पुजारा ने कहा, अगर स्लेजिंग से गेंदबाजों को फायदा होता है तो मैं स्लेजिंग करूंगा

By: | Last Updated: Tuesday, 8 August 2017 11:16 PM

कोलंबो: भारतीय मध्यक्रम के बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा को विरोधी टीम के बल्लेबाजों पर छींटाकशी करने के लिए नहीं जाना जाता है, लेकिन अगर इससे गेंदबाजों को मदद मिलती है तो वह ऐसा कर सकते हैं.

पुजारा और अजिंक्य रहाणे ने हाल ही में बीसीसीआई डॉट टीवी से बात चीत की, जिसमें पुजारा ने कहा, ‘‘मैं फीफा (एक गेम) खेलते हुए बहुत शोर करता हूं. और आजकल आप देखते होंगे कि मैं मैदान पर भी काफी शोर करता हूं. मैं धीरे धीरे छींटाकशी सीख रहा हूं. अगर आपको किसी खास बल्लेबाज के खिलाफ छींटाकशी करनी है तो फिर आपको छींटाकशी करनी होगी. इससे गेंदबाजों को मदद मिलती है.’’

इन दोनों खिलाड़ियों ने श्रीलंका के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच के दौरान अपने बीच 217 रन की साझेदारी के बारे में भी बात की, जिससे भारत शुरूआती झटकों से उबर पाया था.

लोग रहाणे को अपने में ही खोया रहने वाला इंसान समझते हैं, लेकिन उनका मानना है कि ऐसा नहीं है.

रहाणे ने अपने साथी के साथ बातचीत में कहा, ‘‘मैं उतना भी शांत नहीं हूं, जितना कि लोग समझते हैं. मुझे बोलना बहुत पसंद है यहां तक कि मैं अपनी पत्नी के साथ काफी बात करता हूं. सच्चाई ये है कि जबसे मेरी शादी हुई है तब से मैं ज्यादा बात करने लग गया हूं.’’

जरूरत पड़ने पर ये दोनों छींटाकशी भी कर सकते हैं लेकिन रहाणे और पुजारा शांत होकर ही अपना काम करते हैं. इससे वह क्रीज पर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हैं.

रहाणे ने कहा, ‘‘मैं बचपन से ही शांत मिजाज का था. ऐसा मेरा पारिवारिक पृष्ठभूमि के कारण है. शांत रहने से मैदान पर खासकर टेस्ट मैचों में काफी मदद मिलती है. हालांकि मैं जितना पहले शांत था अब उतना नहीं हूं.’’ इसके बाद इन दोनों की चर्चा दूसरे टेस्ट मैच में शानदार जीत पर हुई, जिसमें इन दोनों खिलाड़ियों ने अहम भूमिका निभाई.

रहाणे ने कहा, ‘‘यह आसान नहीं था क्योंकि गेंद काफी टर्न कर रही थी. मैंने शुरू में समय लिया. मैं ड्रेसिंग रूम में बैठकर आकलन कर रहा था कि इस पिच पर स्पिनरों के खिलाफ कैसे खेलना है. मैं उन्हें हावी नहीं होने देना चाहता था.’’

रहाणे ने इसके बाद स्लिप फील्डर के तौर पर खुद में काफी सुधार करने पर भी बात की. उन्होंने कहा, ‘‘मुझे याद है कि मैंने अपने शुरूआती दिनों में काफी कैच टपकाये थे. इससे मैं काफी आहत हुआ और मैंने इस पर काम करना शुरू कर दिया. पिछली बार जब हम श्रीलंका आये थे तो मैंने हर अभ्यास सत्र में 100 कैच लेने का फैसला किया था. अब भी मैं अपनी कैचिंग पर काम कर रहा हूं.’’

इन दोनों के बीच बातचीत के आखिर में पुजारा ने बड़े शतक बनाने के अपने कौशल के बारे में बात की. पुजारा ने कहा, ‘‘मुझे याद है कि मैंने अपने पहले अंडर-14 मैच में तिहरा शतक बनाया था. इसकी शुरूआत वहीं से हुई थी. जब मैं सौराष्ट्र के साथ खेल रहा था, तो मुझे लगा कि जब मैं 100 रन के आसपास बनाता हूं तो टीम 250-300 के आसपास आउट हो जाती थी.’’

उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए मुझे लगा कि अगर आपको चार दिवसीय मैचों में जीत दर्ज करनी है तो आपको अपनी टीम के लिए बड़ा स्कोर बनाना ही होगा. उसके लिए केवल शतक पूरा करना काफी नहीं होता है.’’

Cricket News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: पुजारा ने कहा, अगर स्लेजिंग से गेंदबाजों को फायदा होता है तो मैं स्लेजिंग करूंगा
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

पीसीबी को आईसीसी से सुरक्षा मुद्दे पर हरी झंडी मिलने की उम्मीद
पीसीबी को आईसीसी से सुरक्षा मुद्दे पर हरी झंडी मिलने की उम्मीद

कराची: पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) को...

वेस्टइंडीज के खिलाफ इंग्लैंड टीम ने किया सिर्फ एक बदलाव
वेस्टइंडीज के खिलाफ इंग्लैंड टीम ने किया सिर्फ एक बदलाव

बर्मिंघम: वेस्टइंडीज के खिलाफ शुरू हो रहे...

...तो इस वजह से वनडे टीम में युवराज को नहीं मिली जगह!
...तो इस वजह से वनडे टीम में युवराज को नहीं मिली जगह!

नई दिल्ली: श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट सीरीज...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017