साइमन कैरिगन को लेकर मेरे मन में डर है: वान

By: | Last Updated: Tuesday, 15 July 2014 11:54 AM
I fear for Simon Kerrigan: Vaughan

लंदन: इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वान ने कहा है कि एक साल पहले एशेज में अपने पदार्पण टेस्ट मैच में बुरे सपने से रू ब रू होने के बाद साइमन कैरिगन भारत के खिलाफ लॉर्डस में अपना दूसरा टेस्ट मैच खेलने के लिये तैयार नहीं हैं. वान ने कहा, ‘‘साइमन कैरिगन को लेकर मेरे मन में डर है. इंग्लैंड ने उसे फिर से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में जल्दी उतार दिया है. ’’

 

कैरिगन को पिछले साल ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ओवल में खेले गये पांचवें टेस्ट मैच के लिये इंग्लैंड की टीम में चुना गया था लेकिन वह अपने चयन को सही साबित करने में नाकाम रहे और उन्होंने केवल आठ ओवर में 53 रन लुटा दिये थे. वह ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज शेन वाटसन के उनके खिलाफ अपनाये गये तीखे तेवरों से कभी नहीं उबर पाये. उन्होंने अपने पहले दो ओवरों में 28 रन दे दिये थे. वान ने कहा कि यदि इस अनुभव की पुनरावृत्ति होती है तो फिर वह कैरिगन के अंतरराष्ट्रीय करियर के लिये अच्छा नहीं होगा.

 

नॉटिंघम में पहला टेस्ट मैच ड्रॉ छूटने के बाद लंकाशर के बायें हाथ के इस स्पिनर को इंग्लैंड की 14 सदस्यीय टीम में शामिल किया गया है. वान ने बीबीसी रेडियो से कहा, ‘‘यदि उसका दूसरा टेस्ट भी बुरा जाता है तो फिर वह उससे कभी नहीं उबर पाएगा. यदि वह गुरूवार को मैदान पर उतरता है और फिर से वाटसन जैसी स्थिति पैदा होती है तो फिर वह लंबे समय तक उससे नहीं उबर पाएगा. ’’

 

कैरिगन ने इस सत्र में लंकाशर के लिये 34.25 की औसत से 28 विकेट लिये हैं, लेकिन वान का कहना है कि बायें हाथ के स्पिनर को अभी काउंटी स्तर पर खुद में अधिक निखार लाना चाहिए.

 

उन्होंने कहा, ‘‘उसने इस सत्र में लंकाशायर की तरफ से कुछ खास नहीं किया. उसकी वापसी के लिये इतनी जल्दबाजी क्यों. लॉर्डस में उस भारतीय बल्लेबाजी लाइन अप के सामने उसे गेंदबाजी करवाना मुझे लगता है सही नहीं है जो कि स्पिन अच्छी तरह से खेल सकती है. ’’

 

इंग्लैंड के पूर्व स्पिनर फिल टफनेल ने कहा , ‘‘यह इस लड़के के लिये भयावह स्थिति होगी. मैं नहीं जानता कि इससे वह कितना प्रभावित हो रहा है. ’’ टफनेल ने साथ ही कहा कि यदि इंग्लैंड को लगता है कि यह खिलाड़ी अच्छा है तो वह उसे उसका चयन करने का अधिकार है.

 

पिछले साल ग्रीम स्वान के संन्यास लेने के बाद इंग्लैंड अदद स्पिनर की तलाश में है तथा उसने भारत और श्रीलंका के खिलाफ बल्लेबाज मोइन अली का कामचलाउ स्पिनर के रूप में उपयोग किया. स्वान का मानना है कि इंग्लैंड के तेज गेंदबाजों पर अतिरिक्त भार के कारण कोच पीटर मूर्स को कैरिगन का चयन करना पड़ा जिसे उन्होंने लंकाशर के साथ रहते हुए कोचिंग दी थी. उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि वह खेलेगा. वह नेट्स पर अच्छी गेंदबाजी कर रहा है और पीटर मूर्स उसे काफी अच्छा स्पिनर मानते हैं. ’’

 

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: I fear for Simon Kerrigan: Vaughan
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017