ह्यूज की मौत के बाद बेहतर हेलमेट चाहते हैं चिंतित बल्लेबाज

By: | Last Updated: Thursday, 27 November 2014 4:44 PM
indian cricketer

नई दिल्ली: फिलिप ह्यूज की दुखद मौत से क्रिकेट जगत इतना सकते में है कि यहां तक कि भारत के प्रथम श्रेणी में खेलने वाले युवा खिलाड़ी भी सिर की संभावित चोट से बचने के लिये बेहतर हेलमेट की मांग कर रहे हैं. दिल्ली रणजी टीम के संभावित खिलाड़ियों ने आज फिरोजशाह कोटला मैदान पर अभ्यास किया और भारत अंडर-19 के पूर्व कप्तान उन्मुक्त चंद ने कहा कि वह कंपनी को पहले ही कह चुके हैं कि वह उन्हें सबसे नया और बेहतर हेलमेट उपलब्ध कराये.

 

उत्तर क्षेत्र की तरफ से देवधर ट्राफी में खेलने वाले उन्मुक्त ने कहा, ‘‘मैं कल देवधर ट्रॉफी खेलने के लिये जा रहा हूं. मैंने अपने किट प्रायोजक को नयी डिजाइन का हेलमेट भेजने के लिये कहा है. फिल ह्यूज ने मासुरी के पुराने संस्करण का हेलमेट पहना था. नये डिजाइन किये गये हेलमेट में ग्रिल गर्दन तक है. इसलिए आप नाजुक हिस्से के खुले रहने की संभावना को कम कर देते हो. ’’

 

हेलमेट बनाने वाली प्रमुख कंपनी मासुरी ने ‘विजन सीरीज एक्स लाइन’ नाम से नये हेलमेट लेकर आयी है जो पुराने हेलमेट की तुलना में कान के नीचे के हिस्से को भी अच्छी तरह से ढकते हैं. पूर्व भारतीय बल्लेबाज और दिल्ली के कप्तान गौतम गंभीर की सोच हालांकि अलग है. उन्होंने कहा, ‘‘मासुरी सर्वश्रेष्ठ हेलमेट तैयार करती है और आप निर्माता को दोष नहीं दे सकते हो. मैं जो हेलमेट पहनता हूं वह वैसा नहीं है जो ह्यूज पहन रहा था. यह केवल भाग्य की बात है और कुछ नहीं. उनके नाजुक हिस्से में चोट लगी और यह हादसा था. ’’

 

सीनियर ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने कहा यह केवल हेलमेट की बात नहीं है और खिलाड़ियों को बल्लेबाजी के दौरान बचाव के सभी उपकरणों को पहनने के प्रति जागरूक होना चाहिए.

 

उन्होंने कहा, ‘‘यह केवल हेलमेट की बात नहीं है. मैंने देखा है कि कई बल्लेबाज चेस्ट गार्ड नहीं पहनते हैं जो कि गलत है. कुछ का मानना है कि चेस्ट गार्ड पहनने से उनके शरीर के मूवमेंट पर असर पड़ता है लेकिन मुझे कभी ऐसा नहीं लगा. मेरा मानना है कि किसी की छाती या पसली पर भी गंभीर चोट लग सकती है. इसलिए यह केवल हेलमेट ही नहीं बल्कि चेस्ट गार्ड से जुड़ा मसला भी है. ’’

 

पूर्व भारतीय विकेटकीपर और दिल्ली के कोच विजय दहिया का मानना है कि जब से निर्माताओं ने सुरक्षात्मक ग्रिल लगाने की शुरूआत की तब से हेलमेट में सुधार हुआ है. दहिया ने कहा, ‘‘नई ग्रिल लोहे के बजाय टाइटेनियम की बनी है जो बाउंसर लगने पर उसे बेहतर तरह से झेल सकती है. आपको समझना होगा कि यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण घटना है लेकिन यदि हेलमेट में आगे कुछ सुधार किया जा सकता है तो फिर ऐसा करना ठीक है. ’’

 

दिल्ली के विकेटकीपर पुनीत बिष्ट से पूछा गया कि वह अपने अनुकूल हेलमट या बेहतर बचाव वाले हेलमेट में किसे पहनना चाहेंगे, उन्होंने बेहद सपाट जवाब दिया, ‘‘हेलमेट से कुछ नहीं होता है. अगर बॉल पे नाम लिखा होगा तो कुछ नहीं कर सकते. ’’

Sports News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: indian cricketer
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

टेनिस: सिनसिनाटी ओपन के क्वार्टर फाइनल में कोंटा
टेनिस: सिनसिनाटी ओपन के क्वार्टर फाइनल में कोंटा

बासिल: ब्रिटेन की स्टार महिला टेनिस खिलाड़ी योहाना कोंटा ने सिनसिनाटी ओपन टेनिस टूर्नामेंट के...

ENGvsWI: कुक और रूट के शतकों से पहले दिन इंग्लैंड मजूबत
ENGvsWI: कुक और रूट के शतकों से पहले दिन इंग्लैंड मजूबत

बर्मिंघम: पूर्व कप्तान एलिस्टेयर कुक और मौजूदा कप्तान जो रूट की शानदार शतकों की मदद से...

श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज से पहले धोनी ने नेट्स में दिखाया दम
श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज से पहले धोनी ने नेट्स में दिखाया दम

दाम्बुला: 20 अगस्त को श्रीलंका के खिलाफ शुरु...

'यो-यो' से हारे टीम इंडिया के युवराज
'यो-यो' से हारे टीम इंडिया के युवराज

नई दिल्ली: कैंसर को मात देकर क्रिकेट के मैदान पर वापसी करने वाले टीम इंडिया के सिक्सर किंग...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017