुंचा परिणाम वही गेंदबाजों ने तीन विकेट से हरवाया.

तीन मैच, और तीनों का नतीजा एक जैसा. गेंदबाज टीम इंडिया को जीत नहीं दिला पा रहे हैं. बार-बार लगातार पर सवाल ये कि अगर ये बेकार हैं तो आगे और कौन है

सवाल ये भी है कि क्या टी-20 विश्व कप से पहले गेंदबाजी क्रम को बदल देना चाहिए? या फिर टी-20 विश्व कप तक ये गेंदबाज सुधर जाएंगे?

ऑस्ट्रेलिया में भारतीय बल्लेबाज शतक बना रहे हैं. बड़े स्कोर खड़े कर रहे हैं लेकिन गेंदबाज बड़े से बड़ा स्कोर बचाने में नाकाम रहे हैं. जो मार्च में होने वाले टी-20 विश्व कप से पहले बुरी खबर है.

तेज गेंदबाज हों या स्पिनर सभी फेल रहे हैं. इसी वजह से भारत सीरीज हार गया और अब तो WHITE WASH का खतरा मंडरा रहा है. केनबरा के मैदान पर चौथा वनडे होना है. जिससे पहले गेंदबाजी चिंता की बात बनी हुई है.

उमेश यादव ने 3 मैच 65.3 की औसत से 196 रन दिए हैं और उनके खाते में विकेट आए तीन. गेंदबाजी के लीडर ईशांत ने 37.6 की औसत से 3 विकेट लिए. भुवनेश्वर ने 1 मैच में 9 ओवर में 42 रन दिए उन्हें कोई विकेट नहीं मिला. आर अश्विन को 2 मैच में 64 की औसत से 2 विकेट मिले. वहीं जाडेजा ने 54 की औसत से 3 मैच में सिर्फ 3 विकेट लिए.

T-20 विश्व कप शुरू होने में सिर्फ 48 दिन बाकी हैं. गेंदबाजी का ये हाल टीम इंडिया के लिए शुभ संकेत नहीं है. 8 मार्च से भारत में टी-20 विश्व कप शुरू होना है. माना जा रहा है कि स्पिनर तो भारतीय पिचों पर लय में आ जाएंगे लेकिन तेज गेंदबाजों का क्या होगा

यही एक मुद्दा धोनी और चयनकर्ता को बार बार तंग कर रहा है. अब एक नजर उन गेंदबाजों जो टी-20 विश्व कप के लिए इंडिया की टीम में विकल्प हैं.

36 साल के आशीष नेहरा टी-20 विश्व कप में खेल सकते हैं. ऑस्ट्रेलिया में इसी महीने होने वाली टी-20 सीरीज में वो खेलेंगे. इसके अलावा चोट से उबर रहे मोहम्मद शमी टी-20 विश्व कप में खेल सकते हैं. लेकिन अभी ये साफ नहीं है कि वो मार्च तक फिट हो जाएंगे या नहीं.

घरेलू क्रिकेट में भी तीन तेज गेंदबाज ऐसे हैं जिनका प्रदर्शन उन्हें टी-20 विश्व कप का टिकट दिला सकता है.

सईद मुश्ताक अली टी-20 में इरफान पठान ने 9 मैचों में 16 विकेट लिए. धवल कुलकर्णी 8 मैचों में 15 विकेट ले चुके हैं. आरपी सिंह ने 9 मैचों में 14 विकेट लिए हैं.

विकल्प तो बहुत हैं लेकिन घरेलू क्रिकेट के दम पर इन खिलाड़ियों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर धोनी दोबारा टीम इंडिया में खेलना का मौका देंगे या नहीं ये कहना मुश्किल है.

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: how india can win t-20 world cup with this bowling attack
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017